Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Oct 2016 · 1 min read

राजयोगमहागीता:: गुरुप्रणाम:: मेरेतो परमात्मा : जितेन्द्र कमल आनंद ( पोस्ट६२)

गुरु प्रणाम:: घनाक्षरी
—————————
मेरे तो परमात्मा ही सद्गुरु परब्रह्म
जिससे होना है मुझे सागर के पार है ।
‘ एकमेवपरब्रह्म’ कहकर गुरुवर ,
कराते हैं विदित उसे जो सारात्सार है ।
स्वर्णिम शुभम् यह हितकर है, आश्चर्य !
जिससे ब्रह्माण्ड ही यह निज संसार है।
करते प्रणाम उन्हें हम तो कोटि कोटिश:
जिससे सुखद यह निज परिवार है।।३!!

—– जितेन्द्र कमल आनंद

Language: Hindi
283 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
महव ए सफ़र ( Mahv E Safar )
महव ए सफ़र ( Mahv E Safar )
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
Music and Poetry
Music and Poetry
Shivkumar Bilagrami
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
रखो कितनी भी शराफत वफा सादगी
Mahesh Tiwari 'Ayan'
मिट्टी का बदन हो गया है
मिट्टी का बदन हो गया है
Surinder blackpen
■ जानवर कहीं के...!!
■ जानवर कहीं के...!!
*Author प्रणय प्रभात*
"पहले मुझे लगता था कि मैं बिका नही इसलिए सस्ता हूँ
दुष्यन्त 'बाबा'
जीवन के बसंत
जीवन के बसंत
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
इंसान भी तेरा है
इंसान भी तेरा है
Dr fauzia Naseem shad
जो लोग अपनी जिंदगी से संतुष्ट होते हैं वे सुकून भरी जिंदगी ज
जो लोग अपनी जिंदगी से संतुष्ट होते हैं वे सुकून भरी जिंदगी ज
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
नैनों में प्रिय तुम बसे....
नैनों में प्रिय तुम बसे....
डॉ.सीमा अग्रवाल
8) “चन्द्रयान भारत की शान”
8) “चन्द्रयान भारत की शान”
Sapna Arora
जनता देख रही है खड़ी खड़ी
जनता देख रही है खड़ी खड़ी
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मै भटकता ही रहा दश्त ए शनासाई में
मै भटकता ही रहा दश्त ए शनासाई में
Anis Shah
मौसम का क्या मिजाज है मत पूछिए जनाब।
मौसम का क्या मिजाज है मत पूछिए जनाब।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
डॉ निशंक बहुआयामी व्यक्तित्व शोध लेख
डॉ निशंक बहुआयामी व्यक्तित्व शोध लेख
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आप और हम जीवन के सच................एक सोच
आप और हम जीवन के सच................एक सोच
Neeraj Agarwal
कब बरसोगें
कब बरसोगें
Swami Ganganiya
सर्द ऋतु का हो रहा है आगमन।
सर्द ऋतु का हो रहा है आगमन।
surenderpal vaidya
सुहाग रात
सुहाग रात
Ram Krishan Rastogi
फूलों से हँसना सीखें🌹
फूलों से हँसना सीखें🌹
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अतिथि देवो न भव
अतिथि देवो न भव
Satish Srijan
प्यार को प्यार ही रहने दो कोई नाम न दो : संजना
प्यार को प्यार ही रहने दो कोई नाम न दो : संजना
डॉ. एम. फ़ीरोज़ ख़ान
मुक्तक-
मुक्तक-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
*मुस्कराकर डग को भरता हूँ (हिंदी गजल/गीतिका)*
*मुस्कराकर डग को भरता हूँ (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
नसीहत
नसीहत
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
एहसासों से हो जिंदा
एहसासों से हो जिंदा
Buddha Prakash
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
मैंने कहा मुझे कयामत देखनी है ,
मैंने कहा मुझे कयामत देखनी है ,
Vishal babu (vishu)
"ये कलम"
Dr. Kishan tandon kranti
किसी को अपने संघर्ष की दास्तान नहीं
किसी को अपने संघर्ष की दास्तान नहीं
Jay Dewangan
Loading...