Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
28 Apr 2022 · 1 min read

युद्ध सिर्फ प्रश्न खड़ा करता है [भाग३]

युद्ध में मरा हुआ परिवार,
जिसके घर में कोई न बचा था!
बेज़ान पड़ी दीवारें आज,
अपने मालिक के लिए रो रहा था!

कल तक इस घर में
कितनी खुशियाँ हुआ करती थी !
मेरी हर दीवारें ठहाकों से
गुंजा करती थी!

मेरे इस घर में चारों तरफ
रोनक ही रोनक हुआ करता था!
घर के चारो तरफ खुशियाँ ही खुशियाँ ,
बिखरा रहता था!

आज यहाँ केवल सन्नाटा
बिखरा पड़ा हुआ है,
इन सब को कैसे गति दिलाऊँ
कोई तो नही आ रहा है!

इस युद्ध ने तो पूरा परिवार
ही छिन लिया है!
अब इन चीज़ो को भोगने के लिए
कहा कोई रह गया है!

कल तक जो घर हुआ
करता था!
अब खण्डहर में बदल गया है!
क्योंकि इस घर को घर बनाने वाला ,
कोई जो न रह गया है!

इससे अच्छा हम पत्थर के सही है
कम से कम अपने स्वार्थ के लिए
किसी को मारा नहीं करते है ,
जहाँ रख दिया जाता अपने हिस्से मे रहते हैं!

अब इन बेचारो को मुक्ति
कैसे मिले,
इन प्रश्नो का उत्तर तलाश रहा
आज भी वह घर खड़े -खड़े
यही सोच रहा है!

~अनामिका

Language: Hindi
4 Likes · 317 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सच जिंदा रहे(मुक्तक)
सच जिंदा रहे(मुक्तक)
दुष्यन्त 'बाबा'
हो रही है भोर अनुपम देखिए।
हो रही है भोर अनुपम देखिए।
surenderpal vaidya
#मुक्तक
#मुक्तक
*Author प्रणय प्रभात*
मानता हूँ हम लड़े थे कभी
मानता हूँ हम लड़े थे कभी
gurudeenverma198
★जब वो रूठ कर हमसे कतराने लगे★
★जब वो रूठ कर हमसे कतराने लगे★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
पाखी खोले पंख : व्यापक फलक की प्रस्तुति
पाखी खोले पंख : व्यापक फलक की प्रस्तुति
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
तंबाकू खाता रहा , जाने किस को कौन (कुंडलिया)
तंबाकू खाता रहा , जाने किस को कौन (कुंडलिया)
Ravi Prakash
चंद्रयान विश्व कीर्तिमान
चंद्रयान विश्व कीर्तिमान
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
ताजन हजार
ताजन हजार
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
तू रुकना नहीं,तू थकना नहीं,तू हारना नहीं,तू मारना नहीं
तू रुकना नहीं,तू थकना नहीं,तू हारना नहीं,तू मारना नहीं
पूर्वार्थ
दर्द भरा गीत यहाँ गाया जा सकता है Vinit Singh Shayar
दर्द भरा गीत यहाँ गाया जा सकता है Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
जीतेंगे हम, हारेगा कोरोना
जीतेंगे हम, हारेगा कोरोना
Dr. Pradeep Kumar Sharma
राम दर्शन
राम दर्शन
Shyam Sundar Subramanian
अजी सुनते हो मेरे फ्रिज में टमाटर भी है !
अजी सुनते हो मेरे फ्रिज में टमाटर भी है !
Anand Kumar
गाछ सभक लेल
गाछ सभक लेल
DrLakshman Jha Parimal
*अगर आपको चिंता दूर करनी है तो इसका सबसे आसान तरीका है कि लो
*अगर आपको चिंता दूर करनी है तो इसका सबसे आसान तरीका है कि लो
Shashi kala vyas
2317.पूर्णिका
2317.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
खांचे में बंट गए हैं अपराधी
खांचे में बंट गए हैं अपराधी
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
प्यार का नाम मेरे दिल से मिटाया तूने।
प्यार का नाम मेरे दिल से मिटाया तूने।
Phool gufran
ऐसा क्यों होता है
ऐसा क्यों होता है
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
💐अज्ञात के प्रति-51💐
💐अज्ञात के प्रति-51💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
రామ భజే శ్రీ కృష్ణ భజే
రామ భజే శ్రీ కృష్ణ భజే
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
Mukesh Kumar Sonkar
बिखर गई INDIA की टीम बारी बारी ,
बिखर गई INDIA की टीम बारी बारी ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
"आँगन की तुलसी"
Ekta chitrangini
भक्ति -गजल
भक्ति -गजल
rekha mohan
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
दिल की भाषा
दिल की भाषा
Ram Krishan Rastogi
"चलना और रुकना"
Dr. Kishan tandon kranti
आसमानों को छूने की चाह में निकले थे
आसमानों को छूने की चाह में निकले थे
कवि दीपक बवेजा
Loading...