Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jan 2023 · 1 min read

रहे टनाटन गात

बर्गर मैगी पिज्जा ब्रेड से
बढ़ जाएगा वेट |
आतें दुर्बल होयेगी
निकल आएगा पेट।

निकल आएगा पेट
शेप हो गड़बड़ तन का।
केलोस्ट्रोल सुगर बढ़े,
हानि हो जीवन का ।

डाइट्री फाइवर, फ्रूट, मिल्क,
खाइये अंकुरित ग्रेन ।
लिवर किडनी फिट रहे,
तंदुरुस्त हो ब्रेन |

बढ़िया भोजन रोटी सब्जी
संग में दाल व भात।
थोड़ा गर सैलेड मिल जाये
रहे टनाटन गात।

सतीश सृजन, लखनऊ.

Language: Hindi
1 Like · 153 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Satish Srijan
View all
You may also like:
भाई बहन का प्रेम
भाई बहन का प्रेम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
सच बोलने वाले के पास कोई मित्र नहीं होता।
सच बोलने वाले के पास कोई मित्र नहीं होता।
Dr MusafiR BaithA
दिल में एहसास
दिल में एहसास
Dr fauzia Naseem shad
3306.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3306.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
तुम ख्वाब हो।
तुम ख्वाब हो।
Taj Mohammad
RATHOD SRAVAN WAS GREAT HONORED
RATHOD SRAVAN WAS GREAT HONORED
राठौड़ श्रावण लेखक, प्रध्यापक
यादों के छांव
यादों के छांव
Nanki Patre
गीत गा लअ प्यार के
गीत गा लअ प्यार के
Shekhar Chandra Mitra
नाम बनाने के लिए कभी-कभी
नाम बनाने के लिए कभी-कभी
शेखर सिंह
नज़्म/कविता - जब अहसासों में तू बसी है
नज़्म/कविता - जब अहसासों में तू बसी है
अनिल कुमार
दुनिया से सीखा
दुनिया से सीखा
Surinder blackpen
*आज छपा जो समाचार वह, कल बासी हो जाता है (हिंदी गजल)*
*आज छपा जो समाचार वह, कल बासी हो जाता है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
तुम्हारे इश्क में इतने दीवाने लगते हैं।
तुम्हारे इश्क में इतने दीवाने लगते हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
उसे आज़ का अर्जुन होना चाहिए
उसे आज़ का अर्जुन होना चाहिए
Sonam Puneet Dubey
World Dance Day
World Dance Day
Tushar Jagawat
अंबेडकरवादी विचारधारा की संवाहक हैं श्याम निर्मोही जी की कविताएं - रेत पर कश्तियां (काव्य संग्रह)
अंबेडकरवादी विचारधारा की संवाहक हैं श्याम निर्मोही जी की कविताएं - रेत पर कश्तियां (काव्य संग्रह)
आर एस आघात
तिरंगा बोल रहा आसमान
तिरंगा बोल रहा आसमान
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मेरा घर
मेरा घर
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
"मुरीद"
Dr. Kishan tandon kranti
मिताइ।
मिताइ।
Acharya Rama Nand Mandal
दोहा
दोहा
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
जीवन के अंतिम पड़ाव पर लोककवि रामचरन गुप्त द्वारा लिखी गयीं लघुकथाएं
जीवन के अंतिम पड़ाव पर लोककवि रामचरन गुप्त द्वारा लिखी गयीं लघुकथाएं
कवि रमेशराज
तस्वीर!
तस्वीर!
कविता झा ‘गीत’
मनुष्य की महत्ता
मनुष्य की महत्ता
ओंकार मिश्र
रातों की सियाही से रंगीन नहीं कर
रातों की सियाही से रंगीन नहीं कर
Shweta Soni
विघ्न-विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
विघ्न-विनाशक नाथ सुनो, भय से भयभीत हुआ जग सारा।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
“गर्व करू, घमंड नहि”
“गर्व करू, घमंड नहि”
DrLakshman Jha Parimal
■ अधूरी बात सुनी थी ना...? अब पूरी पढ़ और समझ भी लें अच्छे से
■ अधूरी बात सुनी थी ना...? अब पूरी पढ़ और समझ भी लें अच्छे से
*Author प्रणय प्रभात*
खोखली बातें
खोखली बातें
Dr. Narendra Valmiki
बोलो क्या कहना है बोलो !!
बोलो क्या कहना है बोलो !!
Ramswaroop Dinkar
Loading...