Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Feb 2017 · 4 min read

रमेशराज के पर्यावरण-सुरक्षा सम्बन्धी बालगीत

।। खुशबू भरी कथाएँ पेड़ ।।
————————————–
रंग-विरंगे फूलों वाली
ले आयें कविताएँ पेड़।
गाओ-गाओ गीत वसंती
हम सबको बतलाएँ पेड़।

डाल-डाल पर कूके कोयल
सबका मन हरषाती है
पात-पात पर मधुर फाग की
रचने लगे ऋचाएँ पेड़।

पीले वसन ओढ़कर बोले
सरसों-दल यूँ हौले-से
हर वसंत में यूँ ही लाते
खूशबू-भरी कथाएँ पेड़।

मत कर देना मार कुल्हाड़ी
इनका तन कोई घायल
करें सदा ही जंगल-जंगल
मस्ती-भरी सभाएँ पेड़।
+रमेशराज

।। सरसों के फूल ।।
आयी-आयी ऋतु वसंत की
बोल रहे सरसों के फूल।
पीत-वसन ओढ़े मस्ती में
डोले रहे सरसों के फूल।

चाहे जिधर निकलकर जाओ
छटा निराली खेतों की
नित्य हवा में भीनी खुशबू
घोल रहे सरसों के फूल।

इनकी प्यारी-प्यारी बातें
बड़े प्यार से सुनती हैं
तितली रानी के आगे मन
खोल रहे सरसों के फूल।

लाओ झांझ-मजीरे लाओ
इनको आज बजाओ रे
हम गाते हैं गीत वसंती
बोल रहे सरसों के फूल।
+रमेशराज

|| पेड़ आदमी से बोले ||
——————————
हम फल-फूल दिया करते हैं
खूशबू से उपवन भरते हैं
खाद मिले सबके खेतों को
इस कारण पत्ते झरते हैं,
तू पाता जब हमसे औषधि
लिये कुल्हाड़ी क्यों डोले
पेड़ आदमी से बोले।

कल तू बेहद पछतायेगा
हम को काट न कुछ पायेगा
हम बिन जब वर्षा कम होगी
भू पर मरुथल बढ़ जायेगा
फिर न मिटेगा रे जल-संकट
तू चाहे जितना रोले
पेड़ आदमी से बोले।

कीमत कुछ तो आँक हमारी
हमें चीरती है यदि आरी
कौन प्रदूषण तब रोकेगा ?
प्राणवायु खत्म हो सारी
क्या कर डाला, कल सोचेगा
अब चाहे हमको खो ले
पेड़ आदमी से बोले।
+रमेशराज

।। पेड़ कुल्हाड़ी से बोले ।।
———————————
हमने फूल खिलाये प्यारे
मोहक होते दृश्य हमारे।
हम पथिकों को देते छाया
हमसे महँकें उपवन सारे।
फिर क्यों तू हमको काटे री!
फल देंगे, ले आ झोले
पेड़ कुल्हाड़ी से बोले।

हम पर पक्षी करें वसेरा
हमसे प्राणवायु का डेरा,
नफरत करना कभी न सीखे
हमने सब पर प्यार उकेरा।
नफरत के फिर बोल किसलिए
दाग रही है तू गोले
पेड़ कुल्हाड़ी से बोले।

चाहे तो कुछ ईंधन ले जा
औषधियाँ या चन्दन ले जा
हम दे देंगे जो माँगेगी
फूल-पत्तियों का धन ले जा
काट न जड़ से किंतु हमें तू
हम तो हैं बिलकुल भोले
पेड़ कुल्हाड़ी से बोले।

इतना सुन रो पड़ी कुल्हाड़ी
बोली-मानव बड़ा अनाड़ी,
व्यर्थ तुम्हें मुझसे कटवाता
तुमसे शोभित खेत-पहाड़ी।
अरी कुल्हाड़ी यू मत रो री!
अरी बहन तू चुप हो ले
पेड़ कुल्हाड़ी से बोले।
+रमेशराज

|| पेड़ लगाओ ||
——————————
हरे-भरे यदि जंगल हों तो
आसमान पर बादल होंगे।

यदि जंगल के पेड़ कटेंगे
भूजल-स्तर और घटेंगे।

अगर अधिक होता वन-दोहन
हो जायेगा मरुमय जीवन।

नम जलवायु खुश्क हो सारी
यदि पेड़ों पर चले कुल्हाड़ी।

पेड़ो से विकसित जन-जीवन
पेड़ दिया करते आॅक्सीजन।

प्राण-वायु के पेड़ खजाने
मत आना तुम इन्हें गिराने।

हरे-भरे वन से जीवन है
फूल दवाएँ जल ईंधन है।

अगर कटे वन, जल का संकट
अन्न बनेगा कल का संकट।

आओ सोनू-मोनू आओ
पेड़ न काटो, पेड़ लगाओ।
+रमेशराज

|| हम है पेड़ न आरी लाना ||
———————————–
फूलों की कविताएँ रचकर
खुशबू-भरी कथाएँ रचकर,
हमने सबका मन हर पाया
रंगों-भरी ऋचाएँ रचकर।
हमसे सीखो तुम मुस्काना
हम हैं पेड़, न आरी लाना।|

मेघों का यदि तुम जल चाहो
मीठे-मीठे जो फल चाहो,
हमें न चीरो-हमें न काटो
हरे-भरे यदि जंगल चाहो।
तपती धूप, छाँव तुम पाना
साथ न बन्धु कुल्हाड़ी लाना।|

औषधियों के हैं कुबेर हम
तुमको स्वस्थ रखेंगे हरदम,
सीखे नहीं हानि पहुँचाना
हम बबूल नीम या शीशम |
हमसे मत तुम बैर निभाना
करते विनती, हमें बचाना।|
+रमेशराज

।। हमें न चीरो-हमें न काटो।।
हम सबको जीवन देते हैं
महँक-भरा चन्दन देते हैं
वर्षा में सहयोग हमारा
औषधियाँ ईंधन देते हैं
हम करते हैं बातें प्यारी
हमसे दूर रखो तुम आरी।

हमसे है साँसों की सरगम
स्वच्छ वायु हम देते हरदम,
फूल और फल भी पाते हो
काँप रहे पर तुम्हें देख हम
पादप वृक्ष वल्लरी झाड़ी
क्यों ले आये बन्धु कुल्हाड़ी।

बाढ़ रोकना काम हमारा
जन-कल्याण हमारा नारा
दूर प्रदूषण को करते हैं
हर पक्षी का हमीं सहारा
हमको मत टुकड़ों में बाँटो
हमें न चीरो-हमें न काटो।
+रमेशराज

।। होते है कविताएँ पेड़ ।।
——————————-
यहाँ सदा से पूजे जाते
बने देव प्रतिमाएँ पेड़।
बस्ती-बस्ती स्वच्छ वायु की
रचते रोज ऋचाएँ पेड़।

सुन्दर-सुन्दर फूलों वाली
लिखें रोज हँसिकाएँ पेड़
नयी-नयी उसमें खुशबू की
भर देते उपमाएँ पेड़।

सूरज जब गर्मी फैलाए
धूप बने जब भी अंगारा
पथिकों से ऐसे में कहते
शीतल छाँव-कथाएँ पेड़।

न्यौछावर अपना सब कुछ ही
हँस-हँसके कर जाएँ पेड़
लकड़ी ईंधन चारा भोजन
दें फल-फूल दवाएँ पेड़।

इनसे आरी और कुल्हाड़ी
भइया रे तुम रखना दूर
जनजीवन की-सबके मन की
होते हैं कविताएँ पेड़।
+रमेशराज

|| मत काटो वन, मत काटो वन ||
—————————————-
हमसे फूल और फल ले लो
औषधियों सँग संदल ले लो।
जड़ से किन्तु हमें मत काटो
चाहे जितना ईंधन ले लो।

यूँ ही चलती रही कुल्हाड़ी
तो कल होगी नग्न पहाड़ी।
सोचो जब वर्षा कम होगी
बिन जल के भू बेदम होगी।

सारे वन जब कट जायेंगे
भू पर मरुथल लहरायेंगे
फिर ये अन्न उगेगा कैसे
सबका पेट भरेगा कैसे?

भू पर फसल नहीं यदि होगी
दिखें न सेब, टमाटर, गोभी
अतः पेड़ हम करें निवेदन
मत काटो वन, मत काटो वन।
+रमेशराज

।। पेड़ ।।
—————————–
मीठे फल दे जाते पेड़
जब भी फूल खिलाते पेड़।

आता जब वसंत का मौसम
उत्सव खूब मनाते पेड़।

जब बरसे रिमझिम बादल तो
और अधिक हरियाते पेड़।

सबके सर पर कड़ी धूप में
छाते-से तन जाते पेड़।

बच्चे लटका करते इन पर
झूला खूब झुलाते पेड़ा

इनसा कोई दिखे न दाता
मीठे फल दे जाते पेड़।

करवाते हैं हम ही वर्षा
यह सबको समझाते पेड़।

पाओ इनसे औषधि- चन्दन
ईंधन खूब लुटाते पेड़।

प्राणवायु के हम दाता हैं
यह संदेश सुनाते पेड़।

लिये कुल्हाड़ी हमें न काटो
यही गुहार लगाते पेड़।
-रमेशराज
————————————————————
+रमेशराज, 15/109, ईसानगर , अलीगढ़-202001

Language: Hindi
337 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शक्कर में ही घोलिए,
शक्कर में ही घोलिए,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*चुप रहने की आदत है*
*चुप रहने की आदत है*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
💐प्रेम कौतुक-316💐
💐प्रेम कौतुक-316💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
ईश्वर का घर
ईश्वर का घर
Dr MusafiR BaithA
माता रानी दर्श का
माता रानी दर्श का
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
ये सुबह खुशियों की पलक झपकते खो जाती हैं,
ये सुबह खुशियों की पलक झपकते खो जाती हैं,
Manisha Manjari
रंगोली
रंगोली
Neelam Sharma
"सुप्रभात"
Yogendra Chaturwedi
लगा ले कोई भी रंग हमसें छुपने को
लगा ले कोई भी रंग हमसें छुपने को
Sonu sugandh
आंखे बाते जुल्फे मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो,
आंखे बाते जुल्फे मुस्कुराहटे एक साथ में ही वार कर रही हो,
Vishal babu (vishu)
गुजर जाती है उम्र, उम्र रिश्ते बनाने में
गुजर जाती है उम्र, उम्र रिश्ते बनाने में
Ram Krishan Rastogi
--पागल खाना ?--
--पागल खाना ?--
गायक - लेखक अजीत कुमार तलवार
प्यार
प्यार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सूनी बगिया हुई विरान ?
सूनी बगिया हुई विरान ?
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2503.पूर्णिका
2503.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मुझको बे'चैनियाँ जगा बैठी
मुझको बे'चैनियाँ जगा बैठी
Dr fauzia Naseem shad
शकुनियों ने फैलाया अफवाहों का धुंध
शकुनियों ने फैलाया अफवाहों का धुंध
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
चुनाव 2024
चुनाव 2024
Bodhisatva kastooriya
■ बस, इतना कहना काफ़ी है।
■ बस, इतना कहना काफ़ी है।
*Author प्रणय प्रभात*
*भर कर बोरी रंग पधारा, सरकारी दफ्तर में (हास्य होली गीत)*
*भर कर बोरी रंग पधारा, सरकारी दफ्तर में (हास्य होली गीत)*
Ravi Prakash
*सम्मति*
*सम्मति*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"अपदस्थ"
Dr. Kishan tandon kranti
दिल धड़क उठा
दिल धड़क उठा
Surinder blackpen
भारत चाँद पर छाया हैं…
भारत चाँद पर छाया हैं…
शांतिलाल सोनी
జయ శ్రీ రామ...
జయ శ్రీ రామ...
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
श्री गणेशा
श्री गणेशा
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
शक्ति साधना सब करें
शक्ति साधना सब करें
surenderpal vaidya
" दूरियां"
Pushpraj Anant
भटक ना जाना तुम।
भटक ना जाना तुम।
Taj Mohammad
बदली है मुफ़लिसी की तिज़ारत अभी यहाँ
बदली है मुफ़लिसी की तिज़ारत अभी यहाँ
Mahendra Narayan
Loading...