Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Aug 2016 · 1 min read

ये रात की सच्चाई है

“ये रात की सच्चाई है
छिपी जिसमे गहराई है”
सन्नाटों मै हो जाते शहर गुम
वही रात मैंने जगाई है
क्यू ना सो गया मै
क्यू ना लेले ये रात मुझे आगोश मै
क्यू ना देख सकु मै भी सपने
कुछ अच्छे कुछ मीठे से
क्यू मुझसे ही तेरी लड़ाई है

“ये रात की सच्चाई है
छिपी जिसमे गहराई है”
यू ही नहीं जाग जाता कोई इस कदर
जो करे शिकवे रातों के सन्नाटों से
होके तर बतर
कुछ बैर तेरा ही होगा
गुमनाम शहरों के किस्सों मै
नाम तेरा ही क्यू होगा
मंजिल तेरी, मुकाम तेरे
राह तेरी , आसमान तेरा
दरिया तेरा , साहिल तेरा
समुन्द्र तेरा , सूखा तेरा
अपने तेरे , पराये तेरे
कर्म तेरे , परिणाम तेरे
मेरा क्या !!
मै तो ले लेता हु सबकुछ
मेरी काली चादर मै
कुछ छुपा नहीं है
इन गवारे बादलों से
“ये रात की सच्चाई है
राही , जिसकी जानी तूने गहराई है
ये रात की सच्चाई है”

Language: Hindi
1 Comment · 540 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
असहाय मानव की पुकार
असहाय मानव की पुकार
Dr. Upasana Pandey
प्यार दर्पण के जैसे सजाना सनम,
प्यार दर्पण के जैसे सजाना सनम,
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
विपत्ति आपके कमजोर होने का इंतजार करती है।
विपत्ति आपके कमजोर होने का इंतजार करती है।
Paras Nath Jha
एक दूसरे से कुछ न लिया जाए तो कैसा
एक दूसरे से कुछ न लिया जाए तो कैसा
Shweta Soni
बँटवारा
बँटवारा
Shriyansh Gupta
चंचल मन चित-चोर है , विचलित मन चंडाल।
चंचल मन चित-चोर है , विचलित मन चंडाल।
Manoj Mahato
वो पढ़ लेगा मुझको
वो पढ़ लेगा मुझको
Dr fauzia Naseem shad
दर्पण में जो मुख दिखे,
दर्पण में जो मुख दिखे,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ऐसे नाराज़ अगर, होने लगोगे तुम हमसे
ऐसे नाराज़ अगर, होने लगोगे तुम हमसे
gurudeenverma198
पीपल बाबा बूड़ा बरगद
पीपल बाबा बूड़ा बरगद
Dr.Pratibha Prakash
फूल और तुम
फूल और तुम
Sidhant Sharma
अद्भुद भारत देश
अद्भुद भारत देश
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
"लफ़्ज़ भी आन बान होते हैं।
*Author प्रणय प्रभात*
तू है तसुव्वर में तो ए खुदा !
तू है तसुव्वर में तो ए खुदा !
ओनिका सेतिया 'अनु '
अमीरों का देश
अमीरों का देश
Ram Babu Mandal
नये साल में
नये साल में
Mahetaru madhukar
तपाक से लगने वाले गले , अब तो हाथ भी ख़ौफ़ से मिलाते हैं
तपाक से लगने वाले गले , अब तो हाथ भी ख़ौफ़ से मिलाते हैं
Atul "Krishn"
"चुलबुला रोमित"
Dr Meenu Poonia
तन्हाई
तन्हाई
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मातृशक्ति
मातृशक्ति
Sanjay ' शून्य'
फर्ज मां -बाप के याद रखना सदा।
फर्ज मां -बाप के याद रखना सदा।
Namita Gupta
*यौगिक क्रिया सा ये कवि दल*
*यौगिक क्रिया सा ये कवि दल*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
गुरु ही वर्ण गुरु ही संवाद ?🙏🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
आंखों की चमक ऐसी, बिजली सी चमकने दो।
आंखों की चमक ऐसी, बिजली सी चमकने दो।
सत्य कुमार प्रेमी
मजदूर दिवस पर
मजदूर दिवस पर
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
सत्य की खोज
सत्य की खोज
Dheerja Sharma
अभी अभी तो इक मिसरा बना था,
अभी अभी तो इक मिसरा बना था,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
स्वीकारा है
स्वीकारा है
Dr. Mulla Adam Ali
......... ढेरा.......
......... ढेरा.......
Naushaba Suriya
रंजीत कुमार शुक्ल
रंजीत कुमार शुक्ल
Ranjeet Kumar Shukla
Loading...