Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Jun 2023 · 1 min read

योग

सूरज के उगने से, पहले जो जाग जाते,
बलवान तन पाते, करते वो योग हैं।
योग को बताने वाले, दुनिया में लाने वाले,
योगनिष्ठ ऋषि-मुनि, भारतीय लोग हैं।।

योग एक साधना है, पुष्टि की ये कामना है,
पुष्ट देह के बिना तो, व्यर्थ सारे भोग हैं।
शांति कांति बुद्धि पाओ, योग के करीब आओ,
योग की उपासना से, भाग जाते रोग हैं।।

-जगदीश शर्मा
आषाढ़ शुक्ल ३ सम्वत २०८०

108 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सुनो
सुनो
पूर्वार्थ
मृदा मात्र गुबार नहीं हूँ
मृदा मात्र गुबार नहीं हूँ
AJAY AMITABH SUMAN
डा. अम्बेडकर बुद्ध से बड़े थे / पुस्तक परिचय
डा. अम्बेडकर बुद्ध से बड़े थे / पुस्तक परिचय
Dr MusafiR BaithA
"बँटवारा"
Dr. Kishan tandon kranti
खुशनसीब
खुशनसीब
Naushaba Suriya
हरियाली के बीच में , माँ का पकड़े हाथ ।
हरियाली के बीच में , माँ का पकड़े हाथ ।
Mahendra Narayan
काव्य-अनुभव और काव्य-अनुभूति
काव्य-अनुभव और काव्य-अनुभूति
कवि रमेशराज
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
शयनकक्ष श्री हरि चले, कौन सँभाले भार ?।
शयनकक्ष श्री हरि चले, कौन सँभाले भार ?।
डॉ.सीमा अग्रवाल
Compromisation is a good umbrella but it is a poor roof.
Compromisation is a good umbrella but it is a poor roof.
GOVIND UIKEY
अकथ कथा
अकथ कथा
Neelam Sharma
कोशिश
कोशिश
विजय कुमार अग्रवाल
खयालात( कविता )
खयालात( कविता )
Monika Yadav (Rachina)
पथ प्रदर्शक पिता
पथ प्रदर्शक पिता
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
*भर दो गणपति देवता, हम में बुद्धि विवेक (कुंडलिया)*
*भर दो गणपति देवता, हम में बुद्धि विवेक (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मातृ दिवस पर कुछ पंक्तियां
मातृ दिवस पर कुछ पंक्तियां
Ram Krishan Rastogi
मन से चाहे बिना मनचाहा नहीं पा सकते।
मन से चाहे बिना मनचाहा नहीं पा सकते।
Dr. Pradeep Kumar Sharma
शाम के ढलते
शाम के ढलते
manjula chauhan
इस राष्ट्र की तस्वीर, ऐसी हम बनायें
इस राष्ट्र की तस्वीर, ऐसी हम बनायें
gurudeenverma198
*****गणेश आये*****
*****गणेश आये*****
Kavita Chouhan
पिया-मिलन
पिया-मिलन
Kanchan Khanna
#आध्यात्मिक_कविता
#आध्यात्मिक_कविता
*Author प्रणय प्रभात*
बुलंदियों से भरे हौसलें...!!!!
बुलंदियों से भरे हौसलें...!!!!
Jyoti Khari
“सभी के काम तुम आओ”
“सभी के काम तुम आओ”
DrLakshman Jha Parimal
किस जरूरत को दबाऊ किस को पूरा कर लू
किस जरूरत को दबाऊ किस को पूरा कर लू
शेखर सिंह
कमियों पर
कमियों पर
REVA BANDHEY
प्रेम बनो,तब राष्ट्र, हर्षमय सद् फुलवारी
प्रेम बनो,तब राष्ट्र, हर्षमय सद् फुलवारी
Pt. Brajesh Kumar Nayak
3114.*पूर्णिका*
3114.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
पुष्प
पुष्प
Dhirendra Singh
सफ़र आसान हो जाए मिले दोस्त ज़बर कोई
सफ़र आसान हो जाए मिले दोस्त ज़बर कोई
आर.एस. 'प्रीतम'
Loading...