Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Jun 17, 2022 · 3 min read

*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*

*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*
🟨🟨🟨☘️🍂☘️🍂☘️🍂
किंवदंति है कि राजा राम सिंह के नाम पर रामपुर रियासत का नामकरण हुआ था । यह कठेरिया राजपूत हैं, लेकिन रामपुर के इतिहास से संबंधित पुस्तकों में राजा रामसिंह का उल्लेख न के बराबर है ।
*17 जून 2021* को *अमर उजाला* में प्रकाशित *डॉ. अजय अनुपम* के एक लेख से राजा राम सिंह के इतिहास पर प्रकाश पड़ता है । डॉ अजय अनुपम मुरादाबाद के इतिहास पर पीएच.डी. और डी.लिट किए हुए हैं । इस तरह रामपुर का इतिहास हमें मुरादाबाद के इतिहास से पता चलता है । यह इतिहास मुरादाबाद गजेटियर ,कुमायूं का इतिहास तथा ब्रिटिश लाइब्रेरी के दस्तावेजों में प्राप्त होता है।
राजा राम सिंह की हत्या 1626 में शाहजहां के सेनापति रुस्तम खाँ ने की थी । अमर उजाला में प्रकाशित लेख के अनुसार सीधे युद्ध में रुस्तम खाँ राजा राम सिंह पर विजय प्राप्त नहीं कर सका । अतः धोखे से उसने पूजा करते समय राजा राम सिंह की हत्या कर दी थी । तदुपरांत मुरादाबाद क्षेत्र रुस्तम खान के अधिकार में आ गया। उसने पहले इसका नाम रुस्तम नगर रखा तथा बाद में शाहजहां के सामने जाने पर इसका नाम शाहजहां के पुत्र मुराद के नाम पर मुरादाबाद रखा हुआ शाहजहां को बताया। इस तरह राजा रामसिंह के पश्चात उनकी रियासत का एक हिस्सा मुरादाबाद कहलाया। दूसरी तरफ राजा रामसिंह की ही रियासत का एक हिस्सा रामपुर था। इसका नामकरण राजा रामसिंह के नाम पर किया गया था । 1626 के बाद कठेरिया राजपूतों का दबदबा संभवतः बहुत कम होता चला गया 1907 में पहली बार अफगानिस्तान से दाऊद खाँ नाम का एक लड़ाकू योद्धा कठेरिया क्षेत्र में प्रविष्ट हुआ, जिसके पौत्र फैजुल्ला खां को रामपुर रियासत का विधिवत रूप से प्रथम नवाब माना जाता है।
जिस तरह कठेरिया रियासत का एक हिस्सा मुरादाबाद नामकरण के साथ प्रचलन में आ गया ,उसी तरह रामपुर को भी कुछ समय तक मुस्तफाबाद कहने की कोशिश की गई थी । अनेक पुस्तकों में मुस्तफाबाद नाम का उल्लेख आता है। लेकिन बाद में यह रामपुर नाम से ही मशहूर हुआ । इसका अभिप्राय यह है कि रामपुर नाम से राजा रामसिंह की रियासत जानी जाती रही होगी ।
डॉ अजय अनुपम के अनुसार राजा रामसिंह कठेरिया की याद में रामपुर बसाया गया था ,जो बाद में नवाबी रियासत हो गया था । स्मृति में बसाने वाली डॉ अजय अनुपम की अवधारणा सही हो सकती है। लेकिन एक संभावना यह भी है कि राजा रामसिंह ने अपने जीवन काल में इस रियासत का नामकरण रामपुर किया हो।
एक संभावना यह है कि राजा रामसिंह के पश्चात कठेर साम्राज्य छिन्न-भिन्न हो गया तथा कठेर खंड का एक बड़ा हिस्सा मुरादाबाद के नाम से जाना जाने लगा। ऐसे में बाकी हिस्से को रामपुर नाम प्रदान किया गया होगा। इसी के समानांतर रामपुर को मुस्तफाबाद नाम प्रदान करने का प्रयास भी रहा ,जो बाद में असफल सिद्ध हुआ।
बहरहाल इतना तो जरूर हुआ कि रामपुर के इतिहास को जानने के लिए हमें जिस आधारभूत सामग्री की आवश्यकता पड़ेगी, वह रामपुर के इतिहास से हटकर मुरादाबाद और कुमायूं के इतिहास में संग्रहित है तथा ब्रिटिश लाइब्रेरी के दस्तावेजों में उसे खोजा जा सकता है। इतिहास वास्तव में गहन शोध का विषय होता है।
■■■■■■■■■■■■■■■■
*लेखक : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा*
*रामपुर (उत्तर प्रदेश )*
*मोबाइल 99976 15451*

55 Views
You may also like:
अब कैसे कहें तुमसे कहने को हमारे हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
हाइकु:(कोरोना)
Prabhudayal Raniwal
मेरी बेटी है, मेरा वारिस।
लक्ष्मी सिंह
अना दिलों में सभी के....
अश्क चिरैयाकोटी
*अग्रसेन भागवत के महान गायक आचार्य विष्णु दास शास्त्री :...
Ravi Prakash
भारत माँ पे अर्पित कर दूँ
Swami Ganganiya
गरीब आदमी।
Taj Mohammad
सपना
AMRESH KUMAR VERMA
दिल तुम्हें
Dr fauzia Naseem shad
बेवफाई
Anamika Singh
✍️किस्मत ही बदल गयी✍️
'अशांत' शेखर
क्या मेरी कलाई सूनी रहेगी ?
Kumar Anu Ojha
वो मां थी जो आशीष देती रही।
सत्य कुमार प्रेमी
बड़े पाक होते हैं।
Taj Mohammad
अचार का स्वाद
Buddha Prakash
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
पापा
Nitu Sah
सबको दुनियां और मंजिल से मिलाता है पिता।
सत्य कुमार प्रेमी
"स्नेह सभी को देना है "
DrLakshman Jha Parimal
मानव तन
Rakesh Pathak Kathara
Green Trees
Buddha Prakash
♡ भाई-बहन का अमूल्य रिश्ता ♡
Dr.Alpa Amin
मज़हबी उन्मादी आग
Dr. Kishan Karigar
जाने क्यों वो सहमी सी ?
Saraswati Bajpai
नियति
Vikas Sharma'Shivaaya'
जिंदगी की रेस
DESH RAJ
"रिश्ते"
Ajit Kumar "Karn"
दर्द होता है
Dr fauzia Naseem shad
"शौर्यम..दक्षम..युध्धेय, बलिदान परम धर्मा" अर्थात- बहादुरी वह है जो आपको...
Lohit Tamta
कर्मगति
Shyam Sundar Subramanian
Loading...