Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
29 Jun 2016 · 1 min read

रहमतें

हँसी खुशी चल रही थी जिन्दगी
फिर वो काली रात आ गयी
नींव ही खुदी थी आशियाने की
भारी आँधी बरसात आ गयी
कोसते रहे इस मौसम को हम
मन में भीगने की बात आ गयी
भीगने निकले ही थे बाहर घर से
धूप भी हमारे ही साथ आ गयी
हर तरह खुद को ढाल लिया हमने
तोड़ने हर बार कायनात आ गयी

“सन्दीप कुमार “

Language: Hindi
Tag: कविता
326 Views
You may also like:
ज़िंदगी मौत को तरसती है
Dr fauzia Naseem shad
ये उम्मीद की रौशनी, बुझे दीपों को रौशन कर जातीं...
Manisha Manjari
विपक्ष की सुझबुझ
Shekhar Chandra Mitra
Book of the day: मैं और तुम (काव्य संग्रह)
Sahityapedia
चाँद ......
लक्ष्मण 'बिजनौरी'
दिल का मोल
Vikas Sharma'Shivaaya'
इश्क एक बिमारी है तो दवाई क्यू नही
Anurag pandey
मैथिली भाषा/साहित्यमे समस्या आ समाधान
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
अधर मौन थे, मौन मुखर था...
डॉ.सीमा अग्रवाल
लो अब निषादराज का भी रामलोक गमन
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
✍️अमृताचे अरण्य....!✍️
'अशांत' शेखर
Revenge shayari
★ IPS KAMAL THAKUR ★
देश हे अपना
Swami Ganganiya
परमात्मतत्वस्य प्राप्तया: सर्वे अधिकारी
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
रक्षा बंधन :दोहे
Sushila Joshi
" tyranny of oppression "
DESH RAJ
हंसगति छंद , विधान और विधाएं
Subhash Singhai
आदमी आदमी के रोआ दे
आकाश महेशपुरी
देखा है जब से तुमको
Ram Krishan Rastogi
"सुन नारी मैं माहवारी"
Dr Meenu Poonia
बच्चों में नहीं पनप रहे संस्कार
Author Dr. Neeru Mohan
“ ईमानदार चोर ”
DrLakshman Jha Parimal
*जैसे खिले गुलाब (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आईना किसी को बुरा नहीं बताता है
कवि दीपक बवेजा
गुरु तुम क्या हो यार !
jaswant Lakhara
मां की परीक्षा
Seema 'Tu hai na'
*अदब *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जज बना बे,
Dr.sima
ओ भोले भण्डारी
Anamika Singh
रात चांदनी का महताब लगता है।
Taj Mohammad
Loading...