Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jun 2022 · 2 min read

*राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह*

राजा राम सिंह : रामपुर और मुरादाबाद के पितामह
______________________________________
किंवदंति है कि राजा राम सिंह के नाम पर रामपुर रियासत का नामकरण हुआ था । यह कठेरिया राजपूत हैं, लेकिन रामपुर के इतिहास से संबंधित पुस्तकों में राजा रामसिंह का उल्लेख न के बराबर है ।
17 जून 2021 को अमर उजाला में प्रकाशित डॉ. अजय अनुपम के एक लेख से राजा राम सिंह के इतिहास पर प्रकाश पड़ता है । डॉ अजय अनुपम मुरादाबाद के इतिहास पर पीएच.डी. और डी.लिट किए हुए हैं । इस तरह रामपुर का इतिहास हमें मुरादाबाद के इतिहास से पता चलता है । यह इतिहास मुरादाबाद गजेटियर ,कुमायूं का इतिहास तथा ब्रिटिश लाइब्रेरी के दस्तावेजों में प्राप्त होता है।

राजा राम सिंह की हत्या 1626 में शाहजहां के सेनापति रुस्तम खाँ ने की थी । अमर उजाला में प्रकाशित लेख के अनुसार सीधे युद्ध में रुस्तम खाँ राजा राम सिंह पर विजय प्राप्त नहीं कर सका । अतः धोखे से उसने पूजा करते समय राजा राम सिंह की हत्या कर दी थी । तदुपरांत मुरादाबाद क्षेत्र रुस्तम खान के अधिकार में आ गया। उसने पहले इसका नाम रुस्तम नगर रखा तथा बाद में शाहजहां के सामने जाने पर इसका नाम शाहजहां के पुत्र मुराद के नाम पर मुरादाबाद रखा हुआ शाहजहां को बताया। इस तरह राजा रामसिंह के पश्चात उनकी रियासत का एक हिस्सा मुरादाबाद कहलाया। दूसरी तरफ राजा रामसिंह की ही रियासत का एक हिस्सा रामपुर था। इसका नामकरण राजा रामसिंह के नाम पर किया गया था ।

1626 के बाद कठेरिया राजपूतों का दबदबा संभवतः बहुत कम होता चला गया। 1907 में पहली बार अफगानिस्तान से दाऊद खाँ नाम का एक लड़ाकू योद्धा कठेरिया क्षेत्र में प्रविष्ट हुआ, जिसके पौत्र फैजुल्ला खां को रामपुर रियासत का विधिवत रूप से प्रथम नवाब माना जाता है।
जिस तरह कठेरिया रियासत का एक हिस्सा मुरादाबाद नामकरण के साथ प्रचलन में आ गया ,उसी तरह रामपुर को भी कुछ समय तक मुस्तफाबाद कहने की कोशिश की गई थी । नवाबी दौर की अनेक पुस्तकों में मुस्तफाबाद नाम का उल्लेख आता है। लेकिन बाद में यह रामपुर नाम से ही मशहूर हुआ । इसका अभिप्राय यह है कि रामपुर नाम से राजा रामसिंह की रियासत जानी जाती रही होगी ।
डॉ अजय अनुपम के अनुसार राजा रामसिंह कठेरिया की याद में रामपुर बसाया गया था ,जो बाद में नवाबी रियासत हो गया था ।
इस तरह राजा रामसिंह के पश्चात कठेर साम्राज्य छिन्न-भिन्न हो गया तथा कठेर खंड का एक बड़ा हिस्सा मुरादाबाद के नाम से जाना जाने लगा। ऐसे में बाकी हिस्से को रामपुर नाम प्रदान किया गया । इसी के समानांतर रामपुर को मुस्तफाबाद नाम प्रदान करने का प्रयास भी रहा ,जो बाद में असफल सिद्ध हुआ।
बहरहाल इतना तो जरूर हुआ कि रामपुर के इतिहास को जानने के लिए हमें जिस आधारभूत सामग्री की आवश्यकता पड़ेगी, वह रामपुर के इतिहास से हटकर मुरादाबाद और कुमायूं के इतिहास में संग्रहित है तथा ब्रिटिश लाइब्रेरी के दस्तावेजों में उसे खोजा जा सकता है। इतिहास वास्तव में गहन शोध का विषय होता है।
■■■■■■■■■■■■■■■■
लेखक : रवि प्रकाश ,बाजार सर्राफा
रामपुर (उत्तर प्रदेश )
मोबाइल 99976 15451

1504 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
(14) जान बेवजह निकली / जान बेवफा निकली
(14) जान बेवजह निकली / जान बेवफा निकली
Kishore Nigam
अकेले हुए तो ये समझ आया
अकेले हुए तो ये समझ आया
Dheerja Sharma
खामोशी ने मार दिया।
खामोशी ने मार दिया।
Anil chobisa
जीवन : एक अद्वितीय यात्रा
जीवन : एक अद्वितीय यात्रा
Mukta Rashmi
आजकल रिश्तेदार भी
आजकल रिश्तेदार भी
*प्रणय प्रभात*
विद्याधन
विद्याधन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
अंतस के उद्वेग हैं ,
अंतस के उद्वेग हैं ,
sushil sarna
दुनिया की गाथा
दुनिया की गाथा
Anamika Tiwari 'annpurna '
उमर भर की जुदाई
उमर भर की जुदाई
Shekhar Chandra Mitra
पुष्प
पुष्प
Dinesh Kumar Gangwar
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
काकाको यक्ष प्रश्न ( #नेपाली_भाषा)
काकाको यक्ष प्रश्न ( #नेपाली_भाषा)
NEWS AROUND (SAPTARI,PHAKIRA, NEPAL)
पचीस साल पुराने स्वेटर के बारे में / MUSAFIR BAITHA
पचीस साल पुराने स्वेटर के बारे में / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
लाल रंग मेरे खून का,तेरे वंश में बहता है
लाल रंग मेरे खून का,तेरे वंश में बहता है
Pramila sultan
जै हनुमान
जै हनुमान
Seema Garg
आंखें मूंदे हैं
आंखें मूंदे हैं
इंजी. संजय श्रीवास्तव
अजनबी
अजनबी
Shyam Sundar Subramanian
है जो बात अच्छी, वो सब ने ही मानी
है जो बात अच्छी, वो सब ने ही मानी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ज़िंदादिली
ज़िंदादिली
Dr.S.P. Gautam
2654.पूर्णिका
2654.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"मन भी तो पंछी ठहरा"
Dr. Kishan tandon kranti
एक स्त्री चाहे वह किसी की सास हो सहेली हो जेठानी हो देवरानी
एक स्त्री चाहे वह किसी की सास हो सहेली हो जेठानी हो देवरानी
Pankaj Kushwaha
बड़ा गहरा रिश्ता है जनाब
बड़ा गहरा रिश्ता है जनाब
शेखर सिंह
पुस्तकें
पुस्तकें
डॉ. शिव लहरी
सफलता का जश्न मनाना ठीक है, लेकिन असफलता का सबक कभी भूलना नह
सफलता का जश्न मनाना ठीक है, लेकिन असफलता का सबक कभी भूलना नह
Ranjeet kumar patre
चार बजे
चार बजे
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
कितना मुश्किल है केवल जीना ही ..
कितना मुश्किल है केवल जीना ही ..
Vivek Mishra
*नकली दाँतों से खाते हैं, साठ साल के बाद (हिंदी गजल/गीतिका)*
*नकली दाँतों से खाते हैं, साठ साल के बाद (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
सुकूं आता है,नहीं मुझको अब है संभलना ll
सुकूं आता है,नहीं मुझको अब है संभलना ll
गुप्तरत्न
जीवन की रंगीनियत
जीवन की रंगीनियत
Dr Mukesh 'Aseemit'
Loading...