Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Mar 2017 · 1 min read

ये साल नया सा ऐसा हो…

ये साल नया सा ऐसा हो,,,खुशियो से भरा भरा सा हो….
गम के आँसू न आँखों में हो,,,मुस्कान लबो पे न झूठी हो….
जीवन में न कोई निराशा हो,,,दिल में न कोई रोष हो…
हो अगर तो खुशियों के आँसू,,,,मुस्कान लबों पे सच्ची हो…
जीवन में नयी उमंगें हो…दिल में संजीदा यादें हो….

हम तुम मिले गर्मजोशी हो,,,कटुता की न भाषा हो….
विवाद वाद से होने लगे और वाद संवाद से हर पल हो…
ये साल नया सा ऐसा हो,,,शांति प्रेम का बसेरा हो….
चाहकर भी आतंक कही न हो,,,कोई गोली बारूद न किसी सर पर हो…
सब राह बुरी तज जाये यार,,,वाद आतंक न नक्सल हो…

लहू बहे न उनका कोई,,,इक कतरा लहू न हमारा हो…
सरहद के दोनों और प्रेम हो,,,न कि लाशों के फिर ढेर हो…
हम तुम आगे बढे,,, चन्द्र मंगल सब नाप चले….
अच्छाई की प्रतिस्पर्धा हो आगे बढ़ने की बस महत्ता हो…
हम गिरे न तुम साथ तजो,,,,तुम फिसले हम थाम चले….
आपसी सहयोग परस्पर बना रहे,,,तुम अल्लाह कहो हम राम कहे…

न फिर कोई दामिनी बने,,,,न कोई आँचल फिर दाग़ सहे…
मन में सबके अपना परिवार रहे,,,,न कोई आँख उठे न कोई दुराचार करे…
ये साल नया सा ऐसा हो,,,बस ख़ुशियों से भरा भरा सा हो…
शांति प्रेम साकार रहे,,,,और हर लब बस मुस्कान खिले….

मुबारक हो नया साल….
(2017 मुबारक? हो)

आपका
अरविन्द दाँगी “विकल”
9165913773

Language: Hindi
Tag: कविता
266 Views
You may also like:
यदि तुम करोड़पति बनने का ख्वाब देखते हो तो तुम्हे इसके लिए स
यदि तुम करोड़पति बनने का ख्वाब देखते हो तो तुम्हे...
Rj Anand Prajapati
नफ़रत की आग
नफ़रत की आग
Shekhar Chandra Mitra
आओ और सराहा जाये
आओ और सराहा जाये
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
गुरुवर
गुरुवर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
नीति अनैतिकता को देखा तो,
नीति अनैतिकता को देखा तो,
Er.Navaneet R Shandily
सुबह की एक किरण
सुबह की एक किरण
कवि दीपक बवेजा
चरित्रार्थ होगा काल जब, निःशब्द रह तू जायेगा।
चरित्रार्थ होगा काल जब, निःशब्द रह तू जायेगा।
Manisha Manjari
अंगार
अंगार
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
🏠कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह लो।
🏠कुछ दिन की है बात ,सभी जन घर में रह...
Pt. Brajesh Kumar Nayak
भूख
भूख
श्री रमण 'श्रीपद्'
बाल कविता: तोता
बाल कविता: तोता
Rajesh Kumar Arjun
ग़ज़ल /
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
पहचान मुख्तलिफ है।
पहचान मुख्तलिफ है।
Taj Mohammad
प्रेम का दीप जलाया जाए
प्रेम का दीप जलाया जाए
अनूप अम्बर
■ आज का विचार
■ आज का विचार
*Author प्रणय प्रभात*
Wishing power and expectation
Wishing power and expectation
Ankita Patel
"ख़्वाहिशों की दुनिया"
Dr. Kishan tandon kranti
ऐ चाँद
ऐ चाँद
Saraswati Bajpai
आज की प्रस्तुति - भाग #2
आज की प्रस्तुति - भाग #2
Rajeev Dutta
त्राहि-त्राहि भगवान( कुंडलिया )
त्राहि-त्राहि भगवान( कुंडलिया )
Ravi Prakash
⚘️🌾गीता के प्रति मेरी समझ🌱🌷
⚘️🌾गीता के प्रति मेरी समझ🌱🌷
Ankit Halke jha
किस्सा ये दर्द का
किस्सा ये दर्द का
Dr fauzia Naseem shad
✍️नामुक्कमल सफर✍️
✍️नामुक्कमल सफर✍️
'अशांत' शेखर
बदला हुआ ज़माना है
बदला हुआ ज़माना है
Dr. Sunita Singh
जिंदा है धर्म स्त्री से ही
जिंदा है धर्म स्त्री से ही
श्याम सिंह बिष्ट
बाजा दाँत बजा रहे,ढपली ठिठुरे गात
बाजा दाँत बजा रहे,ढपली ठिठुरे गात
Dr Archana Gupta
धर्म
धर्म
पंकज कुमार कर्ण
लालच
लालच
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मैंने रोक रखा है चांद
मैंने रोक रखा है चांद
Surinder blackpen
💐💐मेरी इश्क़ की गल टॉपर निकली💐💐
💐💐मेरी इश्क़ की गल टॉपर निकली💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Loading...