Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Mar 2024 · 1 min read

राजस्थानी भाषा में

राजस्थानी भाषा में

💐💐💐दोहा निवेदन💐💐💐

मन म्हारो हुलस रह्यो , दूणो होगो लाभ ।
खवाइशां बढ़ती गई , सागै बढ़गी आभ ।।

भवानी सिंह ‘भूधर’
बड़नगर , जयपुर

1 Like · 70 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
यकीन
यकीन
Dr. Kishan tandon kranti
कुछ
कुछ
Shweta Soni
हर पल ये जिंदगी भी कोई ख़ास नहीं होती।
हर पल ये जिंदगी भी कोई ख़ास नहीं होती।
Phool gufran
उम्मीद रखते हैं
उम्मीद रखते हैं
Dhriti Mishra
एक समझदार व्यक्ति द्वारा रिश्तों के निर्वहन में अचानक शिथिल
एक समझदार व्यक्ति द्वारा रिश्तों के निर्वहन में अचानक शिथिल
Paras Nath Jha
* मिल बढ़ो आगे *
* मिल बढ़ो आगे *
surenderpal vaidya
दिल का तुमसे सवाल
दिल का तुमसे सवाल
Dr fauzia Naseem shad
3315.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3315.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
-- गुरु --
-- गुरु --
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
#मुक्तक
#मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
मंजिल यू‌ँ ही नहीं मिल जाती,
मंजिल यू‌ँ ही नहीं मिल जाती,
Yogendra Chaturwedi
*गीत*
*गीत*
Poonam gupta
कोई नहीं करता है अब बुराई मेरी
कोई नहीं करता है अब बुराई मेरी
gurudeenverma198
ये ढलती शाम है जो, रुमानी और होगी।
ये ढलती शाम है जो, रुमानी और होगी।
सत्य कुमार प्रेमी
भले ई फूल बा करिया
भले ई फूल बा करिया
आकाश महेशपुरी
*बिरहा की रात*
*बिरहा की रात*
Pushpraj Anant
तेरी यादों के आईने को
तेरी यादों के आईने को
Atul "Krishn"
संघर्षों की एक कथाः लोककवि रामचरन गुप्त +इंजीनियर अशोक कुमार गुप्त [ पुत्र ]
संघर्षों की एक कथाः लोककवि रामचरन गुप्त +इंजीनियर अशोक कुमार गुप्त [ पुत्र ]
कवि रमेशराज
नववर्ष 2024 की अशेष हार्दिक शुभकामनाएँ(Happy New year 2024)
नववर्ष 2024 की अशेष हार्दिक शुभकामनाएँ(Happy New year 2024)
आर.एस. 'प्रीतम'
नव्य द्वीप
नव्य द्वीप
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
सावधानी हटी दुर्घटना घटी
सावधानी हटी दुर्घटना घटी
Sanjay ' शून्य'
मस्ती का माहौल है,
मस्ती का माहौल है,
sushil sarna
दहेज.... हमारी जरूरत
दहेज.... हमारी जरूरत
Neeraj Agarwal
भूमि भव्य यह भारत है!
भूमि भव्य यह भारत है!
सत्यम प्रकाश 'ऋतुपर्ण'
उल्लू नहीं है पब्लिक जो तुम उल्लू बनाते हो, बोल-बोल कर अपना खिल्ली उड़ाते हो।
उल्लू नहीं है पब्लिक जो तुम उल्लू बनाते हो, बोल-बोल कर अपना खिल्ली उड़ाते हो।
Anand Kumar
इंसान
इंसान
Vandna thakur
आओ दीप जलायें
आओ दीप जलायें
डॉ. शिव लहरी
*कितनी बार कैलेंडर बदले, साल नए आए हैं (हिंदी गजल)*
*कितनी बार कैलेंडर बदले, साल नए आए हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
डॉ अरूण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैंने बार बार सोचा
मैंने बार बार सोचा
Surinder blackpen
Loading...