Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Nov 2023 · 1 min read

ये नोनी के दाई

ये नोनी के दाई
=================

का बतावव दुःख संगी
जिन्गी के काहनी।
घातेच सुघ्घर लागय जी गोसईन के जुबानी।।

दिन भर चिल्लावत राहव
ये नोनी के दाई।
लान तो ओ सुजी पानी ल
अउ दे तो दवाई।।

मरीज के ईलाज बर मोर
संगे संग हाथ बटावय।
घर के बुता भारी होवय तो
एको दिन असकटावय।।

एको दिन खिसिया जावय
झल्ला के काहय।
तहूं ह मार डरे बाबु के ददा
सब दुख ल साहय।।

महूं ह दिन भर काहत राहव
ये नोनी के दाई।
जल्दी अकन तै रांध डरबे
भुखा जही भाई।।

अब उही गोठ मन मोला सुरता आथे,।
नोनी के दाई ह , रोज सपना म चिल्लाथे।।

मौलिक रचना
डॉ विजय कुमार कन्नौजे अमोदी आरंग ज़िला रायपुर छ ग

Language: Hindi
2 Likes · 128 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हमारा मन
हमारा मन
surenderpal vaidya
पापा , तुम बिन जीवन रीता है
पापा , तुम बिन जीवन रीता है
Dilip Kumar
ज़िक्र तेरा लबों पर क्या आया
ज़िक्र तेरा लबों पर क्या आया
Dr fauzia Naseem shad
Temple of Raam
Temple of Raam
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
चाँद  भी  खूबसूरत
चाँद भी खूबसूरत
shabina. Naaz
देखिए लोग धोखा गलत इंसान से खाते हैं
देखिए लोग धोखा गलत इंसान से खाते हैं
शेखर सिंह
दीपावली २०२३ की हार्दिक शुभकामनाएं
दीपावली २०२३ की हार्दिक शुभकामनाएं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पते की बात - दीपक नीलपदम्
पते की बात - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
चाँद से वार्तालाप
चाँद से वार्तालाप
Dr MusafiR BaithA
3552.💐 *पूर्णिका* 💐
3552.💐 *पूर्णिका* 💐
Dr.Khedu Bharti
सफल सिद्धान्त
सफल सिद्धान्त
Dr. Kishan tandon kranti
* का बा v /s बा बा *
* का बा v /s बा बा *
Mukta Rashmi
जनपक्षधरता के कालजयी कवि रमेश रंजक :/-- ईश्वर दयाल गोस्वामी
जनपक्षधरता के कालजयी कवि रमेश रंजक :/-- ईश्वर दयाल गोस्वामी
ईश्वर दयाल गोस्वामी
परम लक्ष्य
परम लक्ष्य
Dr. Upasana Pandey
जब भी किसी संस्था में समर्पित व्यक्ति को झूठ और छल के हथियार
जब भी किसी संस्था में समर्पित व्यक्ति को झूठ और छल के हथियार
Sanjay ' शून्य'
---माँ---
---माँ---
Rituraj shivem verma
#मीडियाई_मखौल
#मीडियाई_मखौल
*प्रणय प्रभात*
*झूठी शान चौगुनी जग को, दिखलाते हैं शादी में (हिंदी गजल/व्यं
*झूठी शान चौगुनी जग को, दिखलाते हैं शादी में (हिंदी गजल/व्यं
Ravi Prakash
तेरा मेरा खुदा अलग क्यों है
तेरा मेरा खुदा अलग क्यों है
VINOD CHAUHAN
✍️फिर वही आ गये...
✍️फिर वही आ गये...
'अशांत' शेखर
इधर उधर की हांकना छोड़िए।
इधर उधर की हांकना छोड़िए।
ओनिका सेतिया 'अनु '
"सुहागन की अर्थी"
Ekta chitrangini
पथ प्रदर्शक पिता
पथ प्रदर्शक पिता
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
न्याय यात्रा
न्याय यात्रा
Bodhisatva kastooriya
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
ऑंधियों का दौर
ऑंधियों का दौर
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
हँस लो! आज  दर-ब-दर हैं
हँस लो! आज दर-ब-दर हैं
गुमनाम 'बाबा'
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Seema Garg
*
*"प्रकृति की व्यथा"*
Shashi kala vyas
काश तुम मिले ना होते तो ये हाल हमारा ना होता
काश तुम मिले ना होते तो ये हाल हमारा ना होता
Kumar lalit
Loading...