Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Jun 2016 · 1 min read

राज दिल में हमें ये छुपाना पड़ा

राज दिल में हमें ये छुपाना पड़ा
याद को आशियाना बनाना पड़ा

ठोकरें खूब मिलती रहीं राह में
बोझ उनका हमें खुद उठाना पड़ा

अश्क पी -पी के हम जी रहे हैं यहाँ
उनकी खातिर हमें मुस्कुराना पड़ा

जब नज़र से उन्होंने निवेदन किया
गीत फिर प्यार का इक सुनाना पड़ा

रोज सपनों में आने का वादा किया
रात क्या दिन में खुद को सुलाना पड़ा

अर्चना इस जुदाई को सहना कठिन
उनको झूठी खबर से बुलाना पड़ा

2 Comments · 372 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
बस चार ही है कंधे
बस चार ही है कंधे
Rituraj shivem verma
बेसब्री
बेसब्री
PRATIK JANGID
हम हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान है
हम हिन्दी हिन्दू हिन्दुस्तान है
Pratibha Pandey
Blac is dark
Blac is dark
Neeraj Agarwal
मिसाल
मिसाल
Kanchan Khanna
खूब उड़ रही तितलियां
खूब उड़ रही तितलियां
surenderpal vaidya
अतीत का गौरव गान
अतीत का गौरव गान
Shekhar Chandra Mitra
मातर मड़ई भाई दूज
मातर मड़ई भाई दूज
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*ज्यादा से ज्यादा हमको बस, सौ ही साल मिले हैं (गीत)*
*ज्यादा से ज्यादा हमको बस, सौ ही साल मिले हैं (गीत)*
Ravi Prakash
कोशिशें करके देख लो,शायद
कोशिशें करके देख लो,शायद
Shweta Soni
कविता : याद
कविता : याद
Rajesh Kumar Arjun
हिंदी का वर्तमान स्वरूप एवं विकास की संभावना
हिंदी का वर्तमान स्वरूप एवं विकास की संभावना
Shyam Sundar Subramanian
कैसे कहें हम
कैसे कहें हम
Surinder blackpen
बरसात
बरसात
Swami Ganganiya
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
*निकला है चाँद द्वार मेरे*
*निकला है चाँद द्वार मेरे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"आकांक्षा" हिन्दी ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
***
*** " पापा जी उन्हें भी कुछ समझाओ न...! " ***
VEDANTA PATEL
“WE HAVE TO DO SOMETHING”
“WE HAVE TO DO SOMETHING”
DrLakshman Jha Parimal
सुन्दर सलोनी
सुन्दर सलोनी
जय लगन कुमार हैप्पी
लम्हों की तितलियाँ
लम्हों की तितलियाँ
Karishma Shah
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
कहीं  पानी  ने  क़हर  ढाया......
कहीं पानी ने क़हर ढाया......
shabina. Naaz
एक दिन तो कभी ऐसे हालात हो
एक दिन तो कभी ऐसे हालात हो
Johnny Ahmed 'क़ैस'
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
नई सोच का
नई सोच का
Dr fauzia Naseem shad
मिला है जब से साथ तुम्हारा
मिला है जब से साथ तुम्हारा
Ram Krishan Rastogi
कुछ तुम कहो जी, कुछ हम कहेंगे
कुछ तुम कहो जी, कुछ हम कहेंगे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
आने वाले कल का ना इतना इंतजार करो ,
Neerja Sharma
अपनी हसरत अपने दिल में दबा कर रखो
अपनी हसरत अपने दिल में दबा कर रखो
पूर्वार्थ
Loading...