Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Oct 2016 · 1 min read

राजयोगमहागीता: गुरुप्रणाम:: जितेंद्रकमलआनंद ( पोस्ट६५)

गुरुप्रणाम::: ( घनाक्षरी छंद ६)
————————————–
सुख दुख शीत, उष्णादि द्वन्दों से रहित जो–
व्योम के समान , सूक्ष्म , नित्य अविराम हैं ।
निर्मल अचल और हैं ध्यान गुरु मूर्ति जो —
श्वेत कमलासीन व ललित ललाम हैं ।
सद्गुरु ही जो आत्मा हैं गुरु ही साक्षात शिव ,
गुरु ही मीत मेरे बांधव अभिराम हैं ।
हैं योग क्षेम अचिंतय , अव्यक्त , त्रिगुणातीत
ऐसे सद्गुरु को हम करते प्रणाम हैं ।।

—— जितेन्द्र कमल आनंद

Language: Hindi
348 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तन्हाई
तन्हाई
Rajni kapoor
*योग-दिवस (बाल कविता)*
*योग-दिवस (बाल कविता)*
Ravi Prakash
जब अपने ही कदम उलझने लगे अपने पैरो में
जब अपने ही कदम उलझने लगे अपने पैरो में
'अशांत' शेखर
एक जिंदगी एक है जीवन
एक जिंदगी एक है जीवन
विजय कुमार अग्रवाल
कवि होश में रहें / MUSAFIR BAITHA
कवि होश में रहें / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
ये आज़ादी होती है क्या
ये आज़ादी होती है क्या
Paras Nath Jha
अंगार
अंगार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
उसने कहा....!!
उसने कहा....!!
Kanchan Khanna
हो गया तुझसे, मुझे प्यार खुदा जाने क्यों।
हो गया तुझसे, मुझे प्यार खुदा जाने क्यों।
सत्य कुमार प्रेमी
मोहब्बत की दुकान और तेल की पकवान हमेशा ही हानिकारक होती है l
मोहब्बत की दुकान और तेल की पकवान हमेशा ही हानिकारक होती है l
Ashish shukla
नज़्म
नज़्म
Shiva Awasthi
आज के समय में शादियों की बदलती स्थिति पर चिंता व्यक्त की है।
आज के समय में शादियों की बदलती स्थिति पर चिंता व्यक्त की है।
पूर्वार्थ
राजभवनों में बने
राजभवनों में बने
Shivkumar Bilagrami
কুয়াশার কাছে শিখেছি
কুয়াশার কাছে শিখেছি
Sakhawat Jisan
चंद अशआर -ग़ज़ल
चंद अशआर -ग़ज़ल
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
आजाद लब
आजाद लब
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
सामी विकेट लपक लो, और जडेजा कैच।
सामी विकेट लपक लो, और जडेजा कैच।
दुष्यन्त 'बाबा'
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की   कोशिश मत करना
इस टूटे हुए दिल को जोड़ने की कोशिश मत करना
Anand.sharma
बैर भाव के ताप में,जलते जो भी लोग।
बैर भाव के ताप में,जलते जो भी लोग।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
वजूद पे उठते सवालों का जवाब ढूंढती हूँ,
वजूद पे उठते सवालों का जवाब ढूंढती हूँ,
Manisha Manjari
सिर्फ व्यवहारिक तौर पर निभाये गए
सिर्फ व्यवहारिक तौर पर निभाये गए
Ragini Kumari
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मन की किताब
मन की किताब
Neeraj Agarwal
गूंजेगा नारा जय भीम का
गूंजेगा नारा जय भीम का
Shekhar Chandra Mitra
ग़ज़ल
ग़ज़ल
कवि रमेशराज
सामाजिक बहिष्कार हो
सामाजिक बहिष्कार हो
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
#संस्मरण
#संस्मरण
*Author प्रणय प्रभात*
उड़ चल रे परिंदे....
उड़ चल रे परिंदे....
जगदीश लववंशी
ईमानदारी
ईमानदारी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गुरुकुल स्थापित हों अगर,
गुरुकुल स्थापित हों अगर,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...