Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Mar 2024 · 1 min read

रंगों में भी

रंगों में भी
वो रंग कहाँ
जो रंग बदलने वालों के
रंग में है

हिमांशु Kulshrestha

124 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
एक कविता उनके लिए
एक कविता उनके लिए
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
करूँ तो क्या करूँ मैं भी ,
करूँ तो क्या करूँ मैं भी ,
DrLakshman Jha Parimal
सपने हो जाएंगे साकार
सपने हो जाएंगे साकार
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
तूं ऐसे बर्ताव करोगी यें आशा न थी
तूं ऐसे बर्ताव करोगी यें आशा न थी
Keshav kishor Kumar
"The Divine Encounter"
Manisha Manjari
ज़ुल्फो उड़ी तो काली घटा कह दिया हमने।
ज़ुल्फो उड़ी तो काली घटा कह दिया हमने।
Phool gufran
रंग हरा सावन का
रंग हरा सावन का
डॉ. श्री रमण 'श्रीपद्'
जय जय राजस्थान
जय जय राजस्थान
Ravi Yadav
3564.💐 *पूर्णिका* 💐
3564.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
जानबूझकर कभी जहर खाया नहीं जाता
जानबूझकर कभी जहर खाया नहीं जाता
सौरभ पाण्डेय
मुझे मेरी फितरत को बदलना है
मुझे मेरी फितरत को बदलना है
Basant Bhagawan Roy
राखी प्रेम का बंधन
राखी प्रेम का बंधन
रवि शंकर साह
तालाश
तालाश
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आत्महत्या
आत्महत्या
Harminder Kaur
माटी तेल कपास की...
माटी तेल कपास की...
डॉ.सीमा अग्रवाल
*नींद आँखों में  ख़ास आती नहीं*
*नींद आँखों में ख़ास आती नहीं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
कभी सोचा हमने !
कभी सोचा हमने !
Dr. Upasana Pandey
■ आज का विचार...
■ आज का विचार...
*प्रणय प्रभात*
आत्मवंचना
आत्मवंचना
Shyam Sundar Subramanian
कहा था जिसे अपना दुश्मन सभी ने
कहा था जिसे अपना दुश्मन सभी ने
Johnny Ahmed 'क़ैस'
चुनिंदा बाल कहानियाँ (पुस्तक, बाल कहानी संग्रह)
चुनिंदा बाल कहानियाँ (पुस्तक, बाल कहानी संग्रह)
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पेट भरता नहीं
पेट भरता नहीं
Dr fauzia Naseem shad
आंखें मेरी तो नम हो गई है
आंखें मेरी तो नम हो गई है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
आंखों की चमक ऐसी, बिजली सी चमकने दो।
आंखों की चमक ऐसी, बिजली सी चमकने दो।
सत्य कुमार प्रेमी
लिख दो किताबों पर मां और बापू का नाम याद आए तो पढ़ो सुबह दोप
लिख दो किताबों पर मां और बापू का नाम याद आए तो पढ़ो सुबह दोप
★ IPS KAMAL THAKUR ★
मातृभाषा हिन्दी
मातृभाषा हिन्दी
ऋचा पाठक पंत
घर
घर
Slok maurya "umang"
तनहा विचार
तनहा विचार
Yash Tanha Shayar Hu
सारी जिंदगी की मुहब्बत का सिला.
सारी जिंदगी की मुहब्बत का सिला.
shabina. Naaz
रिश्ते कैजुअल इसलिए हो गए है
रिश्ते कैजुअल इसलिए हो गए है
पूर्वार्थ
Loading...