Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Sep 2023 · 1 min read

रंग जीवन के

रंग जीवन के

किस रंग का मैं ऐतबार करूं,
किस रंग को मैं दरकिनार करूं,
हर रंग का अक्स है बहुत पक्का,
कोई रंग है फ़ीका तो कोई थोड़ा कच्चा,
हर रंग में रंगना होगा ये मेल समझना होगा,
जो रंग जाए इन रंगों में तब ही जीवन अच्छा।

कुमार दीपक “मणि”

1 Like · 343 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*
*"अवध में राम आये हैं"*
Shashi kala vyas
Ye sham adhuri lagti hai
Ye sham adhuri lagti hai
Sakshi Tripathi
वही हसरतें वही रंजिशे ना ही दर्द_ए_दिल में कोई कमी हुई
वही हसरतें वही रंजिशे ना ही दर्द_ए_दिल में कोई कमी हुई
शेखर सिंह
घनाक्षरी गीत...
घनाक्षरी गीत...
डॉ.सीमा अग्रवाल
तभी तो असाधारण ये कहानी होगी...!!!!!
तभी तो असाधारण ये कहानी होगी...!!!!!
Jyoti Khari
*चंद्रशेखर आजाद* *(कुंडलिया)*
*चंद्रशेखर आजाद* *(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
आईने से बस ये ही बात करता हूँ,
आईने से बस ये ही बात करता हूँ,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
यूएफओ के रहस्य का अनावरण एवं उन्नत परालोक सभ्यता की संभावनाओं की खोज
यूएफओ के रहस्य का अनावरण एवं उन्नत परालोक सभ्यता की संभावनाओं की खोज
Shyam Sundar Subramanian
बहुत यत्नों से हम
बहुत यत्नों से हम
DrLakshman Jha Parimal
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
खाने पुराने
खाने पुराने
Sanjay ' शून्य'
कुंडलिया - रंग
कुंडलिया - रंग
sushil sarna
समूह
समूह
Neeraj Agarwal
छुपा सच
छुपा सच
Mahender Singh
नये वर्ष का आगम-निर्गम
नये वर्ष का आगम-निर्गम
Ramswaroop Dinkar
"ज़हन के पास हो कर भी जो दिल से दूर होते हैं।
*Author प्रणय प्रभात*
एक समय बेकार पड़ा था
एक समय बेकार पड़ा था
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
💐अज्ञात के प्रति-69💐
💐अज्ञात के प्रति-69💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
बन्द‌ है दरवाजा सपने बाहर खड़े हैं
बन्द‌ है दरवाजा सपने बाहर खड़े हैं
Upasana Upadhyay
अलाव
अलाव
गुप्तरत्न
जो कहा तूने नहीं
जो कहा तूने नहीं
Dr fauzia Naseem shad
सबरी के जूठे बेर चखे प्रभु ने उनका उद्धार किया।
सबरी के जूठे बेर चखे प्रभु ने उनका उद्धार किया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
ग़ज़ल
ग़ज़ल
प्रीतम श्रावस्तवी
"कभी-कभी"
Dr. Kishan tandon kranti
हे राम !
हे राम !
Ghanshyam Poddar
जिंदगी का मुसाफ़िर
जिंदगी का मुसाफ़िर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
लिख लेते हैं थोड़ा-थोड़ा
लिख लेते हैं थोड़ा-थोड़ा
Suryakant Dwivedi
3274.*पूर्णिका*
3274.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
वो कत्ल कर दिए,
वो कत्ल कर दिए,
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
"गाँव की सड़क"
Radhakishan R. Mundhra
Loading...