Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Apr 2018 · 1 min read

रहबर मार डालेगा

बह्र-हज़ज मुसम्मन सालिम
वज्न-1222 1222 1222 1222
ग़ज़ल

बड़ा ही कातिलाना हुस्ने दिलबर मार डालेगा।
गज़ब ढाता सितम मुझ पर सितमगर मार डालेगा।।

ज़रा सी बात पर तुमने कहा है बेवफ़ा मुझको।
उछाला लफ़्ज का तुमने वो पत्थर मार डालेगा।

सरे महफ़िल लगाते हो गले मेरे रकीबों को।
लगा है पीठ पर मेरीे ये खंज़र मार डालेगा।।

मेरी हर हाल में अब तो समझिये मौत पक्की है।
अगर बच पाया रहजन से तो रहबर मार डालेगा।।

बड़ा है ज़ोर तूफ़ां का समंदर में सफ़ीना है।
हिफाजत कर मेरे मौला बवंडर मार डालेगा।।

मेरी खानाबदोशी का अनीशअब ख़ुद ही वाइस हूं।
मैं ढूढ़ू लफ़्ज का गौहर ये गौहर मार डालेगा।।
********
-अनीश शाह सांईंखेड़ा नरसिंहपुर (म.प्र.)
मो.8319681252
रकीब=प्रतिस्पर्धी।रहजन=लुटेरा।रहबर=हमराही।
सफ़ीना=नाव।

338 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
क्या
क्या
Dr. Kishan tandon kranti
नफरतों के जहां में मोहब्बत के फूल उगाकर तो देखो
नफरतों के जहां में मोहब्बत के फूल उगाकर तो देखो
VINOD CHAUHAN
बचपन याद किसे ना आती💐🙏
बचपन याद किसे ना आती💐🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
जो मेरा है... वो मेरा है
जो मेरा है... वो मेरा है
Sonam Puneet Dubey
2741. *पूर्णिका*
2741. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*
*"बीजणा" v/s "बाजणा"* आभूषण
लोककवि पंडित राजेराम संगीताचार्य
“ भाषा की मृदुलता ”
“ भाषा की मृदुलता ”
DrLakshman Jha Parimal
जब कोई दिल से जाता है
जब कोई दिल से जाता है
Sangeeta Beniwal
बीते कल की क्या कहें,
बीते कल की क्या कहें,
sushil sarna
*अध्याय 11*
*अध्याय 11*
Ravi Prakash
Just a duty-bound Hatred | by Musafir Baitha
Just a duty-bound Hatred | by Musafir Baitha
Dr MusafiR BaithA
शमशान और मैं l
शमशान और मैं l
सेजल गोस्वामी
दीवाली
दीवाली
Mukesh Kumar Sonkar
लेकिन क्यों ?
लेकिन क्यों ?
Dinesh Kumar Gangwar
***** सिंदूरी - किरदार ****
***** सिंदूरी - किरदार ****
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बेटियां
बेटियां
Ram Krishan Rastogi
लघुकथा - घर का उजाला
लघुकथा - घर का उजाला
अशोक कुमार ढोरिया
लोग जाने किधर गये
लोग जाने किधर गये
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
जीवन में सफलता छोटी हो या बड़ी
जीवन में सफलता छोटी हो या बड़ी
Dr.Rashmi Mishra
O YOUNG !
O YOUNG !
SURYA PRAKASH SHARMA
- दीवारों के कान -
- दीवारों के कान -
bharat gehlot
इश्क़ भी इक नया आशियाना ढूंढती है,
इश्क़ भी इक नया आशियाना ढूंढती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
वृक्षारोपण का अर्थ केवल पौधे को रोपित करना ही नहीं बल्कि उसक
वृक्षारोपण का अर्थ केवल पौधे को रोपित करना ही नहीं बल्कि उसक
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
राखी सबसे पर्व सुहाना
राखी सबसे पर्व सुहाना
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
..
..
*प्रणय प्रभात*
"मिलते है एक अजनबी बनकर"
Lohit Tamta
पौधरोपण
पौधरोपण
Dr. Pradeep Kumar Sharma
राजनीति में इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि क्या मूर्खता है
राजनीति में इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ता कि क्या मूर्खता है
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
न‌ वो बेवफ़ा, न हम बेवफ़ा-
न‌ वो बेवफ़ा, न हम बेवफ़ा-
Shreedhar
वक़्त के साथ
वक़्त के साथ
Dr fauzia Naseem shad
Loading...