Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Jun 2023 · 1 min read

योग

आज विश्व को चाहिए,ऐसा एक विज्ञान।
हितकारी सबके लिए,योग शक्ति संधान।।

सामाजिक कल्याण की,एक विधा है योग।
भौतिकवादी दौड़ में,जिससे रहे निरोग।।

योग एक तकनीक है, मन को करे ससक्त।
काम करेगा फेफड़ा, शुद्ध रहेगा रक्त।।

मन में जमें तनाव को,करे योग से दूर।
तन मन में उर्जा भरें,हो मुखरे पर नूर।।

निर्णय की क्षमता बढ़े,हो संतुलित दिमाग।
बढ़ती है एकाग्रता,दुविधा जाती भाग।।

पूर्ण तरह से योग में,बन जा परम प्रबुद्ध।
सोच समझ तब आपकी,हो जायेगी शुद्ध।।

जिसने जीवन भर चखा,ध्यान योग का कंद।
उसके अंदर फूटता,एक अतुल आनंद।।

-लक्ष्मी सिंह

Language: Hindi
5 Likes · 4 Comments · 168 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from लक्ष्मी सिंह
View all
You may also like:
कृपाण घनाक्षरी....
कृपाण घनाक्षरी....
डॉ.सीमा अग्रवाल
"पैसा"
Dr. Kishan tandon kranti
नई रीत विदाई की
नई रीत विदाई की
विजय कुमार अग्रवाल
वो अपना अंतिम मिलन..
वो अपना अंतिम मिलन..
Rashmi Sanjay
गीत लिखती हूं मगर शायर नहीं हूं,
गीत लिखती हूं मगर शायर नहीं हूं,
Anamika Tiwari 'annpurna '
*मधु मालती*
*मधु मालती*
सुरेश अजगल्ले 'इन्द्र '
लीजिए प्रेम का अवलंब
लीजिए प्रेम का अवलंब
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
सफ़र ठहरी नहीं अभी पड़ाव और है
सफ़र ठहरी नहीं अभी पड़ाव और है
Koमल कुmari
मेरा तकिया
मेरा तकिया
Madhu Shah
"मैं" के रंगों में रंगे होते हैं, आत्मा के ये परिधान।
Manisha Manjari
दुनिया की हर वोली भाषा को मेरा नमस्कार 🙏🎉
दुनिया की हर वोली भाषा को मेरा नमस्कार 🙏🎉
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बात शक्सियत की
बात शक्सियत की
Mahender Singh
मैं अक्सर तन्हाई में......बेवफा उसे कह देता हूँ
मैं अक्सर तन्हाई में......बेवफा उसे कह देता हूँ
सिद्धार्थ गोरखपुरी
रिश्ते का अहसास
रिश्ते का अहसास
Paras Nath Jha
मुझे मुहब्बत सिखाते जाते
मुझे मुहब्बत सिखाते जाते
Monika Arora
#लघु कविता
#लघु कविता
*प्रणय प्रभात*
प्रेम को भला कौन समझ पाया है
प्रेम को भला कौन समझ पाया है
Mamta Singh Devaa
RKASHA BANDHAN
RKASHA BANDHAN
डी. के. निवातिया
यह जीवन भूल भूलैया है
यह जीवन भूल भूलैया है
VINOD CHAUHAN
3277.*पूर्णिका*
3277.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*13 जुलाई 1983 : संपादक की पुत्री से लेखक का विवाह*
*13 जुलाई 1983 : संपादक की पुत्री से लेखक का विवाह*
Ravi Prakash
"शिलालेख "
Slok maurya "umang"
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
शिष्टाचार
शिष्टाचार
लक्ष्मी सिंह
दुखांत जीवन की कहानी में सुखांत तलाशना बेमानी है
दुखांत जीवन की कहानी में सुखांत तलाशना बेमानी है
Guru Mishra
122 122 122 12
122 122 122 12
SZUBAIR KHAN KHAN
आज के रिश्ते: ए
आज के रिश्ते: ए
पूर्वार्थ
सारे नेता कर रहे, आपस में हैं जंग
सारे नेता कर रहे, आपस में हैं जंग
Dr Archana Gupta
जीत कर तुमसे
जीत कर तुमसे
Dr fauzia Naseem shad
तेरी यादें
तेरी यादें
Neeraj Agarwal
Loading...