Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Sep 2023 · 1 min read

रक्षाबंधन (कुंडलिया)

प्यारी बहना (रक्षाबंधन)
बहना हमारी आ गयीं, लेकर रक्षासूत्र
मां प्रफुल्लित हो गयी, परिजन हुए सब मुग्ध
परिजन हुए सब मुग्ध, गीत खुशी के गाते
बच्चे मिल बच्चों में, सब बुआ-बुआ चिल्लाते
भाभी का भी हर्षित होकर,मुझसे था ये कहना
हो तुम जग धन्य! तुम्हारी, जग से प्यारी बहना
©दुष्यन्त ‘बाबा’

139 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
आज भी औरत जलती है
आज भी औरत जलती है
Shekhar Chandra Mitra
स्वामी विवेकानंद
स्वामी विवेकानंद
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
ग्रीष्म ऋतु भाग ३
ग्रीष्म ऋतु भाग ३
Vishnu Prasad 'panchotiya'
इंसान एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त थे
इंसान एक दूसरे को परखने में इतने व्यस्त थे
ruby kumari
सुबह को सुबह
सुबह को सुबह
rajeev ranjan
नाही काहो का शोक
नाही काहो का शोक
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
सिलसिला रात का
सिलसिला रात का
Surinder blackpen
"दूसरा मौका"
Dr. Kishan tandon kranti
"जब मानव कवि बन जाता हैं "
Slok maurya "umang"
रिश्ते जोड़ कर रखना (गीतिका)
रिश्ते जोड़ कर रखना (गीतिका)
Ravi Prakash
डिग्रियों का कभी अभिमान मत करना,
डिग्रियों का कभी अभिमान मत करना,
Ritu Verma
🙏श्याम 🙏
🙏श्याम 🙏
Vandna thakur
2371.पूर्णिका
2371.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मेरी माटी मेरा देश
मेरी माटी मेरा देश
नूरफातिमा खातून नूरी
दिल आइना
दिल आइना
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
💐अज्ञात के प्रति-115💐
💐अज्ञात के प्रति-115💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सच हमारे जीवन के नक्षत्र होते हैं।
सच हमारे जीवन के नक्षत्र होते हैं।
Neeraj Agarwal
खोटे सिक्कों के जोर से
खोटे सिक्कों के जोर से
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मां ब्रह्मचारिणी
मां ब्रह्मचारिणी
Mukesh Kumar Sonkar
*लव इज लाईफ*
*लव इज लाईफ*
Dushyant Kumar
बच्चों को बच्चा रहने दो
बच्चों को बच्चा रहने दो
Manu Vashistha
विश्व जनसंख्या दिवस
विश्व जनसंख्या दिवस
Paras Nath Jha
उसकी दहलीज पर
उसकी दहलीज पर
Satish Srijan
दोहा बिषय- दिशा
दोहा बिषय- दिशा
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*असर*
*असर*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
ग़ज़ल
ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
इश्क़ के नाम पर धोखा मिला करता है यहां।
इश्क़ के नाम पर धोखा मिला करता है यहां।
Phool gufran
#लघुकविता
#लघुकविता
*Author प्रणय प्रभात*
अधीर मन
अधीर मन
manisha
'क्यों' (हिन्दी ग़ज़ल)
'क्यों' (हिन्दी ग़ज़ल)
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
Loading...