Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Aug 2023 · 1 min read

राजनीति की नई चौधराहट में घोसी में सभी सिर्फ़ पिछड़ों की बात

राजनीति की नई चौधराहट में घोसी में सभी सिर्फ़ पिछड़ों की बात कर रहे हैं। अरे भाई बात सभी का करो, क्या पिछड़ा, क्या अगड़ा क्या दलित।
चुनाव बाद तो तुम भूल जाओगे, काम ऐसा करो जो एकता के सूत्र में पिरोने का हो। हम चाँद पर पंहुच गए और तुम धरातल पर लड़खड़ा रहे हो…
जय हिन्द जय भारत

मेरी कलम से…
आनन्द कुमार

479 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिसके हृदय में जीवों के प्रति दया है,
जिसके हृदय में जीवों के प्रति दया है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
■ प्रसंगवश....
■ प्रसंगवश....
*प्रणय प्रभात*
लोग आसमां की तरफ देखते हैं
लोग आसमां की तरफ देखते हैं
VINOD CHAUHAN
दान
दान
Neeraj Agarwal
कब मेरे मालिक आएंगे!
कब मेरे मालिक आएंगे!
Kuldeep mishra (KD)
कवि
कवि
Pt. Brajesh Kumar Nayak
चाँद से मुलाकात
चाँद से मुलाकात
Kanchan Khanna
कविता: मेरी अभिलाषा- उपवन बनना चाहता हूं।
कविता: मेरी अभिलाषा- उपवन बनना चाहता हूं।
Rajesh Kumar Arjun
ख़्वाब ख़्वाब ही रह गया,
ख़्वाब ख़्वाब ही रह गया,
अजहर अली (An Explorer of Life)
संवेदन-शून्य हुआ हर इन्सां...
संवेदन-शून्य हुआ हर इन्सां...
डॉ.सीमा अग्रवाल
बुद्ध पुर्णिमा
बुद्ध पुर्णिमा
Satish Srijan
विवाह रचाने वाले बंदर / MUSAFIR BAITHA
विवाह रचाने वाले बंदर / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
चाहो जिसे चाहो तो बेलौस होके चाहो
चाहो जिसे चाहो तो बेलौस होके चाहो
shabina. Naaz
Banaras
Banaras
Sahil Ahmad
माँ-बाप का किया सब भूल गए
माँ-बाप का किया सब भूल गए
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*विभाजित जगत-जन! यह सत्य है।*
*विभाजित जगत-जन! यह सत्य है।*
संजय कुमार संजू
भक्ति की राह
भक्ति की राह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
महामोदकारी छंद (क्रीड़ाचक्र छंद ) (18 वर्ण)
महामोदकारी छंद (क्रीड़ाचक्र छंद ) (18 वर्ण)
Subhash Singhai
परीक्षा
परीक्षा
इंजी. संजय श्रीवास्तव
नीरोगी काया
नीरोगी काया
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
लोग चाहते हैं कि आप बेहतर करें
लोग चाहते हैं कि आप बेहतर करें
Virendra kumar
***
*** " आधुनिकता के असर.......! " ***
VEDANTA PATEL
In the midst of a snowstorm of desirous affection,
In the midst of a snowstorm of desirous affection,
Sukoon
लिखते हैं कई बार
लिखते हैं कई बार
Shweta Soni
करो पढ़ाई
करो पढ़ाई
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चलो
चलो
हिमांशु Kulshrestha
हम तो अपनी बात कहेंगें
हम तो अपनी बात कहेंगें
अनिल कुमार निश्छल
*ले औषधि संजीवनी, आए रातों-रात (कुछ दोहे)*
*ले औषधि संजीवनी, आए रातों-रात (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
Mere papa
Mere papa
Aisha Mohan
खुद को पागल मान रहा हु
खुद को पागल मान रहा हु
भरत कुमार सोलंकी
Loading...