Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 May 2018 · 1 min read

रात के 2:55

रात के 2:55 हो रहे हैं
पर नींद कहां मुझे आती है
पहली बार वो झलक
अॉंखो से न जाती है
बार-बार तस्वीर तुम्हारी
दिल में उतारा करते हैं
पिछले कुछ हफ्तों से हम
एैसे ही गुजारा करते हैं
तुमको क्या है खबर हमारी
तुम तो घर में सोए हो
ले जाकर ख्वाब हमारे
मीठे सपनों में खोए हो
बस इतनी सी हसरत मेरी
समझो दिल की बात को
बहुत दु:खी हूं बहुत थका हूं
बहुत जगा हूं रात को
घडींयो की सुईयों से पूछो
रात ये कैसी गुजरी है
वो तुमको समझा देंगी
मेरे दिल के ज्जबात को
हर मिनट तुम्हारा नाम लिया
पल-पल मे तुमको चाहा है
घन्टे भर से बैठा हूं
काटूं कैसे इस रात को

(Kavi lakshya)

Language: Hindi
1 Like · 4 Comments · 502 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
फागुनी धूप, बसंती झोंके
फागुनी धूप, बसंती झोंके
Shweta Soni
* बचाना चाहिए *
* बचाना चाहिए *
surenderpal vaidya
मतदान दिवस
मतदान दिवस
विजय कुमार अग्रवाल
🙂
🙂
Chahat
मैंने एक चांद को देखा
मैंने एक चांद को देखा
नेताम आर सी
3544.💐 *पूर्णिका* 💐
3544.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
महामानव पंडित दीनदयाल उपाध्याय
महामानव पंडित दीनदयाल उपाध्याय
Indu Singh
काफ़ी कुछ लिखकर मिटा दिया गया ;
काफ़ी कुछ लिखकर मिटा दिया गया ;
ओसमणी साहू 'ओश'
Humans and Animals - When When and When? - Desert fellow Rakesh Yadav
Humans and Animals - When When and When? - Desert fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
*पतंग (बाल कविता)*
*पतंग (बाल कविता)*
Ravi Prakash
To my dear Window!!
To my dear Window!!
Rachana
राजनीति की नई चौधराहट में घोसी में सभी सिर्फ़ पिछड़ों की बात
राजनीति की नई चौधराहट में घोसी में सभी सिर्फ़ पिछड़ों की बात
Anand Kumar
मउगी चला देले कुछउ उठा के
मउगी चला देले कुछउ उठा के
आकाश महेशपुरी
कितने एहसास हैं
कितने एहसास हैं
Dr fauzia Naseem shad
श्री गणेश वंदना:
श्री गणेश वंदना:
जगदीश शर्मा सहज
"" *सिमरन* ""
सुनीलानंद महंत
"जब आपका कोई सपना होता है, तो
Manoj Kushwaha PS
#लोकपर्व-
#लोकपर्व-
*प्रणय प्रभात*
सम्मान में किसी के झुकना अपमान नही होता
सम्मान में किसी के झुकना अपमान नही होता
Kumar lalit
खता खतों की नहीं थीं , लम्हों की थी ,
खता खतों की नहीं थीं , लम्हों की थी ,
Manju sagar
हमसफ़र
हमसफ़र
अखिलेश 'अखिल'
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
सरस्वती बंदना
सरस्वती बंदना
Basant Bhagawan Roy
झोली फैलाए शामों सहर
झोली फैलाए शामों सहर
नूरफातिमा खातून नूरी
माह -ए -जून में गर्मी से राहत के लिए
माह -ए -जून में गर्मी से राहत के लिए
सिद्धार्थ गोरखपुरी
चंद्रयान विश्व कीर्तिमान
चंद्रयान विश्व कीर्तिमान
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
मन जो कि सूक्ष्म है। वह आसक्ति, द्वेष, इच्छा एवं काम-क्रोध ज
मन जो कि सूक्ष्म है। वह आसक्ति, द्वेष, इच्छा एवं काम-क्रोध ज
पूर्वार्थ
हम इतने भी मशहूर नहीं अपने ही शहर में,
हम इतने भी मशहूर नहीं अपने ही शहर में,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
-मां सर्व है
-मां सर्व है
Seema gupta,Alwar
"नजरों का तीर"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...