Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jan 2023 · 1 min read

रहे टनाटन गात

बर्गर मैगी पिज्जा ब्रेड से
बढ़ जाएगा वेट |
आतें दुर्बल होयेगी
निकल आएगा पेट।

निकल आएगा पेट
शेप हो गड़बड़ तन का।
केलोस्ट्रोल सुगर बढ़े,
हानि हो जीवन का ।

डाइट्री फाइवर, फ्रूट, मिल्क,
खाइये अंकुरित ग्रेन ।
लिवर किडनी फिट रहे,
तंदुरुस्त हो ब्रेन |

बढ़िया भोजन रोटी सब्जी
संग में दाल व भात।
थोड़ा गर सैलेड मिल जाये
रहे टनाटन गात।

सतीश सृजन, लखनऊ.

Language: Hindi
2 Likes · 33 Views
You may also like:
अब इस मुकाम पर आकर
अब इस मुकाम पर आकर
shabina. Naaz
ਪਛਤਾਵਾ ਰਹਿ ਗਿਆ ਬਾਕੀ
ਪਛਤਾਵਾ ਰਹਿ ਗਿਆ ਬਾਕੀ
Surinder blackpen
औरतों की तालीम
औरतों की तालीम
Shekhar Chandra Mitra
*कृपा मालिक है तेरी,  सौ दफा है शुक्रिया तेरा  (गीत)*
*कृपा मालिक है तेरी, सौ दफा है शुक्रिया तेरा (गीत)*
Ravi Prakash
तितली
तितली
Manshwi Prasad
बेटी से मुस्कान है...
बेटी से मुस्कान है...
जगदीश लववंशी
आखिर में मर जायेंगे सब लोग अपनी अपनी मौत,
आखिर में मर जायेंगे सब लोग अपनी अपनी मौत,
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
रूख हवाओं का
रूख हवाओं का
Dr fauzia Naseem shad
*
*"शबरी"*
Shashi kala vyas
हवा
हवा
पीयूष धामी
पुरुष की अभिलाषा स्त्री से
पुरुष की अभिलाषा स्त्री से
Anju ( Ojhal )
💐अज्ञात के प्रति-133💐
💐अज्ञात के प्रति-133💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रंग मे रंगोली मे गीत मे बोली
रंग मे रंगोली मे गीत मे बोली
Vindhya Prakash Mishra
सुबह की एक किरण
सुबह की एक किरण
कवि दीपक बवेजा
देश हे अपना
देश हे अपना
Swami Ganganiya
अद्भुत सितारा
अद्भुत सितारा
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
राम सिया की होली देख अवध में, हनुमंत लगे हर्षांने।
राम सिया की होली देख अवध में, हनुमंत लगे हर्षांने।
राकेश चौरसिया
करीबे दिल लगते हो।
करीबे दिल लगते हो।
Taj Mohammad
. खुशी
. खुशी
Vandana Namdev
“उच्छृंखलता सदैव घातक मानी जाती है”
“उच्छृंखलता सदैव घातक मानी जाती है”
DrLakshman Jha Parimal
ईश्वर का उपहार है जीवन
ईश्वर का उपहार है जीवन
gurudeenverma198
हम उसी समाज में रहते हैं...जहाँ  लोग घंटों  घंटों राम, कृष्ण
हम उसी समाज में रहते हैं...जहाँ लोग घंटों घंटों राम,...
ruby kumari
हिम्मत से हौसलों की, वो उड़ान बन गया।
हिम्मत से हौसलों की, वो उड़ान बन गया।
Manisha Manjari
■ आज का ज्ञान...
■ आज का ज्ञान...
*Author प्रणय प्रभात*
Sukun-ye jung chal rhi hai,
Sukun-ye jung chal rhi hai,
Sakshi Tripathi
मेनाद
मेनाद
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
कह दो ना उस मौत से अपने घर चली जाये,
कह दो ना उस मौत से अपने घर चली जाये,
Sarita Pandey
【26】*हम हिंदी हम हिंदुस्तान*
【26】*हम हिंदी हम हिंदुस्तान*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
यथार्थ से दूर
यथार्थ से दूर "सेवटा की गाथा" आदर्श स्तम्भ
Er.Navaneet R Shandily
Loading...