Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 May 2024 · 1 min read

रज के हमको रुलाया

रज के हमको रुलाया सुनो अपने
खाब टूटे सही लेकिन अच्छा हुआ।

दूर तक ढूँढती हैं निगाहें तुम्हें
धुँध बढ़ने लगी लेकिन अच्छा हुआ।

हमसे आखिर जुदा आप हो ही गये,
न बुलाए भी आए ये अच्छा हुआ।

आजकल हैं बहुत मेरे मशरूफ सनम
हमसे बेहतर मिला कोई,अच्छा हुआ
नीलम शर्मा ✍️

Language: Hindi
1 Like · 37 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
तू ही बता, करूं मैं क्या
तू ही बता, करूं मैं क्या
Aditya Prakash
16.5.24
16.5.24
sushil yadav
World Environmental Day
World Environmental Day
Tushar Jagawat
*शिक्षा-क्षेत्र की अग्रणी व्यक्तित्व शोभा नंदा जी : शत शत नमन*
*शिक्षा-क्षेत्र की अग्रणी व्यक्तित्व शोभा नंदा जी : शत शत नमन*
Ravi Prakash
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-143के दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-143के दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
पुस्तक विमर्श (समीक्षा )-
पुस्तक विमर्श (समीक्षा )- " साये में धूप "
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
भूल ना था
भूल ना था
भरत कुमार सोलंकी
तुम नादानं थे वक्त की,
तुम नादानं थे वक्त की,
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
हाइपरटेंशन(ज़िंदगी चवन्नी)
हाइपरटेंशन(ज़िंदगी चवन्नी)
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
कविता
कविता
Shiva Awasthi
छठ परब।
छठ परब।
Acharya Rama Nand Mandal
*तुम  हुए ना हमारे*
*तुम हुए ना हमारे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
खेल और भावना
खेल और भावना
Mahender Singh
"कुछ भी असम्भव नहीं"
Dr. Kishan tandon kranti
#मुक्तक-
#मुक्तक-
*प्रणय प्रभात*
पाकर तुझको हम जिन्दगी का हर गम भुला बैठे है।
पाकर तुझको हम जिन्दगी का हर गम भुला बैठे है।
Taj Mohammad
आज भी
आज भी
Dr fauzia Naseem shad
बड़ी अदा से बसा है शहर बनारस का
बड़ी अदा से बसा है शहर बनारस का
Shweta Soni
उसकी मर्जी
उसकी मर्जी
Satish Srijan
भौतिकवादी
भौतिकवादी
लक्ष्मी सिंह
इश्क
इश्क
SUNIL kumar
تونے جنت کے حسیں خواب دکھائے جب سے
تونے جنت کے حسیں خواب دکھائے جب سے
Sarfaraz Ahmed Aasee
स्वाभिमानी किसान
स्वाभिमानी किसान
Dr. Pradeep Kumar Sharma
लगन की पतोहू / MUSAFIR BAITHA
लगन की पतोहू / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
एकादशी
एकादशी
Shashi kala vyas
नन्हें बच्चे को जब देखा
नन्हें बच्चे को जब देखा
Sushmita Singh
जब तक मन इजाजत देता नहीं
जब तक मन इजाजत देता नहीं
ruby kumari
हार गए तो क्या हुआ?
हार गए तो क्या हुआ?
Praveen Bhardwaj
*चाँद को भी क़बूल है*
*चाँद को भी क़बूल है*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
असंतुष्ट और चुगलखोर व्यक्ति
असंतुष्ट और चुगलखोर व्यक्ति
Dr.Rashmi Mishra
Loading...