Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Apr 2024 · 1 min read

* याद है *

** गीतिका **
~~
याद है अब हमें बात प्रिय आपकी।
खूबसूरत मुलाकात प्रिय आपकी।

अब भुलाए नहीं भूल पाती कभी।
साथ में चान्दनी रात प्रिय आपकी।

प्यार के गीत गाते निखरती रही।
भीगती खूब बरसात प्रिय आपकी।

हो समय तो कभी भी स्मरण कीजिए।
शह दिए थी मगर मात प्रिय आपकी।

है खिली खूब स्मृतियां लिए जिन्दगी।
यह मधुर शुभ्र सौगात प्रिय आपकी।

पुष्प सा खिल उठा मन हमारा बहुत।
देखकर अब करामात हर आपकी।
~~~~~~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य

1 Like · 1 Comment · 37 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
मैं आदमी असरदार हूं - हरवंश हृदय
मैं आदमी असरदार हूं - हरवंश हृदय
हरवंश हृदय
* चाह भीगने की *
* चाह भीगने की *
surenderpal vaidya
नाम मौहब्बत का लेकर मेरी
नाम मौहब्बत का लेकर मेरी
Phool gufran
हंसी मुस्कान
हंसी मुस्कान
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
सताता है मुझको मेरा ही साया
सताता है मुझको मेरा ही साया
Madhuyanka Raj
अफ़सोस न करो
अफ़सोस न करो
Dr fauzia Naseem shad
25-बढ़ रही है रोज़ महँगाई किसे आवाज़ दूँ
25-बढ़ रही है रोज़ महँगाई किसे आवाज़ दूँ
Ajay Kumar Vimal
तुझे देखने को करता है मन
तुझे देखने को करता है मन
Rituraj shivem verma
*आए जब से राम हैं, चारों ओर वसंत (कुंडलिया)*
*आए जब से राम हैं, चारों ओर वसंत (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
उसकी बाहो में ये हसीन रात आखिरी होगी
उसकी बाहो में ये हसीन रात आखिरी होगी
Ravi singh bharati
भारत और इंडिया तुलनात्मक सृजन
भारत और इंडिया तुलनात्मक सृजन
लक्ष्मी सिंह
रिश्ते..
रिश्ते..
हिमांशु Kulshrestha
Ghazal
Ghazal
shahab uddin shah kannauji
हर सांस की गिनती तय है - रूख़सती का भी दिन पहले से है मुक़र्रर
हर सांस की गिनती तय है - रूख़सती का भी दिन पहले से है मुक़र्रर
Atul "Krishn"
....????
....????
शेखर सिंह
बेनाम जिन्दगी थी फिर क्यूँ नाम दे दिया।
बेनाम जिन्दगी थी फिर क्यूँ नाम दे दिया।
Rajesh Tiwari
मौन तपधारी तपाधिन सा लगता है।
मौन तपधारी तपाधिन सा लगता है।
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
एक तुम्हारे होने से....!!!
एक तुम्हारे होने से....!!!
Kanchan Khanna
हार गए तो क्या हुआ?
हार गए तो क्या हुआ?
Praveen Bhardwaj
मुझे फर्क पड़ता है।
मुझे फर्क पड़ता है।
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
संत गुरु नानक देवजी का हिंदी साहित्य में योगदान
संत गुरु नानक देवजी का हिंदी साहित्य में योगदान
Indu Singh
"स्वतंत्रता दिवस"
Slok maurya "umang"
हर एक राज को राज ही रख के आ गए.....
हर एक राज को राज ही रख के आ गए.....
कवि दीपक बवेजा
आप और हम जीवन के सच
आप और हम जीवन के सच
Neeraj Agarwal
औरत की नजर
औरत की नजर
Annu Gurjar
आसमान तक पहुंचे हो धरती पर हो पांव
आसमान तक पहुंचे हो धरती पर हो पांव
नूरफातिमा खातून नूरी
अधूरी प्रीत से....
अधूरी प्रीत से....
sushil sarna
खोट
खोट
GOVIND UIKEY
"मुखौटे"
इंदु वर्मा
नए साल के ज़श्न को हुए सभी तैयार
नए साल के ज़श्न को हुए सभी तैयार
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
Loading...