Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2017 · 1 min read

रक्षाबंधन

?????????
अति सुन्दरतम् सावन ऋतु आई ।
संग में रक्षाबंधन का पर्व है लाई।।
?????????
?
बहन बाजार से सुन्दर राखी लाई
पूजा की थाली सजाई
अपने भाई को आवाज लगाई
द्वार पर है नजरें गराई
इस बार तो आजा मेरा भाई
?????????

?अति सुन्दरतम्…………

?????????
नहीं चाहिए मुझे रूपया पैसा,
आपको देखने को आँखें मेरा तरसा
नहीं चाहिए गहना साड़ी,
बस आजा मेरा प्यारा भाई
बहना ने आवाज लगाई
????????

?अति सुन्दरतम्……………

????????
अपनी बहन के पास तो आजा
इस राखी का धर्म निभा जा
आँख से मोती झर-झर बरसे
आप से मिलने को नैना तरसे
बहुत दिन हुए आप से बिछड़े
????????
?
अति सुन्दरतम् सावन ऋतु आई
संग में रक्षाबंधन का पर्व है लाई
????????
?लक्ष्मी सिंह ?

Language: Hindi
365 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
संघर्ष
संघर्ष
विजय कुमार अग्रवाल
राजाधिराज महाकाल......
राजाधिराज महाकाल......
Kavita Chouhan
जो होता है आज ही होता है
जो होता है आज ही होता है
लक्ष्मी सिंह
राह बनाएं काट पहाड़
राह बनाएं काट पहाड़
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मरने से पहले / मुसाफ़िर बैठा
मरने से पहले / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
युक्रेन और रूस ; संगीत
युक्रेन और रूस ; संगीत
कवि अनिल कुमार पँचोली
*भव-पालक की प्यारी गैय्या कलियुग में लाचार*
*भव-पालक की प्यारी गैय्या कलियुग में लाचार*
Poonam Matia
आगे क्या !!!
आगे क्या !!!
Dr. Mahesh Kumawat
प्रेमिका को उपालंभ
प्रेमिका को उपालंभ
Praveen Bhardwaj
क्यों प्यार है तुमसे इतना
क्यों प्यार है तुमसे इतना
gurudeenverma198
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हिन्दी दोहा बिषय-ठसक
हिन्दी दोहा बिषय-ठसक
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बादलों की उदासी
बादलों की उदासी
Shweta Soni
रफ़्ता रफ़्ता (एक नई ग़ज़ल)
रफ़्ता रफ़्ता (एक नई ग़ज़ल)
Vinit kumar
कामयाबी
कामयाबी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
*विनती है यह राम जी : कुछ दोहे*
*विनती है यह राम जी : कुछ दोहे*
Ravi Prakash
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो
आखिर कुछ तो सबूत दो क्यों तुम जिंदा हो
कवि दीपक बवेजा
जगत कंटक बिच भी अपनी वाह है |
जगत कंटक बिच भी अपनी वाह है |
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सावन मे नारी।
सावन मे नारी।
Acharya Rama Nand Mandal
आत्मसंवाद
आत्मसंवाद
Shyam Sundar Subramanian
"कुछ तो गुना गुना रही हो"
Lohit Tamta
3146.*पूर्णिका*
3146.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
‘’ हमनें जो सरताज चुने है ,
‘’ हमनें जो सरताज चुने है ,
Vivek Mishra
"मुद्रा"
Dr. Kishan tandon kranti
सूरज ढल रहा हैं।
सूरज ढल रहा हैं।
Neeraj Agarwal
अंधभक्तो को जितना पेलना है पेल लो,
अंधभक्तो को जितना पेलना है पेल लो,
शेखर सिंह
" महखना "
Pushpraj Anant
अब सच हार जाता है
अब सच हार जाता है
Dr fauzia Naseem shad
■ सरस्वती वंदना ■
■ सरस्वती वंदना ■
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...