Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Dec 2022 · 1 min read

रंग एतबार का

कोई रिश्ता मुझे सच्चा नहीं लगता ।
बिना तेरे मुझे अच्छा नहीं लगता ।।
चढ़ा है कुछ इस तरह मेरे दिल ।
रंग एतबार का कच्चा नहीं लगता ।।

डाॅ फौज़िया नसीम शाद

Language: Hindi
Tag: शेर
14 Likes · 251 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr fauzia Naseem shad
View all
You may also like:
स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
Dr Archana Gupta
एक लड़का,
एक लड़का,
हिमांशु Kulshrestha
मुझे भी आकाश में उड़ने को मिले पर
मुझे भी आकाश में उड़ने को मिले पर
Charu Mitra
जिंदगी
जिंदगी
Neeraj Agarwal
फिर हो गया सबेरा,सारी रात खत्म,
फिर हो गया सबेरा,सारी रात खत्म,
Vishal babu (vishu)
दर्द अपना है
दर्द अपना है
Dr fauzia Naseem shad
वैलेंटाइन डे पर कविता
वैलेंटाइन डे पर कविता
Shekhar Chandra Mitra
मतदान करो और देश गढ़ों!
मतदान करो और देश गढ़ों!
पाण्डेय चिदानन्द "चिद्रूप"
■ स्वयं पर संयम लाभप्रद।
■ स्वयं पर संयम लाभप्रद।
*Author प्रणय प्रभात*
जिसकी बहन प्रियंका है, उसका बजता डंका है।
जिसकी बहन प्रियंका है, उसका बजता डंका है।
Sanjay ' शून्य'
!! मन रखिये !!
!! मन रखिये !!
Chunnu Lal Gupta
गए हो तुम जब से जाना
गए हो तुम जब से जाना
The_dk_poetry
नियम
नियम
Ajay Mishra
कुछ बातें मन में रहने दो।
कुछ बातें मन में रहने दो।
surenderpal vaidya
मुझे लगा कि तुम्हारे लिए मैं विशेष हूं ,
मुझे लगा कि तुम्हारे लिए मैं विशेष हूं ,
Manju sagar
Cottage house
Cottage house
Otteri Selvakumar
वक्त के साथ-साथ चलना मुनासिफ है क्या
वक्त के साथ-साथ चलना मुनासिफ है क्या
कवि दीपक बवेजा
हे ! भाग्य विधाता ,जग के रखवारे ।
हे ! भाग्य विधाता ,जग के रखवारे ।
Buddha Prakash
वक्ता का है तकाजा जरा तुम सुनो।
वक्ता का है तकाजा जरा तुम सुनो।
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
*जीवन में खुश रहने की वजह ढूँढना तो वाजिब बात लगती है पर खोद
*जीवन में खुश रहने की वजह ढूँढना तो वाजिब बात लगती है पर खोद
Seema Verma
"जाल"
Dr. Kishan tandon kranti
"वक्त" भी बड़े ही कमाल
नेताम आर सी
*बिन बुलाए आ जाता है सवाल नहीं करता.!!*
*बिन बुलाए आ जाता है सवाल नहीं करता.!!*
AVINASH (Avi...) MEHRA
2836. *पूर्णिका*
2836. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*बड़ा आदमी बनना है तो, कर प्यारे घोटाला (हिंदी गजल/ गीतिका)*
*बड़ा आदमी बनना है तो, कर प्यारे घोटाला (हिंदी गजल/ गीतिका)*
Ravi Prakash
मेरी जन्नत
मेरी जन्नत
Satish Srijan
विद्याधन
विद्याधन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
जीवन का मुस्कान
जीवन का मुस्कान
Awadhesh Kumar Singh
खुद को सम्हाल ,भैया खुद को सम्हाल
खुद को सम्हाल ,भैया खुद को सम्हाल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
नसीब तो ऐसा है मेरा
नसीब तो ऐसा है मेरा
gurudeenverma198
Loading...