Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
31 Oct 2023 · 1 min read

ये तो दुनिया है यहाँ लोग बदल जाते है

ये तो दुनिया है यहाँ लोग बदल जाते है
इतना मिलते है के मिलने को तरस जाते है…….shabinaZ

1 Like · 169 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from shabina. Naaz
View all
You may also like:
मासी की बेटियां
मासी की बेटियां
Adha Deshwal
हाथ जिनकी तरफ बढ़ाते हैं
हाथ जिनकी तरफ बढ़ाते हैं
Phool gufran
मां
मां
Sûrëkhâ
क्यो नकाब लगाती हो
क्यो नकाब लगाती हो
भरत कुमार सोलंकी
भरोसा सब पर कीजिए
भरोसा सब पर कीजिए
Ranjeet kumar patre
इन तन्हाइयो में तुम्हारी याद आयेगी
इन तन्हाइयो में तुम्हारी याद आयेगी
Ram Krishan Rastogi
आयेगी मौत जब
आयेगी मौत जब
Dr fauzia Naseem shad
मोहब्बत से जिए जाना ज़रूरी है ज़माने में
मोहब्बत से जिए जाना ज़रूरी है ज़माने में
Johnny Ahmed 'क़ैस'
कड़वी बात~
कड़वी बात~
दिनेश एल० "जैहिंद"
🌺🌻 *गुरु चरणों की धूल*🌻🌺
🌺🌻 *गुरु चरणों की धूल*🌻🌺
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
* मायने हैं *
* मायने हैं *
surenderpal vaidya
सच और सोच
सच और सोच
Neeraj Agarwal
तिरंगा
तिरंगा
लक्ष्मी सिंह
मां
मां
goutam shaw
नमन सभी शिक्षकों को, शिक्षक दिवस की बधाई 🎉
नमन सभी शिक्षकों को, शिक्षक दिवस की बधाई 🎉
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
जिस प्रकार इस धरती में गुरुत्वाकर्षण समाहित है वैसे ही इंसान
Rj Anand Prajapati
' मौन इक सँवाद '
' मौन इक सँवाद '
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
23/105.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/105.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अगर सीता स्वर्ण हिरण चाहेंगी....
अगर सीता स्वर्ण हिरण चाहेंगी....
Vishal babu (vishu)
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
घर घर रंग बरसे
घर घर रंग बरसे
Rajesh Tiwari
इससे सुंदर कोई नही लिख सकता 👌👌 मन की बात 👍बहुत सुंदर लिखा है
इससे सुंदर कोई नही लिख सकता 👌👌 मन की बात 👍बहुत सुंदर लिखा है
Rachna Mishra
बंधे रहे संस्कारों से।
बंधे रहे संस्कारों से।
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
शिव छन्द
शिव छन्द
Neelam Sharma
कोरोना तेरा शुक्रिया
कोरोना तेरा शुक्रिया
Sandeep Pande
चुनाव
चुनाव
Mukesh Kumar Sonkar
#पैरोडी-
#पैरोडी-
*प्रणय प्रभात*
"धरती"
Dr. Kishan tandon kranti
इस क़दर फंसे हुए है तेरी उलझनों में ऐ ज़िंदगी,
इस क़दर फंसे हुए है तेरी उलझनों में ऐ ज़िंदगी,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
भावुक हुए बहुत दिन हो गए
भावुक हुए बहुत दिन हो गए
Suryakant Dwivedi
Loading...