Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Oct 2022 · 1 min read

यादों से छुटकारा

तू तो चला गया मगर
तेरी याद जायेगी कैसे
सांसे ही उखड़ गई
अब ज़िंदगी चलेगी कैसे

लिखी थी जो किताब हमनें
उसके सारे शब्द मिट गए
कोरा कागज़ रह गई ये ज़िंदगी
मेरे जीवन से जब तुम गए

आदत बन गए थे तुम मेरी
इस आदत को छुड़ाऊं कैसे
सुनता नहीं तू दिल की पुकार
अब और तुझे में बताऊं कैसे

रोग दिल का लगाकर
फिर दिल से चले जाना
है नहीं ये बात अच्छी
अब क्या कहेगा ज़माना

चले जाने के बाद भी
तेरा मेरे सपनों में यूं आना
मुझे और सताने का
लग रहा है ये नया बहाना

छुटकारा चाहता है दिल
अब तेरी यादों से भी
जैसे जीवन से गए हो मेरे
चले जाओ मेरे दिल से भी

काश कभी तेरी यादें भी अब
तेरी तरह दिल से चली जाए
अभी जीने नहीं देती सुकून से मुझे
शायद जीने की नई राह मिल जाए।

Language: Hindi
15 Likes · 2 Comments · 946 Views
You may also like:
प्यार
Swami Ganganiya
चुहिया रानी
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
वसुधैव कुटुंबकम् की रीत
अनूप अंबर
फिर एक समस्या
डॉ एल के मिश्र
दिल का मोल
Vikas Sharma'Shivaaya'
कदमों में बिखर जाए।
लक्ष्मी सिंह
भोरे
spshukla09179
जीवन का आधार
Dr fauzia Naseem shad
धर्मराज
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दुनिया
Rashmi Sanjay
राष्ट्रभाषा
Prakash Chandra
जा बैठे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हिन्दू धर्म और अवतारवाद
पंकज कुमार शर्मा 'प्रखर'
■ यादों का झरोखा (संस्मरण)
*प्रणय प्रभात*
अपनी जिंदगी
Ashok Sundesha
योगा
Utsav Kumar Aarya
सोच
kausikigupta315
हम पर्यावरण को भूल रहे हैं
VINOD KUMAR CHAUHAN
* बेकस मौजू *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️कुछ दर्द खास होने चाहिये
'अशांत' शेखर
" दिव्य आलोक "
DrLakshman Jha Parimal
मैं शायर तो नहीं था
Shekhar Chandra Mitra
नहीं बचेगी जल विन मीन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुमसे बिछड़ के दिल को ठिकाना नहीं मिला
Dr Archana Gupta
निस्वार्थ पापा
Shubham Shankhydhar
उलझनें_जिन्दगी की
मनोज कर्ण
खुशियां बेवफ़ा होती है।
Taj Mohammad
Divine's prayer
Buddha Prakash
*अच्छे लगे त्यौहार (गीत)*
Ravi Prakash
! ! बेटी की विदाई ! !
Surya Barman
Loading...