Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Apr 2018 · 1 min read

राजा भैया

राजा के घर बहना आई
माँ ने बाँटी खूब मिठाई
परी उसे सब घर मे कहते
उसके रोने से भी डरते

बात न राजा को ये भाई
पापा सँग माँ हुई पराई
अब वो गुमसुम सा रहता था
प्यार न बहना को करता था

हरदम ऊधम लगा मचाने
अपनी ओर ध्यान खिंचवाने
दादी ने जब कारण जाना
शुरू किया उसको समझाना

बहना कितनी छोटी प्यारी
उसे जरूरत अभी हमारी
जैसे बड़ा किया है तुमको
ऐसे ही करना अब इसको

दोनों पापा के हो प्यारे
मम्मी के भी राजदुलारे
छोड़ो भी अब गुस्सा करना
घर आई है प्यारी बहना

11-04-2018
डॉ अर्चना गुप्ता

273 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Archana Gupta
View all
You may also like:
घायल मेरा प्यार....!
घायल मेरा प्यार....!
singh kunwar sarvendra vikram
■ जय लोकतंत्र■
■ जय लोकतंत्र■
*प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल _ आज उनको बुलाने से क्या फ़ायदा।
ग़ज़ल _ आज उनको बुलाने से क्या फ़ायदा।
Neelofar Khan
*स्मृति: शिशुपाल मधुकर जी*
*स्मृति: शिशुपाल मधुकर जी*
Ravi Prakash
बहुत याद आता है
बहुत याद आता है
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
ढाई अक्षर वालों ने
ढाई अक्षर वालों ने
Dr. Kishan tandon kranti
आतंकवाद सारी हदें पार कर गया है
आतंकवाद सारी हदें पार कर गया है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
🌹 मैं सो नहीं पाया🌹
🌹 मैं सो नहीं पाया🌹
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
जंग तो दिमाग से जीती जा सकती है......
जंग तो दिमाग से जीती जा सकती है......
shabina. Naaz
ନବଧା ଭକ୍ତି
ନବଧା ଭକ୍ତି
Bidyadhar Mantry
आस्था
आस्था
Neeraj Agarwal
दिल एक उम्मीद
दिल एक उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
जिस मीडिया को जनता के लिए मोमबत्ती बनना चाहिए था, आज वह सत्त
जिस मीडिया को जनता के लिए मोमबत्ती बनना चाहिए था, आज वह सत्त
शेखर सिंह
लाईक और कॉमेंट्स
लाईक और कॉमेंट्स
Dr. Pradeep Kumar Sharma
घड़ी घड़ी में घड़ी न देखें, करें कर्म से अपने प्यार।
घड़ी घड़ी में घड़ी न देखें, करें कर्म से अपने प्यार।
महेश चन्द्र त्रिपाठी
अब कहने को कुछ नहीं,
अब कहने को कुछ नहीं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मैं इंकलाब यहाँ पर ला दूँगा
मैं इंकलाब यहाँ पर ला दूँगा
Dr. Man Mohan Krishna
.
.
Shwet Kumar Sinha
"ഓണാശംസകളും ആശംസകളും"
DrLakshman Jha Parimal
बहुत कीमती है पानी,
बहुत कीमती है पानी,
Anil Mishra Prahari
आँखों में सपनों को लेकर क्या करोगे
आँखों में सपनों को लेकर क्या करोगे
Suryakant Dwivedi
*जब कभी दिल की ज़मीं पे*
*जब कभी दिल की ज़मीं पे*
Poonam Matia
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
काश ! लोग यह समझ पाते कि रिश्ते मनःस्थिति के ख्याल रखने हेतु
काश ! लोग यह समझ पाते कि रिश्ते मनःस्थिति के ख्याल रखने हेतु
मिथलेश सिंह"मिलिंद"
हवा चल रही
हवा चल रही
surenderpal vaidya
मेरा गांव
मेरा गांव
अनिल "आदर्श"
मौज-मस्ती
मौज-मस्ती
Vandna Thakur
3116.*पूर्णिका*
3116.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
ना जाने कैसी मोहब्बत कर बैठे है?
ना जाने कैसी मोहब्बत कर बैठे है?
Kanchan Alok Malu
जीवन अप्रत्याशित
जीवन अप्रत्याशित
पूर्वार्थ
Loading...