Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jul 2016 · 1 min read

योजना है

सुनो एक योजना है।

  जब तलक पूरी न होगी,
  इस जहाँ में जिद हमारी।
  जुबाँ पर फरियाद होगी,
  अवज्ञाएँ फिर हमारी।
  जब तलक ना वक्त साथी,
  दुख तो यूँ ही भोगना है।
  सुनो……….

                                 लालसा कुछ छोड़ दें, 
                                 संशय की गागर फोड़ दें।
                                ओज मन में संचरित कर,
                                भ्रमित मन झकझोर दें।
                               दो कदम हर रोज़ चलकर,
                               लक्ष्य को ही सोचना है।
                               सुनो……….

  इन खगों से सीख लें,
  गगन में उनमुक्त उड़ना।
  तिनका-तिनका जोड़कर,
  नीड़ सा सपनों को बुनना।
  अब नहीं रुकेंगे थककर,
  अब यही परियोजना है।
  सुनो………….

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 2 Comments · 498 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कहे तो क्या कहे कबीर
कहे तो क्या कहे कबीर
Shekhar Chandra Mitra
वह बचपन के दिन
वह बचपन के दिन
Yogi Yogendra Sharma : Motivational Speaker
रोजी रोटी
रोजी रोटी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
माँ-बाप की नज़र में, ज्ञान ही है सार,
माँ-बाप की नज़र में, ज्ञान ही है सार,
पूर्वार्थ
स्वयंभू
स्वयंभू
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
महाकाल का आंगन
महाकाल का आंगन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
"अपनी करतूत की होली जलाई जाती है।
*Author प्रणय प्रभात*
💐Prodigy Love-42💐
💐Prodigy Love-42💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आसान होते संवाद मेरे,
आसान होते संवाद मेरे,
Swara Kumari arya
2627.पूर्णिका
2627.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
बेटी ही बेटी है सबकी, बेटी ही है माँ
बेटी ही बेटी है सबकी, बेटी ही है माँ
Anand Kumar
परीक्षा है सर पर..!
परीक्षा है सर पर..!
भवेश
बढ़ चुकी दुश्वारियों से
बढ़ चुकी दुश्वारियों से
Rashmi Sanjay
हम उनसे नहीं है भिन्न
हम उनसे नहीं है भिन्न
जगदीश लववंशी
डमरू वीणा बांसुरी, करतल घन्टी शंख
डमरू वीणा बांसुरी, करतल घन्टी शंख
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
कविता (आओ तुम )
कविता (आओ तुम )
Sangeeta Beniwal
धूतानां धूतम अस्मि
धूतानां धूतम अस्मि
DR ARUN KUMAR SHASTRI
लोकतंत्र तभी तक जिंदा है जब तक आम जनता की आवाज़ जिंदा है जिस
लोकतंत्र तभी तक जिंदा है जब तक आम जनता की आवाज़ जिंदा है जिस
Rj Anand Prajapati
सदविचार
सदविचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दायरों में बँधा जीवन शायद खुल कर साँस भी नहीं ले पाता
दायरों में बँधा जीवन शायद खुल कर साँस भी नहीं ले पाता
Seema Verma
*हॅंसते बीता बचपन यौवन, वृद्ध-आयु दुखदाई (गीत)*
*हॅंसते बीता बचपन यौवन, वृद्ध-आयु दुखदाई (गीत)*
Ravi Prakash
"विडम्बना"
Dr. Kishan tandon kranti
मैं एक फरियाद लिए बैठा हूँ
मैं एक फरियाद लिए बैठा हूँ
Bhupendra Rawat
سیکھ لو
سیکھ لو
Ahtesham Ahmad
मुफलिसो और बेकशों की शान में मेरा ईमान बोलेगा।
मुफलिसो और बेकशों की शान में मेरा ईमान बोलेगा।
Phool gufran
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मिलना था तुमसे,
मिलना था तुमसे,
shambhavi Mishra
आखिर में मर जायेंगे सब लोग अपनी अपनी मौत,
आखिर में मर जायेंगे सब लोग अपनी अपनी मौत,
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
जीवन के बुझे हुए चिराग़...!!!
जीवन के बुझे हुए चिराग़...!!!
Jyoti Khari
नजरिया रिश्तों का
नजरिया रिश्तों का
विजय कुमार अग्रवाल
Loading...