Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Oct 2016 · 1 min read

रंग हरा यदि किन्तु….: छंद कुण्डलिया.

केसरिया सविता उगे, केसरिया हो अस्त.
हरियाली उस सूर्य से, जिसमें सारे मस्त.
जिसमें सारे मस्त, हरा ही मन को भाये.
सूरज से ही चाँद, चमकता कौन बताये?
बनें सनातन भ्रात, द्वेष का क्योंकर दरिया?
रंग हरा यदि किन्तु, मूल पावन केसरिया..

–इंजी० अम्बरीष श्रीवास्तव ‘अम्बर’

427 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
12, कैसे कैसे इन्सान
12, कैसे कैसे इन्सान
Dr Shweta sood
अम्बे तेरा दर्शन
अम्बे तेरा दर्शन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
समस्त जगतकी बहर लहर पर,
समस्त जगतकी बहर लहर पर,
Neelam Sharma
#दुर्दिन_हैं_सन्निकट_तुम्हारे
#दुर्दिन_हैं_सन्निकट_तुम्हारे
संजीव शुक्ल 'सचिन'
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
.....*खुदसे जंग लढने लगा हूं*......
Naushaba Suriya
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
''नवाबी
''नवाबी" बुरी नहीं। बशर्ते अपने बलबूते "पुरुषार्थ" के साथ की
*प्रणय प्रभात*
कौन कहता है कि लहजा कुछ नहीं होता...
कौन कहता है कि लहजा कुछ नहीं होता...
कवि दीपक बवेजा
प्यार के
प्यार के
हिमांशु Kulshrestha
हिंदी भारत की पहचान
हिंदी भारत की पहचान
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
परिपक्वता
परिपक्वता
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
क्या हुआ जो मेरे दोस्त अब थकने लगे है
क्या हुआ जो मेरे दोस्त अब थकने लगे है
Sandeep Pande
3427⚘ *पूर्णिका* ⚘
3427⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
*नकली दाँतों से खाते हैं, साठ साल के बाद (हिंदी गजल/गीतिका)*
*नकली दाँतों से खाते हैं, साठ साल के बाद (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
24)”मुस्करा दो”
24)”मुस्करा दो”
Sapna Arora
"आत्ममुग्धता"
Dr. Kishan tandon kranti
* प्रेम पथ पर *
* प्रेम पथ पर *
surenderpal vaidya
जब कोई साथी साथ नहीं हो
जब कोई साथी साथ नहीं हो
gurudeenverma198
वक्त आने पर भ्रम टूट ही जाता है कि कितने अपने साथ है कितने न
वक्त आने पर भ्रम टूट ही जाता है कि कितने अपने साथ है कितने न
Ranjeet kumar patre
स्मृतियाँ
स्मृतियाँ
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
*मुर्गा की बलि*
*मुर्गा की बलि*
Dushyant Kumar
बहुत से लोग आएंगे तेरी महफ़िल में पर
बहुत से लोग आएंगे तेरी महफ़िल में पर "कश्यप"।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
बहुत कुछ पढ़ लिया तो क्या ऋचाएं पढ़ के देखो।
बहुत कुछ पढ़ लिया तो क्या ऋचाएं पढ़ के देखो।
सत्य कुमार प्रेमी
नश्वर संसार
नश्वर संसार
Shyam Sundar Subramanian
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
Prakash Chandra
न ही मगरूर हूं, न ही मजबूर हूं।
न ही मगरूर हूं, न ही मजबूर हूं।
विकास शुक्ल
साहित्य सत्य और न्याय का मार्ग प्रशस्त करता है।
साहित्य सत्य और न्याय का मार्ग प्रशस्त करता है।
पंकज कुमार कर्ण
बहुजनों के हित का प्रतिपक्ष रचता सवर्ण सौंदर्यशास्त्र :
बहुजनों के हित का प्रतिपक्ष रचता सवर्ण सौंदर्यशास्त्र :
Dr MusafiR BaithA
धरातल की दशा से मुंह मोड़
धरातल की दशा से मुंह मोड़
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
किताबों वाले दिन
किताबों वाले दिन
Kanchan Khanna
Loading...