Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jun 2022 · 1 min read

रबीन्द्रनाथ टैगोर पर तीन मुक्तक

विश्व गुरु रूप में जिन्हें मिला
प्रतिष्ठा और सम्मान,
वह कोई और नहीं
वह थे भारत के लाल
रबीन्द्रनाथ टैगोर महान।

लेकर नोवल पुरस्कार उन्होंने
देश का गौरव बढ़ाया था।
अपनी लेखनी में मनुष्य की
आत्मा का आवेश उतार लाया था।

अपनी लेखनी के माध्यम से
जीवन का अमर संदेश दिया था।
देकर प्रेरणा और पूर्णता,
हम सबको एक नया ज्ञान दिया था।
जो मन के खालीपन दूर हटा दे,
ऐसा अपनी लेखनी से,
हम सबको उपहार दिया था।

~अनामिका

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
7 Likes · 8 Comments · 311 Views
You may also like:
'पूरब की लाल किरन'
Godambari Negi
काली सी बदरिया छाई...
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
अगर की हमसे मोहब्बत
gurudeenverma198
तपिश
SEEMA SHARMA
कुछ बारिशें बंजर लेकर आती हैं।
Manisha Manjari
इश्क है क्या
Anamika Singh
जीवन की सोच/JIVAN Ki SOCH
Shivraj Anand
"मत कर तू पैसा पैसा"
Dr Meenu Poonia
बाल कविता: तोता
Rajesh Kumar Arjun
सितम देखते हैं by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
भारत लोकतंत्र एक पर्याय
Rj Anand Prajapati
दोहावली...(११)
डॉ.सीमा अग्रवाल
आज काल के नेता और उनके बेटा
Harsh Richhariya
हम तेरे रोकने से
Dr fauzia Naseem shad
ज़िन्दगी का रंग उतरे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Atma & Paramatma
Shyam Sundar Subramanian
🌺प्रेम की राह पर-45🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
लोकदेवता :दिहबार
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
विपक्ष की सुझबुझ
Shekhar Chandra Mitra
पावस
लक्ष्मी सिंह
कुंडलिया छंद
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
पंछी ने एक दिन उड़ जाना है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हमदर्द कैसे-कैसे
Shivkumar Bilagrami
*कुतर-कुतर कर खाओ(बाल कविता)*
Ravi Prakash
पुस्तकें
डॉ. शिव लहरी
:::::जर्जर दीया::::
MSW Sunil SainiCENA
✍️Be Positive...!✍️
'अशांत' शेखर
धर्म बला है...?
मनोज कर्ण
पढ़ना और पढ़ाना है
kumar Deepak "Mani"
ये सियासत है।
Taj Mohammad
Loading...