Oct 18, 2016 · 1 min read

ये फोज़ी हर बार लड़ा करते हैं– जितेन्द्र कमल आनंद ( ५१)

रुबाई ::
———–
ये फौज़ी हर बार लड़ा करते हैं ।
हथियारों पर धार धरा करते हैं ।
कब करते परवाह ‘ कमल ‘ जीवन की।
ये वीर गति को प्राप्त हुअ करते हैं ।।५१!!

—– जितेन्द्र कमल आनंद

1 Comment · 125 Views
You may also like:
चिन्ता और चिता में अन्तर
Ram Krishan Rastogi
My Expressions
Shyam Sundar Subramanian
ये जज़्बात कहां से लाते हो।
Taj Mohammad
हवलदार का करिया रंग (हास्य कविता)
दुष्यन्त 'बाबा'
रामपुर में काका हाथरसी नाइट
Ravi Prakash
*हास्य-रस के पर्याय हुल्लड़ मुरादाबादी के काव्य में व्यंग्यात्मक चेतना*
Ravi Prakash
बिछड़न [भाग ३]
Anamika Singh
चेहरा अश्कों से नम था
Taj Mohammad
मकड़ी है कमाल
Buddha Prakash
💐💐प्रेम की राह पर-19💐💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
नीड़ फिर सजाना है
Saraswati Bajpai
*सुकृति: हैप्पी वर्थ डे* 【बाल कविता 】
Ravi Prakash
हम गरीब है साहब।
Taj Mohammad
आ जाओ राम।
Anamika Singh
चलो स्वयं से इस नशे को भगाते हैं।
Taj Mohammad
【 23】 प्रकृति छेड़ रहा इंसान
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
राम के जन्म का उत्सव
Manisha Manjari
# हमको नेता अब नवल मिले .....
Chinta netam मन
पिता हैं धरती का भगवान।
Vindhya Prakash Mishra
हंँसना तुम सीखो ।
Buddha Prakash
महाराणा का शौर्य
Ashutosh Singh
तुम धूप छांव मेरे हिस्से की
Saraswati Bajpai
पर्यावरण बचा लो,कर लो बृक्षों की निगरानी अब
Pt. Brajesh Kumar Nayak
सही दिशा में
Ratan Kirtaniya
सनातन संस्कृति
मनोज कर्ण
पिता
Santoshi devi
बुद्ध या बुद्धू
Priya Maithil
पिता
Mamta Rani
तू हैं शब्दों का खिलाड़ी....
Dr. Alpa H.
पहाड़ों की रानी
Shailendra Aseem
Loading...