Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Dec 2023 · 1 min read

ये सर्द रात

ये सर्द रात में आवारगी और नींद का बोझ ।
उस पर तेरी बेवफ़ाई का रोना रोज़ रोज़ ।

कितने आसां रहे होंगे तेरे लिए ये मरहले
तुम तलक़ पहुंचे हम तो हो गये मस्अले

इज्तिराबे शौक की तुम रहने ही दो बात ,
हर ख़ुशी को दर्द ए दिल देता जाये मात।

तन्हाई में चलते रहे, साथ दर्द के काफिले
अंज़ाम ए मोहब्बत देख,रह गये हैं फासले

तुम कहते हो तो, मैं मान भी लेती हूं इसे
तुम्ही वो शख्स है , कभी मैंने चाहा था जिसे।

सुरिंदर कौर

136 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Surinder blackpen
View all
You may also like:
ज़िन्दगी - दीपक नीलपदम्
ज़िन्दगी - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
बाहर-भीतर
बाहर-भीतर
Dhirendra Singh
*अहम ब्रह्मास्मि*
*अहम ब्रह्मास्मि*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
Perceive Exams as a festival
Perceive Exams as a festival
Tushar Jagawat
सत्यबोध
सत्यबोध
Bodhisatva kastooriya
मौन आँखें रहीं, कष्ट कितने सहे,
मौन आँखें रहीं, कष्ट कितने सहे,
Arvind trivedi
इस तरहां बिताये मैंने, तन्हाई के पल
इस तरहां बिताये मैंने, तन्हाई के पल
gurudeenverma198
जय मातु! ब्रह्मचारिणी,
जय मातु! ब्रह्मचारिणी,
Neelam Sharma
रखा जाता तो खुद ही रख लेते...
रखा जाता तो खुद ही रख लेते...
कवि दीपक बवेजा
मन मंदिर के कोने से 💺🌸👪
मन मंदिर के कोने से 💺🌸👪
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
"कोढ़े की रोटी"
Dr. Kishan tandon kranti
यूं तो मेरे जीवन में हंसी रंग बहुत हैं
यूं तो मेरे जीवन में हंसी रंग बहुत हैं
हरवंश हृदय
दीप माटी का
दीप माटी का
Dr. Meenakshi Sharma
बाजारवाद
बाजारवाद
Punam Pande
सुविचार
सुविचार
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
■ आज का शेर...
■ आज का शेर...
*Author प्रणय प्रभात*
कुछ यूं हुआ के मंज़िल से भटक गए
कुछ यूं हुआ के मंज़िल से भटक गए
Amit Pathak
इंटरनेट
इंटरनेट
Vedha Singh
रंगों की दुनिया में हम सभी रहते हैं
रंगों की दुनिया में हम सभी रहते हैं
Neeraj Agarwal
कृपा करें त्रिपुरारी
कृपा करें त्रिपुरारी
Satish Srijan
Kuch nahi hai.... Mager yakin to hai  zindagi  kam hi  sahi.
Kuch nahi hai.... Mager yakin to hai zindagi kam hi sahi.
Rekha Rajput
शेर ग़ज़ल
शेर ग़ज़ल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
🙏 *गुरु चरणों की धूल*🙏
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
कामुकता एक ऐसा आभास है जो सब प्रकार की शारीरिक वीभत्सना को ख
Rj Anand Prajapati
*धन व्यर्थ जो छोड़ के घर-आँगन(घनाक्षरी)*
*धन व्यर्थ जो छोड़ के घर-आँगन(घनाक्षरी)*
Ravi Prakash
एक और सुबह तुम्हारे बिना
एक और सुबह तुम्हारे बिना
Surinder blackpen
चिड़िया!
चिड़िया!
सेजल गोस्वामी
जन जन फिर से तैयार खड़ा कर रहा राम की पहुनाई।
जन जन फिर से तैयार खड़ा कर रहा राम की पहुनाई।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
परिणति
परिणति
Shyam Sundar Subramanian
वाक़िफ नहीं है कोई
वाक़िफ नहीं है कोई
Dr fauzia Naseem shad
Loading...