Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Apr 2024 · 1 min read

ये खुदा अगर तेरे कलम की स्याही खत्म हो गई है तो मेरा खून लेल

ये खुदा अगर तेरे कलम की स्याही खत्म हो गई है तो मेरा खून लेले,
पर यूँ जिंदगी की कहानियां अधूरी न लिखा कर ll

1 Like · 43 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
राम भजन
राम भजन
आर.एस. 'प्रीतम'
"" *भारत* ""
सुनीलानंद महंत
ये मेरा हिंदुस्तान
ये मेरा हिंदुस्तान
Mamta Rani
दोहे -लालची
दोहे -लालची
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
*विभाजित जगत-जन! यह सत्य है।*
*विभाजित जगत-जन! यह सत्य है।*
संजय कुमार संजू
"खतरनाक"
Dr. Kishan tandon kranti
वो आया इस तरह से मेरे हिज़ार में।
वो आया इस तरह से मेरे हिज़ार में।
Phool gufran
मंगलमय कर दो प्रभो ,जटिल जगत की राह (कुंडलिया)
मंगलमय कर दो प्रभो ,जटिल जगत की राह (कुंडलिया)
Ravi Prakash
आकाश से आगे
आकाश से आगे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
सितारा कोई
सितारा कोई
shahab uddin shah kannauji
*** भाग्यविधाता ***
*** भाग्यविधाता ***
Chunnu Lal Gupta
ये  कहानी  अधूरी   ही  रह  जायेगी
ये कहानी अधूरी ही रह जायेगी
Yogini kajol Pathak
पहली नजर का जादू दिल पे आज भी है
पहली नजर का जादू दिल पे आज भी है
VINOD CHAUHAN
नहीं आया कोई काम मेरे
नहीं आया कोई काम मेरे
gurudeenverma198
*जीवन का आनन्द*
*जीवन का आनन्द*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
■ लघु व्यंग्य :-
■ लघु व्यंग्य :-
*Author प्रणय प्रभात*
छान रहा ब्रह्मांड की,
छान रहा ब्रह्मांड की,
sushil sarna
आतंक, आत्मा और बलिदान
आतंक, आत्मा और बलिदान
Suryakant Dwivedi
ॐ
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
23)”बसंत पंचमी दिवस”
23)”बसंत पंचमी दिवस”
Sapna Arora
तुम इश्क लिखना,
तुम इश्क लिखना,
Adarsh Awasthi
अभिव्यक्ति के प्रकार - भाग 03 Desert Fellow Rakesh Yadav
अभिव्यक्ति के प्रकार - भाग 03 Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
*ऐसा युग भी आएगा*
*ऐसा युग भी आएगा*
Harminder Kaur
मनुष्य की महत्ता
मनुष्य की महत्ता
ओंकार मिश्र
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
गीत, मेरे गांव के पनघट पर
गीत, मेरे गांव के पनघट पर
Mohan Pandey
My Chic Abuela🤍
My Chic Abuela🤍
Natasha Stephen
* मिट जाएंगे फासले *
* मिट जाएंगे फासले *
surenderpal vaidya
कुछ यूं मेरा इस दुनिया में,
कुछ यूं मेरा इस दुनिया में,
Lokesh Singh
सामाजिक कविता: बर्फ पिघलती है तो पिघल जाने दो,
सामाजिक कविता: बर्फ पिघलती है तो पिघल जाने दो,
Rajesh Kumar Arjun
Loading...