Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jun 2017 · 3 min read

रमेशराज के विरोधरस के दोहे

क्रन्दन चीख-पुकार पर दूर-दूर तक मौन
आज जटायू कह रहा ‘सीता मेरी कौन‘?
+रमेशराज

बल पा ख़ूनी शेर का शेर बनें खरगोश
यही शेर ठंडा करे कल को इनका जोश |
+रमेशराज

चीर बढ़ाने के लिए नहीं उठेगा हाथ
दुर्योधन के साथ है अब का दीनानाथ |
+रमेशराज

करता खल की वन्दना, सज्जन को गरियाय
कौरव-कुल का साथ ही अब तो कवि को भाय |
+रमेशराज

अन्जाने भय से ग्रसित रहा निरंतर काँप
लगता आज विपक्ष को सूँघ गया है सांप |
+रमेशराज

लोकतंत्र में लोक की कर दी हालत दीन
पत्रकार बगुला बने, जनता जैसे मीन |
+रमेशराज

एक सुलगते प्रश्न को पूछ रहा है यक्ष
दुबक गया किस लोक में जाकर आज विपक्ष |
+रमेशराज

उत्पीड़न-अन्याय लखि नहीं खौलता रक्त
हम सब होते जा रहे रक्तबीज के भक्त |
+रमेशराज

देव-सरीखे ‘सोच’ की आफत में है जान
छल भोले को पा गया भस्मासुर वरदान |
+रमेशराज

होगी लघु उद्योग पर माना भीषण चोट
रोजगार देगा मगर, कल सबको रोबोट |
+रमेशराज

सदियों से जिसको मिली “ भाट “ नाम से ख्याति
न्यूज़-चैनलों पर दिखे इस युग वही प्रजाति |
+रमेशराज

अब तो अति मजबूत हैं कौरव-दल के हाथ
चक्रब्यूह को मिल गया पत्रकार का साथ |
+रमेशराज

जुटे यज्ञ करने यहाँ कुछ चैनल-अख़बार
बस जनता की दे रहे आहुतियाँ मक्कार |
+रमेशराज

जन-सेवक तेरे लिए लाये दारू-भाँग
इनसे कपड़े-रोटियां ओ जनता मत मांग |
+रमेशराज

अपनी कटती ज़ेब पर ये रहता है मौन
इस गूंगे युग को जुबां बोलो देगा कौन ?
+रमेशराज

सूरदास जैसे नयन हमको हैं बेकार
हम अंधे धृतराष्ट्र हैं , संजय ज्यों अख़बार |
+रमेशराज

शब्द-शक्तियों को किया अब सत्ता ने अंध
सम्प्रदाय की आ रही अब कविता से गंध |
+रमेशराज

धर्म-जाति की सब लिए हाथों में शमशीर
महंगाई से जो लड़े , दिखे न ऐसा वीर |
+रमेशराज

गोरे बन्दर की जगह काले बन्दर आज
इस आज़ादी पर करें कैसे भैया नाज़ |
+रमेशराज

चाल हमारे हाथ पर उसके हाथ रिमोट
गिरनी है अब सांप के मुँह में ही हर गोट |
+रमेशराज

सत्ता के उपहास को जनता जाती भूल
रोज मनाते आ रहे नेता अप्रिल-फूल |
+रमेशराज

दिए सियासी फैसले मुंसिफ ने इस बार
सुबकन-सिसकन से भरे जनता के अधिकार |
+रमेशराज

अब क्या होगा बोलिए शंकर भोलेनाथ
नेताजी को मिल गया पत्रकार का साथ |
+रमेशराज

तूने जो वादे किये मुकर गयी हर बार
राजनीति तेरा बता मुंह है या मलद्वार |
+रमेशराज

गुब्बारों से आलपिन जता रही है प्यार
क्यों न समझ आता तुझे सत्ता का व्यवहार |
+रमेशराज

हुआ आज सद्भाव का ज़हरीला मकरंद
देशभक्त कहने लगा अपने को जयचंद |
+रमेशराज

मीरजाफरों के लिए वक़्त हुआ अनुकूल
इनके हाथों में दिखें देशभक्ति के फूल |
+रमेशराज

पेट्रोल का साथ ले कहता है अंगार
मैं लाऊँगा मुल्क में अमन-चैन इस बार |
+रमेशराज

भक्तो लड्डू बांटिए प्रगट न कीजे खेद
हर नेता की हो गयी काली भैंस सफेद |
+रमेशराज

रक्तसनी तलवार सँग जिनके हैं अब ठाठ
सहनशीलता का हमें सिखा रहे हैं पाठ |
+रमेशराज

देशभक्ति के नाम पर प्रचलन में यह राग
सहनशील अब जल नहीं, सहनशील है आग |
+रमेशराज

हर गर्दन इस दौर में घोषित है गद्दार
सहनशील अब बन गये बस चाकू-तलवार |
+रमेशराज

पत्रकार का हो गया नेता से गठजोड़
दोनों मिलकर देश की बाँहें रहे मरोड़ |
+रमेशराज
—————————————————————
रमेशराज, 15/109, ईसानगर, अलीगढ़-202001
Mo.-9634551630

Language: Hindi
434 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तुझसे है मुझे प्यार ये बतला रहा हूॅं मैं।
तुझसे है मुझे प्यार ये बतला रहा हूॅं मैं।
सत्य कुमार प्रेमी
संसार है मतलब का
संसार है मतलब का
अरशद रसूल बदायूंनी
सांत्वना
सांत्वना
भरत कुमार सोलंकी
अपने
अपने
Shyam Sundar Subramanian
💐प्रेम कौतुक-166💐
💐प्रेम कौतुक-166💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बुज़ुर्गो को न होने दे अकेला
बुज़ुर्गो को न होने दे अकेला
Dr fauzia Naseem shad
पर्यायवरण (दोहा छन्द)
पर्यायवरण (दोहा छन्द)
नाथ सोनांचली
एक लेख...…..बेटी के साथ
एक लेख...…..बेटी के साथ
Neeraj Agarwal
पति मेरा मेरी जिंदगी का हमसफ़र है
पति मेरा मेरी जिंदगी का हमसफ़र है
VINOD CHAUHAN
जिसकी जिससे है छनती,
जिसकी जिससे है छनती,
महेश चन्द्र त्रिपाठी
दलित साहित्यकार कैलाश चंद चौहान की साहित्यिक यात्रा : एक वर्णन
दलित साहित्यकार कैलाश चंद चौहान की साहित्यिक यात्रा : एक वर्णन
Dr. Narendra Valmiki
लिख के उंगली से धूल पर कोई - संदीप ठाकुर
लिख के उंगली से धूल पर कोई - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
नमो-नमो
नमो-नमो
Bodhisatva kastooriya
श्रृंगार
श्रृंगार
Neelam Sharma
शून्य से अनन्त
शून्य से अनन्त
The_dk_poetry
Gairo ko sawarne me khuch aise
Gairo ko sawarne me khuch aise
Sakshi Tripathi
अधूरी रह जाती दस्तान ए इश्क मेरी
अधूरी रह जाती दस्तान ए इश्क मेरी
Er. Sanjay Shrivastava
वो जो तू सुन नहीं पाया, वो जो मैं कह नहीं पाई,
वो जो तू सुन नहीं पाया, वो जो मैं कह नहीं पाई,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
साधु की दो बातें
साधु की दो बातें
Dr. Pradeep Kumar Sharma
हीरा उन्हीं को  समझा  गया
हीरा उन्हीं को समझा गया
दुष्यन्त 'बाबा'
*स्वर्ग तुल्य सुन्दर सा है परिवार हमारा*
*स्वर्ग तुल्य सुन्दर सा है परिवार हमारा*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
"पापा की परी"
Yogendra Chaturwedi
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
हे देवाधिदेव गजानन
हे देवाधिदेव गजानन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
2402.पूर्णिका
2402.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
भैया दूज (हिंदी गजल/गीतिका)
भैया दूज (हिंदी गजल/गीतिका)
Ravi Prakash
*दीपावली का ऐतिहासिक महत्व*
*दीपावली का ऐतिहासिक महत्व*
Harminder Kaur
नया सवेरा
नया सवेरा
AMRESH KUMAR VERMA
"What comes easy won't last,
पूर्वार्थ
Loading...