Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Feb 2024 · 1 min read

या देवी सर्वभूतेषु विद्यारुपेण संस्थिता

या देवी सर्वभूतेषु विद्यारुपेण संस्थिता
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः
🙏जय माँ सरस्वती 🙏

1 Like · 1 Comment · 97 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
खामोश अवशेष ....
खामोश अवशेष ....
sushil sarna
जिंदगी एक भंवर है
जिंदगी एक भंवर है
Harminder Kaur
सौतियाडाह
सौतियाडाह
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
' चाह मेँ ही राह '
' चाह मेँ ही राह '
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
हर चाह..एक आह बनी
हर चाह..एक आह बनी
Priya princess panwar
#इंतज़ार_जारी
#इंतज़ार_जारी
*Author प्रणय प्रभात*
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-143के दोहे
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-143के दोहे
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
बे मन सा इश्क और बात बेमन का
बे मन सा इश्क और बात बेमन का
सिद्धार्थ गोरखपुरी
सच तो कुछ भी न,
सच तो कुछ भी न,
Neeraj Agarwal
बाबा भीम आये हैं
बाबा भीम आये हैं
gurudeenverma198
सुनो तुम
सुनो तुम
Sangeeta Beniwal
अंतस का तम मिट जाए
अंतस का तम मिट जाए
Shweta Soni
हाथी के दांत
हाथी के दांत
Dr. Pradeep Kumar Sharma
क्यूँ ख़ामोशी पसरी है
क्यूँ ख़ामोशी पसरी है
हिमांशु Kulshrestha
Safeguarding Against Cyber Threats: Vital Cybersecurity Measures for Preventing Data Theft and Contemplated Fraud
Safeguarding Against Cyber Threats: Vital Cybersecurity Measures for Preventing Data Theft and Contemplated Fraud
Shyam Sundar Subramanian
मुश्किलों पास आओ
मुश्किलों पास आओ
Dr. Meenakshi Sharma
★गहने ★
★गहने ★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
मेरा प्रयास ही है, मेरा हथियार किसी चीज को पाने के लिए ।
मेरा प्रयास ही है, मेरा हथियार किसी चीज को पाने के लिए ।
Ashish shukla
किसी अंधेरी कोठरी में बैठा वो एक ब्रम्हराक्षस जो जानता है सब
किसी अंधेरी कोठरी में बैठा वो एक ब्रम्हराक्षस जो जानता है सब
Utkarsh Dubey “Kokil”
कितना प्यार
कितना प्यार
Swami Ganganiya
मातृभाषा
मातृभाषा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
2989.*पूर्णिका*
2989.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
कभी जब आपका दीदार होगा।
कभी जब आपका दीदार होगा।
सत्य कुमार प्रेमी
*घर-घर में अब चाय है, दिनभर दिखती आम (कुंडलिया)*
*घर-घर में अब चाय है, दिनभर दिखती आम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
अपने ख्वाबों से जो जंग हुई
अपने ख्वाबों से जो जंग हुई
VINOD CHAUHAN
कहना तो बहुत कुछ है
कहना तो बहुत कुछ है
पूर्वार्थ
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ज़बानें हमारी हैं, सदियों पुरानी
ज़बानें हमारी हैं, सदियों पुरानी
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Kitna hasin ittefak tha ,
Kitna hasin ittefak tha ,
Sakshi Tripathi
"काश"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...