Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Mar 2023 · 2 min read

रक्तिम- इतिहास

गीत_लिखा गया इतिहास खून से…..
—————‐——–‐-‐——————–
प्रताप नाम के एक सिंह ने,अकबर को ललकारा था।
अमरसिंह राठौड़ ने जाके,बैरी घर में मारा था।।
बचा लिया मेवाड़ मुकुट,फिर चेतक ने थे प्राण तजे-
गोरा के धङ ने भी दुश्मन को,मौत के घाट उतारा था।

लिखा गया इतिहास खून से, वो गाथा तुम्हे सुनाता हूँ
मेवाड़ धरा पावन मिट्टी,इसे नित-नित शीश झुकाता हूँ

सौगन्ध मुझे इस मिट्टी की,ना महलों में आराम करुँ
चित्तौड़ दुर्ग ना हथिया लुँ,तब तक जंगल में वास करुँ
बैरी का काम तमाम करुँ, सौगन्ध ये आज उठाता हूँ
मेवाड़ धरा पावन मिट्टी,इसे नित-नित शीश झुकाता हूँ

सलेह् कंवर एक क्षत्राणी,चूण्ङा के संग थी परणाई।
कहीं याद ना रण में आ जाऊँ’थी सोच-सोच के घबराई।।
दी अमिट निशानी प्रियवर को’ सिर को उपहार बनाता हूँ।
मेवाड़ धरा पावन मिट्टी,इसे नित-नित शीश झुकाता हूँ।।

बनवीर नाम का दुश्मन जो,पन्ना के सम्मुख आज खडा।
मेवाड़ राज्य का सिहासन भी खतरे में था आज पड़ा।।
कर दिया हवाले सुत अपना,बलिदान की सेज सजाता हूँ।
मेवाड़ धरा पावन मिट्टी,इसे नित-नित शीश झुकाता हूँ।।

नाम पद्मिनी था उसका, बैरी खिलजी को भायी थी।
ना करूँ वरण मैं किसी गैर का, सौगंध उसने खाई थी।।
सजी चिता जौहर की,अग्निदेव को आज बुलाता हूँ।
मेवाड़ धरा पावन मिट्टी,इसे नित-नित शीश झुकाता हूँ।।

बना निशाना जांघों को,धोखे से वार किया अरि ने।
दिया काट सर गौरा का,ऐसा प्रहार किया अरिं ने।
कदम बढ़ाये फिर धङ ने,दुश्मन का सर कटवाता हूँ ।
मेवाड़ धरा पावन मिट्टी,इसे नित-नित शीश झुकाता हूँ

कट गया पांव चेतक का रण में,फिर भी दौड़ लगाई थी।
बड़ा सामने एक नाला, ये आफत कैसी आई थी ।।
हिचका नहीं तनिक चेतक, छलांग एक लगवाता हूँ।
मेवाड़ धरा पावन मिट्टी,इसे नित-नित शीश झुकाता हूँ।

लिखा गया इतिहास खून से,वो गाथा तुम्हे सुनाता हूँ।
मेवाड़ धरा पावन मिट्टी,इसे नित-नित शीश झुकाता हूँ।।

✍शायर देव मेहरानियाँ _ राजस्थानी
(शायर, कवि व गीतकार)
slmehraniya@gmail.com

Language: Hindi
1 Like · 281 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"आशा" के दोहे '
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
आशिकी
आशिकी
साहिल
सिर्फ यह कमी थी मुझमें
सिर्फ यह कमी थी मुझमें
gurudeenverma198
आकांक्षा : उड़ान आसमान की....!
आकांक्षा : उड़ान आसमान की....!
VEDANTA PATEL
हाथी के दांत
हाथी के दांत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
कितनों की प्यार मात खा गई
कितनों की प्यार मात खा गई
पूर्वार्थ
I want to collaborate with my  lost pen,
I want to collaborate with my lost pen,
Sakshi Tripathi
नहीं है पूर्ण आजादी
नहीं है पूर्ण आजादी
लक्ष्मी सिंह
*सरल हृदय श्री सत्य प्रकाश शर्मा जी*
*सरल हृदय श्री सत्य प्रकाश शर्मा जी*
Ravi Prakash
"ईश्वर की गति"
Ashokatv
बात पते की कहती नानी।
बात पते की कहती नानी।
Vedha Singh
हम तो मर गए होते मगर,
हम तो मर गए होते मगर,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
नये साल के नये हिसाब
नये साल के नये हिसाब
Preeti Sharma Aseem
मुक्तक
मुक्तक
गुमनाम 'बाबा'
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
तेरी महफ़िल में सभी लोग थे दिलबर की तरह
Sarfaraz Ahmed Aasee
मोहब्बत और मयकशी में
मोहब्बत और मयकशी में
शेखर सिंह
14--- 🌸अस्तित्व का संकट 🌸
14--- 🌸अस्तित्व का संकट 🌸
Mahima shukla
दिल के रिश्ते
दिल के रिश्ते
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
#संस्मरण
#संस्मरण
*प्रणय प्रभात*
न जाने शोख हवाओं ने कैसी
न जाने शोख हवाओं ने कैसी
Anil Mishra Prahari
अवधी गीत
अवधी गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
तेरा यूं मुकर जाना
तेरा यूं मुकर जाना
AJAY AMITABH SUMAN
*गलतफहमी*
*गलतफहमी*
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
छवि अति सुंदर
छवि अति सुंदर
Buddha Prakash
यादों की सुनवाई होगी
यादों की सुनवाई होगी
Shweta Soni
"जीवन चक्र"
Dr. Kishan tandon kranti
*ताना कंटक सा लगता है*
*ताना कंटक सा लगता है*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
क्रोधावेग और प्रेमातिरेक पर सुभाषित / MUSAFIR BAITHA
क्रोधावेग और प्रेमातिरेक पर सुभाषित / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
लिपटी परछाइयां
लिपटी परछाइयां
Surinder blackpen
Loading...