Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Dec 2023 · 1 min read

ये साल बीत गया पर वो मंज़र याद रहेगा

ये साल बीत गया पर वो मंज़र याद रहेगा
फ़रवरी तुझे याद है,मुझे दिसंबर याद रहेगा

– केशव

117 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कविता के हर शब्द का, होता है कुछ सार
कविता के हर शब्द का, होता है कुछ सार
Dr Archana Gupta
जीवन में कम से कम एक ऐसा दोस्त जरूर होना चाहिए ,जिससे गर सप्
जीवन में कम से कम एक ऐसा दोस्त जरूर होना चाहिए ,जिससे गर सप्
ruby kumari
*बुरा न मानो होली है(हास्य व्यंग्य)*
*बुरा न मानो होली है(हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
चुपचाप यूँ ही न सुनती रहो,
चुपचाप यूँ ही न सुनती रहो,
Dr. Man Mohan Krishna
सुबह और शाम मौसम के साथ हैं
सुबह और शाम मौसम के साथ हैं
Neeraj Agarwal
सनातन
सनातन
देवेंद्र प्रताप वर्मा 'विनीत'
बेरोजगारों को वैलेंटाइन खुद ही बनाना पड़ता है......
बेरोजगारों को वैलेंटाइन खुद ही बनाना पड़ता है......
कवि दीपक बवेजा
जब  फ़ज़ाओं  में  कोई  ग़म  घोलता है
जब फ़ज़ाओं में कोई ग़म घोलता है
प्रदीप माहिर
गीता, कुरान ,बाईबल, गुरु ग्रंथ साहिब
गीता, कुरान ,बाईबल, गुरु ग्रंथ साहिब
Harminder Kaur
पेड़ से कौन बाते करता है ?
पेड़ से कौन बाते करता है ?
Buddha Prakash
💐💐मरहम अपने जख्मों पर लगा लेते खुद ही...
💐💐मरहम अपने जख्मों पर लगा लेते खुद ही...
Priya princess panwar
💐अज्ञात के प्रति-39💐
💐अज्ञात के प्रति-39💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
23/09.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/09.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
लड्डु शादी का खायके, अनिल कैसे खुशी बनाये।
लड्डु शादी का खायके, अनिल कैसे खुशी बनाये।
Anil chobisa
लाइफ का कोई रिमोट नहीं होता
लाइफ का कोई रिमोट नहीं होता
शेखर सिंह
बाजार से सब कुछ मिल जाता है,
बाजार से सब कुछ मिल जाता है,
Shubham Pandey (S P)
हम भी सोचते हैं अपनी लेखनी को कोई आयाम दे दें
हम भी सोचते हैं अपनी लेखनी को कोई आयाम दे दें
DrLakshman Jha Parimal
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
कर्मठ व्यक्ति की सहनशीलता ही धैर्य है, उसके द्वारा किया क्षम
Sanjay ' शून्य'
अपनी और अपनों की
अपनी और अपनों की
*Author प्रणय प्रभात*
मां के आंचल में कुछ ऐसी अजमत रही।
मां के आंचल में कुछ ऐसी अजमत रही।
सत्य कुमार प्रेमी
सपने तेरे है तो संघर्ष करना होगा
सपने तेरे है तो संघर्ष करना होगा
पूर्वार्थ
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
"वक्त-वक्त की बात"
Dr. Kishan tandon kranti
* सताना नहीं *
* सताना नहीं *
surenderpal vaidya
रिश्ते नातों के बोझ को उठाए फिरता हूॅ॑
रिश्ते नातों के बोझ को उठाए फिरता हूॅ॑
VINOD CHAUHAN
ग़ज़ल -
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
स्वाभिमान
स्वाभिमान
Shweta Soni
तुझे देखने को करता है मन
तुझे देखने को करता है मन
Rituraj shivem verma
"बदलते भारत की तस्वीर"
पंकज कुमार कर्ण
Loading...