Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Jul 2023 · 1 min read

युवा

एक युवा ऐसा चाहिए हो
भगत सिंह सा प्रेम देश को
और गांधी सा त्याग
हो टेरेसा सा निर्मल हृदय
और चन्द्र शेखर सी आग।

एक युवा ऐसा चाहिए।

हो राम सी धीरता जिसमें
और मीरा सा दृढ़
हो ध्यान चन्द्र सा कौशल जिसमें
पुलकित करे राष्ट्र का कण कण

एक युवा ऐसा चाहिए।

गीता जैसा ज्ञान हो जिसमें
धरती सा बलिदान हो जिसमें
हो भारत मां का वो लाल
फूके जो हर तन में प्राण

एक युवा ऐसा चाहिए

आत्म का हो ज्ञान उसमें
साधु सा हो ध्यान उसमें
इन्द्रियां हों जिसके वश में
बोध हो जिसके ह्यदय में
हो चेतना का वो दीपक

एक युवा ऐसा चाहिए
एक युवा ऐसा चाहिए।।

Language: Hindi
1 Like · 122 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
The stars are waiting for this adorable day.
The stars are waiting for this adorable day.
Sakshi Tripathi
मोबाइल (बाल कविता)
मोबाइल (बाल कविता)
Ravi Prakash
कलेवा
कलेवा
Satish Srijan
"दबंग झूठ"
Dr. Kishan tandon kranti
अपने वजूद की
अपने वजूद की
Dr fauzia Naseem shad
ମର୍ଯ୍ୟାଦା ପୁରୁଷୋତ୍ତମ ଶ୍ରୀରାମ
ମର୍ଯ୍ୟାଦା ପୁରୁଷୋତ୍ତମ ଶ୍ରୀରାମ
Bidyadhar Mantry
गुरु-पूर्णिमा पर...!!
गुरु-पूर्णिमा पर...!!
Kanchan Khanna
प्रेम जीवन में सार
प्रेम जीवन में सार
Dr.sima
बुंदेली चौकड़िया-पानी
बुंदेली चौकड़िया-पानी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
तज द्वेष
तज द्वेष
Neelam Sharma
माता सति की विवशता
माता सति की विवशता
SHAILESH MOHAN
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
अंतरराष्ट्रीय श्रमिक दिवस
अंतरराष्ट्रीय श्रमिक दिवस
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
कुछ तुम कहो जी, कुछ हम कहेंगे
कुछ तुम कहो जी, कुछ हम कहेंगे
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
एक ख्वाब थे तुम,
एक ख्वाब थे तुम,
लक्ष्मी सिंह
गुस्सा करते–करते हम सैचुरेटेड हो जाते हैं, और, हम वाजिब गुस्
गुस्सा करते–करते हम सैचुरेटेड हो जाते हैं, और, हम वाजिब गुस्
Dr MusafiR BaithA
पलक झपकते हो गया, निष्ठुर  मौन  प्रभात ।
पलक झपकते हो गया, निष्ठुर मौन प्रभात ।
sushil sarna
गजल
गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
पूर्णिमा का चाँद
पूर्णिमा का चाँद
Neeraj Agarwal
अधीर मन
अधीर मन
manisha
*जीवन का आनन्द*
*जीवन का आनन्द*
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हम बेजान हैं।
हम बेजान हैं।
Taj Mohammad
अंदाज़े बयाँ
अंदाज़े बयाँ
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
दुनियाँ के दस्तूर बदल गए हैं
दुनियाँ के दस्तूर बदल गए हैं
हिमांशु Kulshrestha
हाथ में फूल गुलाबों के हीं सच्चे लगते हैं
हाथ में फूल गुलाबों के हीं सच्चे लगते हैं
Shweta Soni
पूछ लेना नींद क्यों नहीं आती है
पूछ लेना नींद क्यों नहीं आती है
पूर्वार्थ
होली, नौराते, गणगौर,
होली, नौराते, गणगौर,
*Author प्रणय प्रभात*
2883.*पूर्णिका*
2883.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
नफ़रतों की बर्फ़ दिल में अब पिघलनी चाहिए।
नफ़रतों की बर्फ़ दिल में अब पिघलनी चाहिए।
सत्य कुमार प्रेमी
मैं भी चापलूस बन गया (हास्य कविता)
मैं भी चापलूस बन गया (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
Loading...