Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Jan 2024 · 1 min read

यादों का कारवां

यादों का कारवां
स्मृति वो यादें
बीती बातें,
चेहरे की मुस्कान,
खुशी की तान,
उम्मीद की किरण
मिलन की तरंग,
आने की आहट
होठों पर मुस्कराहट,
अपनेपन का एहसास
लगने लगा खास,
आशा का संचरण
यादों का विवरण
नहीं होता खत्म
यादें ही जीवन में
मुस्कान लाती है,
यादें ही अश्रुपूर्ण
आंखें हो जाती है
यादों का कारवां
चलता ही रहेगा
उनके साथ रूकना नही
बस आगे ही बढ़ना है
मधु कटु यादों से ही
जीवन को संवारना है।
– सीमा गुप्ता,अलवर राजस्थान

Language: Hindi
2 Likes · 1 Comment · 94 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
* रेल हादसा *
* रेल हादसा *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
एक सपना देखा था
एक सपना देखा था
Vansh Agarwal
कभी कभी छोटी सी बात  हालात मुश्किल लगती है.....
कभी कभी छोटी सी बात हालात मुश्किल लगती है.....
Shashi kala vyas
आगे बढ़कर जीतता, धावक को दे मात (कुंडलिया)
आगे बढ़कर जीतता, धावक को दे मात (कुंडलिया)
Ravi Prakash
आराम का हराम होना जरूरी है
आराम का हराम होना जरूरी है
हरवंश हृदय
ईमानदारी. . . . . लघुकथा
ईमानदारी. . . . . लघुकथा
sushil sarna
चुनिंदा लघुकथाएँ
चुनिंदा लघुकथाएँ
Dr. Pradeep Kumar Sharma
चोर
चोर
Shyam Sundar Subramanian
या देवी सर्वभूतेषु विद्यारुपेण संस्थिता
या देवी सर्वभूतेषु विद्यारुपेण संस्थिता
Sandeep Kumar
जो दिखता है नहीं सच वो हटा परदा ज़रा देखो
जो दिखता है नहीं सच वो हटा परदा ज़रा देखो
आर.एस. 'प्रीतम'
Li Be B
Li Be B
Ankita Patel
अपनों की भीड़ में भी
अपनों की भीड़ में भी
Dr fauzia Naseem shad
मिलना था तुमसे,
मिलना था तुमसे,
shambhavi Mishra
Holding onto someone who doesn't want to stay is the worst h
Holding onto someone who doesn't want to stay is the worst h
पूर्वार्थ
अनेक मौसम
अनेक मौसम
Seema gupta,Alwar
ईश्वर के रहते भी / MUSAFIR BAITHA
ईश्वर के रहते भी / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
Let yourself loose,
Let yourself loose,
Dhriti Mishra
#संस्मरण
#संस्मरण
*Author प्रणय प्रभात*
निकाल देते हैं
निकाल देते हैं
Sûrëkhâ Rãthí
तिरंगे के तीन रंग , हैं हमारी शान
तिरंगे के तीन रंग , हैं हमारी शान
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मुझे भी जीने दो (भ्रूण हत्या की कविता)
मुझे भी जीने दो (भ्रूण हत्या की कविता)
Dr. Kishan Karigar
23/98.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/98.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
हिंदी गजल
हिंदी गजल
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Fool's Paradise
Fool's Paradise
Shekhar Chandra Mitra
कुछ मन की कोई बात लिख दूँ...!
कुछ मन की कोई बात लिख दूँ...!
Aarti sirsat
फूलों की बात हमारे,
फूलों की बात हमारे,
Neeraj Agarwal
मुक्तक-विन्यास में रमेशराज की तेवरी
मुक्तक-विन्यास में रमेशराज की तेवरी
कवि रमेशराज
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
"बिल्ली कहती म्याऊँ"
Dr. Kishan tandon kranti
मन
मन
Ajay Mishra
Loading...