Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Oct 2022 · 1 min read

यादों से छुटकारा

तू तो चला गया मगर
तेरी याद जायेगी कैसे
सांसे ही उखड़ गई
अब ज़िंदगी चलेगी कैसे

लिखी थी जो किताब हमनें
उसके सारे शब्द मिट गए
कोरा कागज़ रह गई ये ज़िंदगी
मेरे जीवन से जब तुम गए

आदत बन गए थे तुम मेरी
इस आदत को छुड़ाऊं कैसे
सुनता नहीं तू दिल की पुकार
अब और तुझे में बताऊं कैसे

रोग दिल का लगाकर
फिर दिल से चले जाना
है नहीं ये बात अच्छी
अब क्या कहेगा ज़माना

चले जाने के बाद भी
तेरा मेरे सपनों में यूं आना
मुझे और सताने का
लग रहा है ये नया बहाना

छुटकारा चाहता है दिल
अब तेरी यादों से भी
जैसे जीवन से गए हो मेरे
चले जाओ मेरे दिल से भी

काश कभी तेरी यादें भी अब
तेरी तरह दिल से चली जाए
अभी जीने नहीं देती सुकून से मुझे
शायद जीने की नई राह मिल जाए।

Language: Hindi
17 Likes · 2 Comments · 1158 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
View all
You may also like:
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Mahendra Narayan
‘1857 के विद्रोह’ की नायिका रानी लक्ष्मीबाई
‘1857 के विद्रोह’ की नायिका रानी लक्ष्मीबाई
कवि रमेशराज
खुद की नज़रों में भी
खुद की नज़रों में भी
Dr fauzia Naseem shad
Charlie Chaplin truly said:
Charlie Chaplin truly said:
Vansh Agarwal
बेटी और प्रकृति
बेटी और प्रकृति
लक्ष्मी सिंह
💐अज्ञात के प्रति-8💐
💐अज्ञात के प्रति-8💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हां मुझे प्यार हुआ जाता है
हां मुझे प्यार हुआ जाता है
Surinder blackpen
*चलो अयोध्या रामलला के, दर्शन करने चलते हैं (भक्ति गीत)*
*चलो अयोध्या रामलला के, दर्शन करने चलते हैं (भक्ति गीत)*
Ravi Prakash
ମୁଁ ତୁମକୁ ଭଲପାଏ
ମୁଁ ତୁମକୁ ଭଲପାଏ
Otteri Selvakumar
वेलेंटाइन डे आशिकों का नवरात्र है उनको सारे डे रोज, प्रपोज,च
वेलेंटाइन डे आशिकों का नवरात्र है उनको सारे डे रोज, प्रपोज,च
Rj Anand Prajapati
जीवन के पल दो चार
जीवन के पल दो चार
Bodhisatva kastooriya
Wo veer purta jo rote nhi
Wo veer purta jo rote nhi
Sakshi Tripathi
औरत
औरत
Rekha Drolia
अभी दिल भरा नही
अभी दिल भरा नही
Ram Krishan Rastogi
कोरोना का आतंक
कोरोना का आतंक
Dr. Pradeep Kumar Sharma
गीत-4 (स्वामी विवेकानंद जी)
गीत-4 (स्वामी विवेकानंद जी)
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
मंजिल कठिन ॲंधेरा, दीपक जलाए रखना।
मंजिल कठिन ॲंधेरा, दीपक जलाए रखना।
सत्य कुमार प्रेमी
मिलो ना तुम अगर तो अश्रुधारा छूट जाती है ।
मिलो ना तुम अगर तो अश्रुधारा छूट जाती है ।
Arvind trivedi
तेरे दिल में मेरे लिए जगह खाली है क्या,
तेरे दिल में मेरे लिए जगह खाली है क्या,
Vishal babu (vishu)
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
कुछ नींदों से अच्छे-खासे ख़्वाब उड़ जाते हैं,
कुछ नींदों से अच्छे-खासे ख़्वाब उड़ जाते हैं,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
2319.पूर्णिका
2319.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
हर शख्स माहिर है.
हर शख्स माहिर है.
Radhakishan R. Mundhra
दिल ने दिल को दे दिया, उल्फ़त का पैग़ाम ।
दिल ने दिल को दे दिया, उल्फ़त का पैग़ाम ।
sushil sarna
"ये दुनिया बाजार है"
Dr. Kishan tandon kranti
की तरह
की तरह
Neelam Sharma
कौन कहता है छोटी चीजों का महत्व नहीं होता है।
कौन कहता है छोटी चीजों का महत्व नहीं होता है।
Yogendra Chaturwedi
मृत्युभोज
मृत्युभोज
अशोक कुमार ढोरिया
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
भाई हो तो कृष्णा जैसा
भाई हो तो कृष्णा जैसा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
Loading...