Oct 19, 2016 · 1 min read

राजयोगमहागीता:: ध्यान निराकार से तो सुगम साकारकर: जितेन्द्र कमलआनंद( पोस्ट५९)

प्रभु प्रणाम
————-
ध्यान निराकार से तो सुगम साकार कर ,
ह्रदय में सुभावना मोक्ष की जगाइए ।
देवकी के वत्स , मॉ यशोदा के दुलारे रहे,
कृष्णकी सद्भावना , सुधारणा धराइए ।
ध्यान – घाट बैठ बैठ , नित्य सुमिरन कर ,
अंतस में ध्यान परमब्रह्म का लगाइए ।
परम आश्रय सच्चिदानंद – सानिध्य से जो-
मिले वो आनंद रस रस बरसाइए ।।

—– जितेंद्रकमलआनंद

94 Views
You may also like:
श्रीराम गाथा
मनोज कर्ण
*सदा तुम्हारा मुख नंदी शिव की ही ओर रहा है...
Ravi Prakash
कोमल हृदय - नारी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
प्रेम...
Sapna K S
💐💐प्रेम की राह पर-11💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पिता क्या है?
Varsha Chaurasiya
दिये मुहब्बत के...
अरशद रसूल /Arshad Rasool
अभिलाषा
Anamika Singh
डॉ. भीमराव रामजी अम्बेडकर
N.ksahu0007@writer
अद्भभुत है स्व की यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पिता हैं छाँव जैसे
अंकित शर्मा 'इषुप्रिय'
महापंडित ठाकुर टीकाराम 18वीं सदीमे वैद्यनाथ मंदिर के प्रधान पुरोहित
श्रीहर्ष आचार्य
खिले रहने का ही संदेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
तो पिता भी आसमान है।
Taj Mohammad
मेरा बचपन
Ankita Patel
बेजुबान
Anamika Singh
【7】** हाथी राजा **
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
*झाँसी की क्षत्राणी । (झाँसी की वीरांगना/वीरनारी)
Pt. Brajesh Kumar Nayak
ग़ज़ल
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
स्याह रात ने पंख फैलाए, घनघोर अँधेरा काफी है।
Manisha Manjari
रेलगाड़ी- ट्रेनगाड़ी
Buddha Prakash
माँ
आकाश महेशपुरी
फीका त्यौहार
पाण्डेय चिदानन्द
पिया-मिलन
Kanchan Khanna
ज़िंदगी मयस्सर ना हुई खुश रहने की।
Taj Mohammad
हवाओं को क्या पता
Anuj yadav
🌺🌺प्रेम की राह पर-47🌺🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
पाखंडी मानव
ओनिका सेतिया 'अनु '
हर साल क्यों जलाए जाते हैं उत्तराखंड के जंगल ?
Deepak Kohli
विरह वेदना जब लगी मुझे सताने
Ram Krishan Rastogi
Loading...