Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Mar 2023 · 1 min read

ये कैसी शायरी आँखों से आपने कर दी।

ये कैसी शायरी आँखों से आपने कर दी।
मेरे सिवाय कोई और उसे पढ़ न सका।।
कौन सा रंग लगाया था आपने कश्यप।
कई होली गई कोई और रंग चढ़ न सका।।

364 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
रंग जीवन के
रंग जीवन के
Ranjana Verma
पहाड़ी भाषा काव्य ( संग्रह )
पहाड़ी भाषा काव्य ( संग्रह )
श्याम सिंह बिष्ट
मात्र क्षणिक आनन्द को,
मात्र क्षणिक आनन्द को,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अंधेरों रात और चांद का दीदार
अंधेरों रात और चांद का दीदार
Charu Mitra
आने घर से हार गया
आने घर से हार गया
Suryakant Dwivedi
*******खुशी*********
*******खुशी*********
Dr. Vaishali Verma
मैं आग नही फिर भी चिंगारी का आगाज हूं,
मैं आग नही फिर भी चिंगारी का आगाज हूं,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
मंगल मूरत
मंगल मूरत
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
जीवन सभी का मस्त है
जीवन सभी का मस्त है
Neeraj Agarwal
2863.*पूर्णिका*
2863.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विषम परिस्थियां
विषम परिस्थियां
Dr fauzia Naseem shad
किस किस्से का जिक्र
किस किस्से का जिक्र
Bodhisatva kastooriya
बे खुदी में सवाल करते हो
बे खुदी में सवाल करते हो
SHAMA PARVEEN
कोरोना का रोना! / MUSAFIR BAITHA
कोरोना का रोना! / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
बैठी रहो कुछ देर और
बैठी रहो कुछ देर और
gurudeenverma198
मैं हू बेटा तेरा तूही माँ है मेरी
मैं हू बेटा तेरा तूही माँ है मेरी
Basant Bhagawan Roy
मगरूर क्यों हैं
मगरूर क्यों हैं
Mamta Rani
अपनी हसरत अपने दिल में दबा कर रखो
अपनी हसरत अपने दिल में दबा कर रखो
पूर्वार्थ
मैं तो महज इत्तिफ़ाक़ हूँ
मैं तो महज इत्तिफ़ाक़ हूँ
VINOD CHAUHAN
*उसको पाना है यदि तो, मन वृंदावन करना होगा【भक्ति-गीतिका】*
*उसको पाना है यदि तो, मन वृंदावन करना होगा【भक्ति-गीतिका】*
Ravi Prakash
जिंदगी को बड़े फक्र से जी लिया।
जिंदगी को बड़े फक्र से जी लिया।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
विडंबना इस युग की ऐसी, मानवता यहां लज्जित है।
विडंबना इस युग की ऐसी, मानवता यहां लज्जित है।
Manisha Manjari
"मैं पूछता हूँ"
Dr. Kishan tandon kranti
💐प्रेम कौतुक-163💐
💐प्रेम कौतुक-163💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्यार हो जाय तो तकदीर बना देता है।
प्यार हो जाय तो तकदीर बना देता है।
Satish Srijan
श्रद्धा के चिथड़े उड़ जाएं
श्रद्धा के चिथड़े उड़ जाएं
*Author प्रणय प्रभात*
व्यक्ति की सबसे बड़ी भक्ति और शक्ति यही होनी चाहिए कि वह खुद
व्यक्ति की सबसे बड़ी भक्ति और शक्ति यही होनी चाहिए कि वह खुद
Rj Anand Prajapati
समझ
समझ
Dinesh Kumar Gangwar
जाने क्यों तुमसे मिलकर भी
जाने क्यों तुमसे मिलकर भी
Sunil Suman
रिश्तों की गहराई लिख - संदीप ठाकुर
रिश्तों की गहराई लिख - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
Loading...