Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Nov 2023 · 1 min read

*राज दिल के वो हम से छिपाते रहे*

राज दिल के वो हम से छिपाते रहे
****************************

राज दिल के वो हम से छुपाते रहे,
रोज खुशियाँ हम उन पर लुटाते रहे।

हाल ए दिल का है क्या बतायें बता,
दाग घावों के हिय से मिटाते रहे।

याद आई उन्हीं की नजर रुक गई,
नैन भर कर आँसू वो रुलाते रहे।

वो घड़ी दुखदायी हो आमने-सामने,
साथ बन कर साया वो निभाते रहे।

खास हम दम हर दम वो हमारे सदा,
हाथ उन से हर दम हम मिलाते रहे।

बाद में जो आए वो हमारा नहीं,
मुश्किलों में मनसीरत हँसाते रहे।
****************************
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेडी राओ वाली +कैथल)

1 Like · 181 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
अपने दिल की कोई जरा,
अपने दिल की कोई जरा,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
"मैं न चाहता हार बनू मैं
Shubham Pandey (S P)
*पुस्तक समीक्षा*
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
शुभकामना संदेश
शुभकामना संदेश
Rajni kapoor
ऐसे भी मंत्री
ऐसे भी मंत्री
Dr. Pradeep Kumar Sharma
‘’The rain drop from the sky: If it is caught in hands, it i
‘’The rain drop from the sky: If it is caught in hands, it i
Vivek Mishra
ज़िन्दगी में सफल नहीं बल्कि महान बनिए सफल बिजनेसमैन भी है,अभ
ज़िन्दगी में सफल नहीं बल्कि महान बनिए सफल बिजनेसमैन भी है,अभ
Rj Anand Prajapati
कहाँ-कहाँ नहीं ढूंढ़ा तुमको
कहाँ-कहाँ नहीं ढूंढ़ा तुमको
Ranjana Verma
मुकम्मल क्यूँ बने रहते हो,थोड़ी सी कमी रखो
मुकम्मल क्यूँ बने रहते हो,थोड़ी सी कमी रखो
Shweta Soni
■सस्ता उपाय■
■सस्ता उपाय■
*Author प्रणय प्रभात*
पितृ दिवस पर....
पितृ दिवस पर....
डॉ.सीमा अग्रवाल
आलोचना - अधिकार या कर्तव्य ? - शिवकुमार बिलगरामी
आलोचना - अधिकार या कर्तव्य ? - शिवकुमार बिलगरामी
Shivkumar Bilagrami
मेरे हमदर्द मेरे हमराह, बने हो जब से तुम मेरे
मेरे हमदर्द मेरे हमराह, बने हो जब से तुम मेरे
gurudeenverma198
अनकहे अल्फाज़
अनकहे अल्फाज़
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
रंगों का त्योहार है होली।
रंगों का त्योहार है होली।
Satish Srijan
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आवाज़ ज़रूरी नहीं,
आवाज़ ज़रूरी नहीं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मैं और दर्पण
मैं और दर्पण
Seema gupta,Alwar
23/72.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/72.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दूसरों को समझने से बेहतर है खुद को समझना । फिर दूसरों को समझ
दूसरों को समझने से बेहतर है खुद को समझना । फिर दूसरों को समझ
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
चन्द्रयान-3
चन्द्रयान-3
कार्तिक नितिन शर्मा
आंख में बेबस आंसू
आंख में बेबस आंसू
Dr. Rajeev Jain
मतदान करो और देश गढ़ों!
मतदान करो और देश गढ़ों!
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
तू इतनी खूबसूरत है...
तू इतनी खूबसूरत है...
आकाश महेशपुरी
एक अच्छी हीलर, उपचारक होती हैं स्त्रियां
एक अच्छी हीलर, उपचारक होती हैं स्त्रियां
Manu Vashistha
दिल की बात बताऊँ कैसे
दिल की बात बताऊँ कैसे
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
विजयी
विजयी
Raju Gajbhiye
भावुक हुए बहुत दिन हो गए
भावुक हुए बहुत दिन हो गए
Suryakant Dwivedi
जो सच में प्रेम करते हैं,
जो सच में प्रेम करते हैं,
Dr. Man Mohan Krishna
💐अज्ञात के प्रति-36💐
💐अज्ञात के प्रति-36💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...