Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Jan 2023 · 1 min read

ये दिल।

ये दिल उन्हें बद्दुआ कैसे दे दें,
जो लबों पर बनकर दुआ बैठे है।।

✍️✍️ ताज मोहम्मद ✍️✍️

Language: Hindi
Tag: शेर
1 Like · 2 Comments · 226 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Taj Mohammad
View all
You may also like:
मौन देह से सूक्ष्म का, जब होता निर्वाण ।
मौन देह से सूक्ष्म का, जब होता निर्वाण ।
sushil sarna
The World on a Crossroad: Analysing the Pros and Cons of a Potential Superpower Conflict
The World on a Crossroad: Analysing the Pros and Cons of a Potential Superpower Conflict
Shyam Sundar Subramanian
खामोशी ने मार दिया।
खामोशी ने मार दिया।
Anil chobisa
शिक्षक श्री कृष्ण
शिक्षक श्री कृष्ण
Om Prakash Nautiyal
मित्रता-दिवस
मित्रता-दिवस
Kanchan Khanna
बदल डाला मुझको
बदल डाला मुझको
Dr fauzia Naseem shad
पर्यावरण संरक्षण*
पर्यावरण संरक्षण*
Madhu Shah
मांँ
मांँ
Diwakar Mahto
मैं
मैं
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
* भोर समय की *
* भोर समय की *
surenderpal vaidya
"मुर्गा"
Dr. Kishan tandon kranti
*दिल चाहता है*
*दिल चाहता है*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
आजादी की कहानी
आजादी की कहानी
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
3315.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3315.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
आज के दिन छोटी सी पिंकू, मेरे घर में आई
आज के दिन छोटी सी पिंकू, मेरे घर में आई
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*_......यादे......_*
*_......यादे......_*
Naushaba Suriya
लेखनी चले कलमकार की
लेखनी चले कलमकार की
Harminder Kaur
पूरा जब वनवास हुआ तब, राम अयोध्या वापस आये
पूरा जब वनवास हुआ तब, राम अयोध्या वापस आये
Dr Archana Gupta
ଷଡ ରିପୁ
ଷଡ ରିପୁ
Bidyadhar Mantry
जानबूझकर कभी जहर खाया नहीं जाता
जानबूझकर कभी जहर खाया नहीं जाता
सौरभ पाण्डेय
मूँछ पर दोहे (मूँछ-मुच्छड़ पुराण दोहावली )
मूँछ पर दोहे (मूँछ-मुच्छड़ पुराण दोहावली )
Subhash Singhai
मोबाइल
मोबाइल
लक्ष्मी सिंह
बीता समय अतीत अब,
बीता समय अतीत अब,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मतलब नहीं माँ बाप से अब, बीबी का गुलाम है
मतलब नहीं माँ बाप से अब, बीबी का गुलाम है
gurudeenverma198
■ जीवन सार...
■ जीवन सार...
*Author प्रणय प्रभात*
महफिलों का दौर चलने दो हर पल
महफिलों का दौर चलने दो हर पल
VINOD CHAUHAN
विकास की जिस सीढ़ी पर
विकास की जिस सीढ़ी पर
Bhupendra Rawat
किसी राह पे मिल भी जाओ मुसाफ़िर बन के,
किसी राह पे मिल भी जाओ मुसाफ़िर बन के,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
दादी की कहानी (कविता)
दादी की कहानी (कविता)
गुमनाम 'बाबा'
क्या गुजरती होगी उस दिल पर
क्या गुजरती होगी उस दिल पर
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
Loading...