Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jan 2017 · 1 min read

रहमत से भरपूर ,खुदा की नेमत हैं “ये बेटियाँ”

18th may,2012
रहमत से भरपूर हैं खुदा की नेमत हैं ” ये बेटियाँ ”
——————————-
जब भी गुड्डे गुड्डीओं के खेल में
अपनी गुड़िया को मैने डोली में बिठाया था
उसका हाथ बड़े प्यार से गुड्डे को थमाया था
नम हो आई थी मेरी आँखें भी
तब यह मन न समझ पाया था 
क्यों?
उस बेजान गुड़िया के लिए तब मेरा दिल रोया था
जिसे ना मैने पाला था,ना जिसका बीज बोया था
फिर कैसे?
अधखिली कली को खिलने से पहले ही कुचल डालते हैं
अगर भूल से खिल जाए तो घृणा से उसे पालते हैं
आख़िर क्यों?
माँ को ही सहना पड़ता हमेशा अपमान है
बेटी हो या बेटा यह तो बाप का योगदान है
अगर 
‘भ्रूण हत्या’ को रोककर  ‘बेटी’ नहीं बचाओगे 
तो ‘बेटा’ पैदा करने को ‘बहु’ कहाँ से लाओगे 
इसलिए
शादी का लड्डू जो ना खा पाए वो तरसेंगे
जब बेटी रूपी नेमत के फूल ना बरसेंगे
तब
कहाँ से लाओगे दुल्हन जो पिया मन भाए
जो हैं नखरे वाले सब कंवारे ही रह जाएँ
लो कसम
यह कलंक समाज से आज ही हटाना है
बेटी को बचाना है,बस बेटी को बचाना है

Language: Hindi
432 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
है प्यार तो जता दो
है प्यार तो जता दो
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
किसी की गलती देखकर तुम शोर ना करो
किसी की गलती देखकर तुम शोर ना करो
कवि दीपक बवेजा
"चांदनी के प्रेम में"
Dr. Kishan tandon kranti
तौबा ! कैसा यह रिवाज
तौबा ! कैसा यह रिवाज
ओनिका सेतिया 'अनु '
अकेले हुए तो ये समझ आया
अकेले हुए तो ये समझ आया
Dheerja Sharma
और तो क्या ?
और तो क्या ?
gurudeenverma198
*हम विफल लोग है*
*हम विफल लोग है*
पूर्वार्थ
भारतीय लोकतांत्रिक व्यवस्था का भविष्य
भारतीय लोकतांत्रिक व्यवस्था का भविष्य
Shyam Sundar Subramanian
अधि वर्ष
अधि वर्ष
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
सत्य की खोज
सत्य की खोज
dks.lhp
आज बहुत याद करता हूँ ।
आज बहुत याद करता हूँ ।
Nishant prakhar
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
थकावट दूर करने की सबसे बड़ी दवा चेहरे पर खिली मुस्कुराहट है।
Rj Anand Prajapati
कहां गए वे शायर?
कहां गए वे शायर?
Shekhar Chandra Mitra
कता
कता
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
जमाने के रंगों में मैं अब यूॅ॑ ढ़लने लगा हूॅ॑
जमाने के रंगों में मैं अब यूॅ॑ ढ़लने लगा हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
खुले आँगन की खुशबू
खुले आँगन की खुशबू
Manisha Manjari
इतना तो आना चाहिए
इतना तो आना चाहिए
Anil Mishra Prahari
🙅ओनली पूछिंग🙅
🙅ओनली पूछिंग🙅
*Author प्रणय प्रभात*
🌺हे परम पिता हे परमेश्वर 🙏🏻
🌺हे परम पिता हे परमेश्वर 🙏🏻
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
3168.*पूर्णिका*
3168.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दयालू मदन
दयालू मदन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
तुम पंख बन कर लग जाओ
तुम पंख बन कर लग जाओ
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
💐प्रेम कौतुक-318💐
💐प्रेम कौतुक-318💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मुझे आशीष दो, माँ
मुझे आशीष दो, माँ
Ghanshyam Poddar
किसी रोज मिलना बेमतलब
किसी रोज मिलना बेमतलब
Amit Pathak
अमृत वचन
अमृत वचन
Dp Gangwar
(आखिर कौन हूं मैं )
(आखिर कौन हूं मैं )
Sonia Yadav
*गुरु (बाल कविता)*
*गुरु (बाल कविता)*
Ravi Prakash
प्यार में ही तकरार होती हैं।
प्यार में ही तकरार होती हैं।
Neeraj Agarwal
भगवान
भगवान
Anil chobisa
Loading...