Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jul 2016 · 1 min read

योजना है

सुनो एक योजना है।

  जब तलक पूरी न होगी,
  इस जहाँ में जिद हमारी।
  जुबाँ पर फरियाद होगी,
  अवज्ञाएँ फिर हमारी।
  जब तलक ना वक्त साथी,
  दुख तो यूँ ही भोगना है।
  सुनो……….

                                 लालसा कुछ छोड़ दें, 
                                 संशय की गागर फोड़ दें।
                                ओज मन में संचरित कर,
                                भ्रमित मन झकझोर दें।
                               दो कदम हर रोज़ चलकर,
                               लक्ष्य को ही सोचना है।
                               सुनो……….

  इन खगों से सीख लें,
  गगन में उनमुक्त उड़ना।
  तिनका-तिनका जोड़कर,
  नीड़ सा सपनों को बुनना।
  अब नहीं रुकेंगे थककर,
  अब यही परियोजना है।
  सुनो………….

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 2 Comments · 383 Views
You may also like:
गुरुवर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
अंतरिक्ष
Saraswati Bajpai
आदमी आदमी के रोआ दे
आकाश महेशपुरी
कण कण तिरंगा हो, जनगण तिरंगा हो
डी. के. निवातिया
मेरी हर शय बात करती है
Sandeep Albela
■ गीत / प्रेम की कहानी, आँसुओं की जुबानी
*Author प्रणय प्रभात*
कन्यादान क्यों और किसलिए [भाग३]
Anamika Singh
मकर संक्रांति
Seema gupta ( bloger) Gupta
चुप कर पगली तुम्हें तो प्यार हुआ है
सुशील कुमार सिंह "प्रभात"
शेर
Rajiv Vishal
नंद के घर आयो लाल
Kavita Chouhan
“सुन रहे हैं ना मोदी जी! इमरान अफगानियों को भी...
DrLakshman Jha Parimal
बदनाम गलियों में।
Taj Mohammad
मधमक्खी
Dr Archana Gupta
सन्नाटे को तोड़ने वाली आवाज़
Shekhar Chandra Mitra
वो सहरा में भी हमें सायबान देता है
Anis Shah
दो पँक्ति दिल की
N.ksahu0007@writer
जिन्दगी का क्या भरोसा
Swami Ganganiya
हे कृष्ण! फिर से धरा पर अवतार करो।
लक्ष्मी सिंह
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
जीवन-जीवन होता है
Dr fauzia Naseem shad
असफलता और मैं
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
रंगे _,वफा
shabina. Naaz
साधु न भूखा जाय
श्री रमण 'श्रीपद्'
💐"गीता= व्यवहारे परमार्थ च तत्वप्राप्ति: च"💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
दिल की बात
rkchaudhary2012
विरहनी के मुख से कुछ मुक्तक
Ram Krishan Rastogi
✍️इतिहास के पन्नो पर...
'अशांत' शेखर
हिन्दू धर्म और अवतारवाद
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
जब शून्य में आकाश को देखता हूँ
gurudeenverma198
Loading...