Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Dec 2022 · 1 min read

रविवार को छुट्टी भाई (समय सारिणी)

सप्ताह में दिन हैं सात।
आओ कर लें इनकी बात।।
छः दिन की है यहां पढ़ाई।
सतवें दिन है छुट्टी भाई।।
सोम, मंगल, बुध।
हिन्दी पढ़िये शुद्ध।।
गुरु, शुक्र को एक पढ़ाई।
अंग्रेजी रटना है भाई/
पर्यावरण को जानो भाई।।
आता जब जब शनिवार।
संस्कृत पढ़ते हैं यार।।
रविवार को छुट्टी भाई।
करते हैं हम खूब घुमाई।।
✍️जटाशंकर”जटा”

140 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
3540.💐 *पूर्णिका* 💐
3540.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
"न टूटो न रुठो"
Yogendra Chaturwedi
मेरी फितरत है, तुम्हें सजाने की
मेरी फितरत है, तुम्हें सजाने की
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दिन सुहाने थे बचपन के पीछे छोड़ आए
दिन सुहाने थे बचपन के पीछे छोड़ आए
इंजी. संजय श्रीवास्तव
एक शकुन
एक शकुन
Swami Ganganiya
" फेसबूक फ़्रेंड्स "
DrLakshman Jha Parimal
भूल कर
भूल कर
Dr fauzia Naseem shad
Biography Sauhard Shiromani Sant Shri Dr Saurabh
Biography Sauhard Shiromani Sant Shri Dr Saurabh
World News
मुझे जगा रही हैं मेरी कविताएं
मुझे जगा रही हैं मेरी कविताएं
Mohan Pandey
जीवन दर्शन मेरी नजर से ...
जीवन दर्शन मेरी नजर से ...
Satya Prakash Sharma
"लबालब समन्दर"
Dr. Kishan tandon kranti
समझदार व्यक्ति जब संबंध निभाना बंद कर दे
समझदार व्यक्ति जब संबंध निभाना बंद कर दे
शेखर सिंह
गुज़र गयी है जिंदगी की जो मुश्किल घड़ियां।।
गुज़र गयी है जिंदगी की जो मुश्किल घड़ियां।।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
*बूढ़ा दरख्त गाँव का *
*बूढ़ा दरख्त गाँव का *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जो संघर्ष की राह पर चलते हैं, वही लोग इतिहास रचते हैं।।
जो संघर्ष की राह पर चलते हैं, वही लोग इतिहास रचते हैं।।
Lokesh Sharma
जी करता है...
जी करता है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
पिछले पन्ने 3
पिछले पन्ने 3
Paras Nath Jha
अवधी गीत
अवधी गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
खाटू श्याम जी
खाटू श्याम जी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
बेटी ही बेटी है सबकी, बेटी ही है माँ
बेटी ही बेटी है सबकी, बेटी ही है माँ
Anand Kumar
गाली भरी जिंदगी
गाली भरी जिंदगी
Dr MusafiR BaithA
बीती रात मेरे बैंक खाते में
बीती रात मेरे बैंक खाते में
*प्रणय प्रभात*
*अम्मा जी से भेंट*
*अम्मा जी से भेंट*
Ravi Prakash
तुम ही रहते सदा ख्यालों में
तुम ही रहते सदा ख्यालों में
Dr Archana Gupta
कलम लिख दे।
कलम लिख दे।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सब्र का बांँध यदि टूट गया
सब्र का बांँध यदि टूट गया
Buddha Prakash
She never apologized for being a hopeless romantic, and endless dreamer.
She never apologized for being a hopeless romantic, and endless dreamer.
Manisha Manjari
তার চেয়ে বেশি
তার চেয়ে বেশি
Otteri Selvakumar
जिंदगी भी फूलों की तरह हैं।
जिंदगी भी फूलों की तरह हैं।
Neeraj Agarwal
आजकल रिश्तें और मक्कारी एक ही नाम है।
आजकल रिश्तें और मक्कारी एक ही नाम है।
Priya princess panwar
Loading...