Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
23 Jul 2016 · 1 min read

यूं ही

एक नजर……आज यूँ ही पर……………..आपकी नजर

न दे तू इल्जाम हवाओं को यूँ ही
रोक कुछ देर फिजाओं को यूँ ही
**************************
मैने ये कब कहा कि लौटूंगा नही
रोक कुछ देर तमन्नाओ को यूँ ही
**************************
कपिल कुमार
15/02/2016

Language: Hindi
4 Comments · 199 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बड़ा भाई बोल रहा हूं।
बड़ा भाई बोल रहा हूं।
SATPAL CHAUHAN
मंदिर बनगो रे
मंदिर बनगो रे
Sandeep Pande
कबीर एवं तुलसीदास संतवाणी
कबीर एवं तुलसीदास संतवाणी
Khaimsingh Saini
■ मुद्दा / पूछे जनता जनार्दन...!!
■ मुद्दा / पूछे जनता जनार्दन...!!
*Author प्रणय प्रभात*
अंदाज़े शायरी
अंदाज़े शायरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
8-मेरे मुखड़े को सूरज चाँद से माँ तोल देती है
8-मेरे मुखड़े को सूरज चाँद से माँ तोल देती है
Ajay Kumar Vimal
झूठा घमंड
झूठा घमंड
Shekhar Chandra Mitra
साथ जब चाहा था
साथ जब चाहा था
Ranjana Verma
Us jamane se iss jamane tak ka safar ham taye karte rhe
Us jamane se iss jamane tak ka safar ham taye karte rhe
Sakshi Tripathi
कोई अपना नहीं है
कोई अपना नहीं है
Dr fauzia Naseem shad
परोपकार
परोपकार
Neeraj Agarwal
किसी से बाते करना छोड़ देना यानि की त्याग देना, उसे ब्लॉक कर
किसी से बाते करना छोड़ देना यानि की त्याग देना, उसे ब्लॉक कर
Rj Anand Prajapati
*शरीर : आठ दोहे*
*शरीर : आठ दोहे*
Ravi Prakash
*पुरानी पेंशन हक है मेरा(गीत)*
*पुरानी पेंशन हक है मेरा(गीत)*
Dushyant Kumar
*
*"हिंदी"*
Shashi kala vyas
मनुष्य की महत्ता
मनुष्य की महत्ता
ओंकार मिश्र
తెలుగు
తెలుగు
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
2812. *पूर्णिका*
2812. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मन
मन
Sûrëkhâ Rãthí
हवायें तितलियों के पर काट लेती हैं
हवायें तितलियों के पर काट लेती हैं
कवि दीपक बवेजा
तुझसा कोई प्यारा नहीं
तुझसा कोई प्यारा नहीं
Mamta Rani
सफर पर निकले थे जो मंजिल से भटक गए
सफर पर निकले थे जो मंजिल से भटक गए
डी. के. निवातिया
*किस्मत में यार नहीं होता*
*किस्मत में यार नहीं होता*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कितने दिलों को तोड़ती है कमबख्त फरवरी
कितने दिलों को तोड़ती है कमबख्त फरवरी
Vivek Pandey
घर हो तो ऐसा
घर हो तो ऐसा
Dr. Pradeep Kumar Sharma
💐प्रेम कौतुक-211💐
💐प्रेम कौतुक-211💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
देख सिसकता भोला बचपन...
देख सिसकता भोला बचपन...
डॉ.सीमा अग्रवाल
इश्क वो गुनाह है
इश्क वो गुनाह है
Surinder blackpen
जब घर से दूर गया था,
जब घर से दूर गया था,
भवेश
बना एक दिन वैद्य का
बना एक दिन वैद्य का
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
Loading...