Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Feb 2017 · 1 min read

रस्म अदायगी

पति के मृत्यु की सुचना आई थी। साथ ही सन्देश भी,”पत्नी तो तुम ही हो, चिता को अग्नि बड़ा बेटा ही तो देता हैं।”
परिवार और स्वयं उसने अपमान कर जब बीस साल पूर्व निकाला था तब क्या? जाना तो था ही।
आँखों की नमी तो बीस साल में सूख चुकी थी।खुसुर-फुसुर शुरू थी, कैसे श्रृंगार करके आयी है।और ना जाने क्या-क्या?
ना जाने मेरे धीर-गंभीर पुत्र को क्या हुआ”चलो माँ,मै आपके लिए आया था, किसी रस्म अदायगी के लिये नहीं,मेरी माँ और पिता दोनों आप हैं। रही बात श्रृंगार की तो वो मेरी माँ का शौक हैं और उसे वे निरंतर करती रहेंगी।”

Language: Hindi
1 Like · 320 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हिजरत - चार मिसरे
हिजरत - चार मिसरे
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
चली पुजारन...
चली पुजारन...
डॉ.सीमा अग्रवाल
अज्ञात है हम भी अज्ञात हो तुम भी...!
अज्ञात है हम भी अज्ञात हो तुम भी...!
Aarti sirsat
जब आए शरण विभीषण तो प्रभु ने लंका का राज दिया।
जब आए शरण विभीषण तो प्रभु ने लंका का राज दिया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
कुछ करा जाये
कुछ करा जाये
Dr. Rajeev Jain
" बंध खोले जाए मौसम "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
वक्त के साथ-साथ चलना मुनासिफ है क्या
वक्त के साथ-साथ चलना मुनासिफ है क्या
कवि दीपक बवेजा
बावजूद टिमकती रोशनी, यूं ही नहीं अंधेरा करते हैं।
बावजूद टिमकती रोशनी, यूं ही नहीं अंधेरा करते हैं।
ओसमणी साहू 'ओश'
मां कृपा दृष्टि कर दे
मां कृपा दृष्टि कर दे
Seema gupta,Alwar
दोस्ती का रिश्ता
दोस्ती का रिश्ता
विजय कुमार अग्रवाल
घर जला दिए किसी की बस्तियां जली
घर जला दिए किसी की बस्तियां जली
कृष्णकांत गुर्जर
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
अबोध अंतस....
अबोध अंतस....
Santosh Soni
* हो जाता ओझल *
* हो जाता ओझल *
surenderpal vaidya
पांव में मेंहदी लगी है
पांव में मेंहदी लगी है
Surinder blackpen
मुद्दत से तेरे शहर में आना नहीं हुआ
मुद्दत से तेरे शहर में आना नहीं हुआ
Shweta Soni
अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद
अमर शहीद चंद्रशेखर आजाद
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"" *गीता पढ़ें, पढ़ाएं और जीवन में लाएं* ""
सुनीलानंद महंत
ख़त्म हुआ जो
ख़त्म हुआ जो
Dr fauzia Naseem shad
हिन्दुत्व_एक सिंहावलोकन
हिन्दुत्व_एक सिंहावलोकन
मनोज कर्ण
ज़िंदगी उससे है मेरी, वो मेरा दिलबर रहे।
ज़िंदगी उससे है मेरी, वो मेरा दिलबर रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
जब कोई शब् मेहरबाँ होती है ।
जब कोई शब् मेहरबाँ होती है ।
sushil sarna
"भावुकता का तड़का।
*प्रणय प्रभात*
दिल ऐसी चीज़ है जो किसी पर भी ग़ालिब हो सकती है..
दिल ऐसी चीज़ है जो किसी पर भी ग़ालिब हो सकती है..
पूर्वार्थ
छैल छबीली
छैल छबीली
Mahesh Tiwari 'Ayan'
मां की महत्ता
मां की महत्ता
Mangilal 713
जिंदगी तुझको सलाम
जिंदगी तुझको सलाम
gurudeenverma198
दोहा
दोहा
Ravi Prakash
"पानी-पूरी"
Dr. Kishan tandon kranti
भाव तब होता प्रखर है
भाव तब होता प्रखर है
Dr. Meenakshi Sharma
Loading...