Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Mar 2024 · 1 min read

ये जो आँखों का पानी है बड़ा खानदानी है

ये जो आँखों का पानी है बड़ा खानदानी है
हर एक कि आंखों में एक नई कहानी है..

✍️Deepak saral

45 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सुख भी बाँटा है
सुख भी बाँटा है
Shweta Soni
याद करने के लिए बस यारियां रह जाएंगी।
याद करने के लिए बस यारियां रह जाएंगी।
सत्य कुमार प्रेमी
ये तो दुनिया है यहाँ लोग बदल जाते है
ये तो दुनिया है यहाँ लोग बदल जाते है
shabina. Naaz
भारत वर्ष (शक्ति छन्द)
भारत वर्ष (शक्ति छन्द)
नाथ सोनांचली
*मजा हार में आता (बाल कविता)*
*मजा हार में आता (बाल कविता)*
Ravi Prakash
मैं शायर भी हूँ,
मैं शायर भी हूँ,
Dr. Man Mohan Krishna
*सत्य ,प्रेम, करुणा,के प्रतीक अग्निपथ योद्धा,
*सत्य ,प्रेम, करुणा,के प्रतीक अग्निपथ योद्धा,
Shashi kala vyas
ईश्वर का
ईश्वर का "ह्यूमर" - "श्मशान वैराग्य"
Atul "Krishn"
"मुरीद"
Dr. Kishan tandon kranti
आदमी चिकना घड़ा है...
आदमी चिकना घड़ा है...
डॉ.सीमा अग्रवाल
वक्ता का है तकाजा जरा तुम सुनो।
वक्ता का है तकाजा जरा तुम सुनो।
कुंवर तुफान सिंह निकुम्भ
इस दिल में .....
इस दिल में .....
sushil sarna
3260.*पूर्णिका*
3260.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
सामाजिक क्रांति
सामाजिक क्रांति
Shekhar Chandra Mitra
मेरे शीघ्र प्रकाश्य उपन्यास से -
मेरे शीघ्र प्रकाश्य उपन्यास से -
kaustubh Anand chandola
आखिर क्या कमी है मुझमें......??
आखिर क्या कमी है मुझमें......??
Keshav kishor Kumar
बरखा
बरखा
Dr. Seema Varma
शीर्षक - बुढ़ापा
शीर्षक - बुढ़ापा
Neeraj Agarwal
जय संविधान...✊🇮🇳
जय संविधान...✊🇮🇳
Srishty Bansal
नवम दिवस सिद्धिधात्री,सब पर रहो प्रसन्न।
नवम दिवस सिद्धिधात्री,सब पर रहो प्रसन्न।
Neelam Sharma
दिल नहीं ऐतबार
दिल नहीं ऐतबार
Dr fauzia Naseem shad
माँ का प्यार
माँ का प्यार
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
तू एक फूल-सा
तू एक फूल-सा
Sunanda Chaudhary
दूर कहीं जब मीत पुकारे
दूर कहीं जब मीत पुकारे
Mahesh Tiwari 'Ayan'
पहले देखें, सोचें,पढ़ें और मनन करें,
पहले देखें, सोचें,पढ़ें और मनन करें,
DrLakshman Jha Parimal
और क्या कहूँ तुमसे मैं
और क्या कहूँ तुमसे मैं
gurudeenverma198
चंदा मामा और चंद्रयान
चंदा मामा और चंद्रयान
Ram Krishan Rastogi
फोन:-एक श्रृंगार
फोन:-एक श्रृंगार
पूर्वार्थ
■ 24 घण्टे चौधराहट।
■ 24 घण्टे चौधराहट।
*Author प्रणय प्रभात*
मां कृपा दृष्टि कर दे
मां कृपा दृष्टि कर दे
Seema gupta,Alwar
Loading...