Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Oct 2022 · 1 min read

*युगों-युगों से सदा रहे हम दोनों जीवन-साथी (मुक्तक)*

*युगों-युगों से सदा रहे हम दोनों जीवन-साथी (मुक्तक)*
______________________
चलो नहाऍं आज चाँदनी में घूमें हम दोनों
चलो चाँद को अपने अधरों से चूमें हम दोनों
युगों-युगों से सदा रहे हम दोनों जीवन-साथी
चलो एक दूजे को पाकर फिर झूमें हम दोनों
————————————
रचयिता : रवि प्रकाश
बाजार सर्राफा, रामपुर उत्तर प्रदेश
मोबाइल 99976 15451

57 Views

Books from Ravi Prakash

You may also like:
हे माधव हे गोविन्द
हे माधव हे गोविन्द
Pooja Singh
नौनी लगै घमौरी रे ! (बुंदेली गीत)
नौनी लगै घमौरी रे ! (बुंदेली गीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
कितने मादक ये जलधर हैं
कितने मादक ये जलधर हैं
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
ठीक है अब मैं भी
ठीक है अब मैं भी
gurudeenverma198
वक़्त पर लिखे अशआर
वक़्त पर लिखे अशआर
Dr fauzia Naseem shad
"सोच के मामले में
*Author प्रणय प्रभात*
आहुति
आहुति
Khumar Dehlvi
"बेहतर दुनिया के लिए"
Dr. Kishan tandon kranti
💐प्रेम कौतुक-312💐
💐प्रेम कौतुक-312💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
“ बुजुर्ग और कंप्युटर ”
“ बुजुर्ग और कंप्युटर ”
DrLakshman Jha Parimal
प्रेम तुम्हारा ...
प्रेम तुम्हारा ...
डॉ.सीमा अग्रवाल
*
*
Rashmi Sanjay
जानती हूँ मैं की हर बार तुझे लौट कर आना है, पर बता कर जाया कर, तेरी फ़िक्र पर हमें भी अपना हक़ आजमाना है।
जानती हूँ मैं की हर बार तुझे लौट कर आना...
Manisha Manjari
**--नए वर्ष की नयी उमंग --**
**--नए वर्ष की नयी उमंग --**
Shilpi Singh
नये वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं
नये वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं
कुंदन सिंह बिहारी
चौवालीस दिन का नर्क (जुन्को फुरुता) //Forty-four days of hell....
चौवालीस दिन का नर्क (जुन्को फुरुता) //Forty-four days of hell....
साहित्य लेखन- एहसास और जज़्बात
अद्भूत व्यक्तित्व है “नारी”
अद्भूत व्यक्तित्व है “नारी”
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
सीमवा पे डटल हवे, हमरे भैय्या फ़ौजी
सीमवा पे डटल हवे, हमरे भैय्या फ़ौजी
Er.Navaneet R Shandily
आओ आज तुम्हें मैं सुला दूं
आओ आज तुम्हें मैं सुला दूं
Surinder blackpen
विरान तो
विरान तो
rita Singh "Sarjana"
समाज या परिवार हो, मौजूदा परिवेश
समाज या परिवार हो, मौजूदा परिवेश
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
मेरी मोहब्बत, श्रद्धा वालकर
मेरी मोहब्बत, श्रद्धा वालकर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
जनरल विपिन रावत
जनरल विपिन रावत
Surya Barman
*** पेड़ : अब किसे लिखूँ अपनी अरज....!! ***
*** पेड़ : अब किसे लिखूँ अपनी अरज....!! ***
VEDANTA PATEL
गम छुपाए रखते है।
गम छुपाए रखते है।
Taj Mohammad
"शिवाजी और उनके द्वारा किए समाज सुधार के कार्य"
Pravesh Shinde
*अपने पैरों पर चला (हिंदी गजल/गीतिका)*
*अपने पैरों पर चला (हिंदी गजल/गीतिका)*
Ravi Prakash
हिंदी दोहा- बचपन
हिंदी दोहा- बचपन
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
🚩वैराग्य
🚩वैराग्य
Pt. Brajesh Kumar Nayak
कर्मण्य
कर्मण्य
Shyam Pandey
Loading...