Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Oct 2022 · 1 min read

*युगों-युगों से सदा रहे हम दोनों जीवन-साथी (मुक्तक)*

युगों-युगों से सदा रहे हम दोनों जीवन-साथी (मुक्तक)
______________________
चलो नहाऍं आज चाँदनी में घूमें हम दोनों
चलो चाँद को अपने अधरों से चूमें हम दोनों
युगों-युगों से सदा रहे हम दोनों जीवन-साथी
चलो एक दूजे को पाकर फिर झूमें हम दोनों
————————————
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

114 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Ravi Prakash
View all
You may also like:
एक शख्स
एक शख्स
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
(18) छलों का पाठ्यक्रम इक नया चलाओ !
(18) छलों का पाठ्यक्रम इक नया चलाओ !
Kishore Nigam
मन की दुनिया अजब निराली
मन की दुनिया अजब निराली
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
किस क़दर आसान था
किस क़दर आसान था
हिमांशु Kulshrestha
"देखना हो तो"
Dr. Kishan tandon kranti
'रामबाण' : धार्मिक विकार से चालित मुहावरेदार शब्द / DR. MUSAFIR BAITHA
'रामबाण' : धार्मिक विकार से चालित मुहावरेदार शब्द / DR. MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
23/01.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
23/01.छत्तीसगढ़ी पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
लगाव
लगाव
Rajni kapoor
या तो सच उसको बता दो
या तो सच उसको बता दो
gurudeenverma198
अवसर
अवसर
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जादू था या तिलिस्म था तेरी निगाह में,
जादू था या तिलिस्म था तेरी निगाह में,
Shweta Soni
मेरे जज़्बात कुछ अलग हैं,
मेरे जज़्बात कुछ अलग हैं,
Sunil Maheshwari
याद रहेगा यह दौर मुझको
याद रहेगा यह दौर मुझको
Ranjeet kumar patre
छोड़ भगौने को चमचा, चल देगा उस दिन ।
छोड़ भगौने को चमचा, चल देगा उस दिन ।
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
शेखर सिंह
शेखर सिंह
शेखर सिंह
जल रहें हैं, जल पड़ेंगे और जल - जल   के जलेंगे
जल रहें हैं, जल पड़ेंगे और जल - जल के जलेंगे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
नेपालीको गर्व(Pride of Nepal)
नेपालीको गर्व(Pride of Nepal)
Sidhartha Mishra
स्थाई- कहो सुनो और गुनों
स्थाई- कहो सुनो और गुनों
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
*पिताजी को मुंडी लिपि आती थी*
*पिताजी को मुंडी लिपि आती थी*
Ravi Prakash
गजल सगीर
गजल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
दौर ऐसा हैं
दौर ऐसा हैं
SHAMA PARVEEN
*पानी व्यर्थ न गंवाओ*
*पानी व्यर्थ न गंवाओ*
Dushyant Kumar
उड़ान
उड़ान
Saraswati Bajpai
आजकल के परिवारिक माहौल
आजकल के परिवारिक माहौल
पूर्वार्थ
वर्षा के दिन आए
वर्षा के दिन आए
Dr. Pradeep Kumar Sharma
स्वच्छंद प्रेम
स्वच्छंद प्रेम
Dr Parveen Thakur
बेटा हिन्द का हूँ
बेटा हिन्द का हूँ
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दोहे : प्रभात वंदना हेतु
दोहे : प्रभात वंदना हेतु
आर.एस. 'प्रीतम'
महसूस करो दिल से
महसूस करो दिल से
Dr fauzia Naseem shad
ओ लहर बहती रहो …
ओ लहर बहती रहो …
Rekha Drolia
Loading...