Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
Oct 6, 2016 · 1 min read

रंग हरा यदि किन्तु….: छंद कुण्डलिया.

केसरिया सविता उगे, केसरिया हो अस्त.
हरियाली उस सूर्य से, जिसमें सारे मस्त.
जिसमें सारे मस्त, हरा ही मन को भाये.
सूरज से ही चाँद, चमकता कौन बताये?
बनें सनातन भ्रात, द्वेष का क्योंकर दरिया?
रंग हरा यदि किन्तु, मूल पावन केसरिया..

–इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

132 Views
You may also like:
कुछ ना रहा
Nitu Sah
आ तुझको बसा लूं आंखों में।
Taj Mohammad
इक दिल के दो टुकड़े
D.k Math
🍀🌺परमात्मा सर्वोपरि🌺🍀
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
गणतंत्र दिवस
Aditya Prakash
माँ की याद
Meenakshi Nagar
पैसों का खेल
AMRESH KUMAR VERMA
सत् हंसवाहनी वर दे,
Pt. Brajesh Kumar Nayak
जिन्दगी मे कोहरा
Anamika Singh
हे मनुष्य!
Vijaykumar Gundal
खुश रहना
dks.lhp
अहसान मानता हूं।
Taj Mohammad
इन्सानियत ज़िंदा है
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
पहले दिन स्कूल (बाल कविता)
Ravi Prakash
माँ
DR ARUN KUMAR SHASTRI
इंतजार
Anamika Singh
“ माँ गंगा ”
DESH RAJ
उम्मीद पर है जिन्दगी
Anamika Singh
सार्थक शब्दों के निरर्थक अर्थ
Manisha Manjari
सदा बढता है,वह 'नायक', अमल बन ताज ठुकराता|
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Human Brain
Buddha Prakash
नुमाइश बना दी तुने I
Dr.sima
गम देके।
Taj Mohammad
अशोक विश्नोई एक विलक्षण साधक (पुस्तक समीक्षा)
Ravi Prakash
मेरा अक्स तो आब है।
Taj Mohammad
एक बात... पापा, करप्शन.. लेना
Nitu Sah
मजदूर की अंतर्व्यथा
Shyam Sundar Subramanian
कुछ लोग यूँ ही बदनाम नहीं होते...
मनोज कर्ण
सत्य कभी नही मिटता
Anamika Singh
खत किस लिए रखे हो जला क्यों नहीं देते ।
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
Loading...