Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Nov 2016 · 1 min read

५) यार

यार, और रार,
नहीं अब जमाने में,
वक़्त का तक़ाज़ा हैं
यार, और रार जमानें में ।

ऑंखें दिखती नहीं
चश्मों के नीचे,
शीशों के रंग
बदलते हैं जमानें में ।

मौक़ा ढूँढना अब,
रिवाज रहा नहीं
मौक़ा रचना अब,
ब्यापार नया है जमाने में !

नेकी की दुकान
सजती हैं अब,
नगद उधार यह
बहती है जमानें में ।

इन्सान बहकता है,
नयें तरंगों में,
इन्सानियत से दूर,
उसकी पहचान है जमानें में !

नरेन्द्र। ।

Language: Hindi
323 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
उत्कृष्टता
उत्कृष्टता
Paras Nath Jha
शब्द वाणी
शब्द वाणी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
*भगवान के नाम पर*
*भगवान के नाम पर*
Dushyant Kumar
माता-पिता
माता-पिता
Saraswati Bajpai
जय बोलो मानवता की🙏
जय बोलो मानवता की🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
तुम आये तो हमें इल्म रोशनी का हुआ
तुम आये तो हमें इल्म रोशनी का हुआ
sushil sarna
मैं क्या लिखूँ
मैं क्या लिखूँ
Aman Sinha
* सताना नहीं *
* सताना नहीं *
surenderpal vaidya
*चले राम को वन से लाने, भरत चरण-अनुरागी (गीत)*
*चले राम को वन से लाने, भरत चरण-अनुरागी (गीत)*
Ravi Prakash
सुनो - दीपक नीलपदम्
सुनो - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
जीवन
जीवन
लक्ष्मी सिंह
बहुत दोस्त मेरे बन गये हैं
बहुत दोस्त मेरे बन गये हैं
DrLakshman Jha Parimal
"नारी जब माँ से काली बनी"
Ekta chitrangini
मेरे नन्हें-नन्हें पग है,
मेरे नन्हें-नन्हें पग है,
Buddha Prakash
नित तेरी पूजा करता मैं,
नित तेरी पूजा करता मैं,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
#ग़ज़ल
#ग़ज़ल
आर.एस. 'प्रीतम'
ग़रीब
ग़रीब
Artist Sudhir Singh (सुधीरा)
फ़ितरत को जब से
फ़ितरत को जब से
Dr fauzia Naseem shad
मां
मां
Manu Vashistha
राम आएंगे
राम आएंगे
Neeraj Agarwal
समकालीन हिंदी कविता का परिदृश्य
समकालीन हिंदी कविता का परिदृश्य
Dr. Pradeep Kumar Sharma
याद
याद
Sushil chauhan
अम्बेडकरवादी हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
अम्बेडकरवादी हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
डर होता है
डर होता है
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
प्रेम भाव रक्षित रखो,कोई भी हो तव धर्म।
प्रेम भाव रक्षित रखो,कोई भी हो तव धर्म।
ओम प्रकाश श्रीवास्तव
साजन तुम आ जाना...
साजन तुम आ जाना...
डॉ.सीमा अग्रवाल
■ उल्लू छाप...बिचारे
■ उल्लू छाप...बिचारे
*Author प्रणय प्रभात*
~~तीन~~
~~तीन~~
Dr. Vaishali Verma
हवाओं ने पतझड़ में, साजिशों का सहारा लिया,
हवाओं ने पतझड़ में, साजिशों का सहारा लिया,
Manisha Manjari
कबीर के राम
कबीर के राम
Shekhar Chandra Mitra
Loading...